Saturday, July 24, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनमौत के कुछ घंटे बाद ही किचन में खाना बना रहे थे फ्लैटमेट्स, जैसे...

मौत के कुछ घंटे बाद ही किचन में खाना बना रहे थे फ्लैटमेट्स, जैसे कहीं कुछ हुआ ही नहीं: सुशांत सिंह राजपूत का परिवार

जब सुशांत का परिवार वहाँ पहुँचा तो उन्होंने कुक को किचेन में खाना बनाते देखा। अन्य फ्लैटमेट्स भी काफी सामान्य दिख रहे थे। कोई खाना खा रहा था, तो कोई सफाई कर रहा था। परिवार के लोगों का कहना है कि आखिर सुशांत की मौत के कुछ घंटों बाद ही घर में मौजूद चारों लोग इतना सामान्य व्यवहार कैसे कर सकते हैं।

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत कथित सुसाइड केस में सीबीआई जाँच कर रही है। सीबीआई ने सुशांत सिंह के करीबियों के बयान लेने से लेकर उनके फ्लैट से कई आवश्यक सामान भी इकट्ठे किए हैं। महाराष्ट्र पुलिस से केस ट्रांसफर किए जाने के बाद अब सीबीआई की टीम जाँच के लिए कई बार सुशांत के घर पर भी गई।

सुशांत की फैमिली से जुड़े सूत्रों ने दावा किया है कि जिस दिन सुशांत का निधन हुआ था, उसके बाद उनके फ्लैटमेट्स किचन में खाना बना रहे थे। टाइम्स नाऊ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सुशांत की फैमिली से जुड़े कुछ सूत्रों ने बताया है कि 14 जून को सुशांत के निधन के बाद जब उनकी फैमिली रात को उनके फ्लैट पर पहुँची थी तो वहाँ मौजूद सभी लोग बेहद सामान्य नजर आ रहे थे।

रिपोर्ट के मुताबिक, सुशांत के सभी फ्लैटमेट्स रात को किचन में खाना बना रहे थे, जैसे कुछ हुआ ही न हो। परिजनों ने बताया कि वो रात के 11:00-11:30 के आस-पास फ्लैट पर पहुँचे थे, जहाँ पर दोपहर में तकरीबन 1 बजे एक्टर को मृत पाया गया था।

जब सुशांत का परिवार वहाँ पहुँचा तो उन्होंने कुक को किचेन में खाना बनाते देखा। अन्य फ्लैटमेट्स भी काफी सामान्य दिख रहे थे। वो बाकी दिनों की तरह ही अपनी दिनचर्या में व्यस्त थे। कोई खाना खा रहा था, तो कोई सफाई कर रहा था। परिवार के लोगों का कहना है कि आखिर सुशांत की मौत के कुछ घंटों बाद ही घर में मौजूद चारों लोग इतना सामान्य व्यवहार कैसे कर सकते हैं। शायद इसीलिए सीबीआई लगातार पिछले 5 दिनों से कुक नीरज और सिद्धार्थ पिठानी से पूछताछ कर रही है। इसके अलावा सीबीआई लगातार सुशांत के स्टाफ दीपेश सावंत और केशव से भी पूछताछ कर रही है।

सवाल उठ रहे हैं कि मुंबई पुलिस ने इस एंगल की जाँच क्यों नहीं की? पड़ोसियों का दावा है कि सुशांत सिंह राजपूत के फ्लैट में रोशनी जल्दी बंद हो गई थी और कुछ असामान्य था। तो क्या 13 जून को ही सुशांत सिंह राजपूत की हत्या हुई थी?

गौरतलब है कि जिस मकान में सुशांत सिंह राजपूत का 14 जून को शव लटका हुआ मिला था, वहाँ पर पड़ोसी ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा था कि 13 जून की रात करीब 10.30-10.45 के बीच सुशांत राजपूत के कमरे की सभी लाइट्स बंद हो गई थी। सिर्फ किचन की लाइट जल रही थी।

उन्‍होंने कहा, “सुशांत के घर की लाइट 13 जून की रात को 10.30-10.45 बजे अचानक बंद हो गई थी। ऐसा अमूमन नहीं होता था, क्‍योंकि वह देर तक जागते थे। लेकिन उस दिन किचन की लाइट को छोड़कर बाकी सारी लाइट्स जल्‍दी बंद हो गई थीं।” पड़ोसी ने यह भी बताया था कि उस रात सुशांत सिंह के घर में किसी तरह की कोई पार्टी नहीं हुई थी। पड़ोसी महिला का कहना था कि लाइट्स का बंद होना जरूर मामले में संदेह पैदा करता है कि ऐसा क्‍यों हुआ था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योगी सरकार के एक्शन के डर से 3 कुख्यात गैंगस्टर मोमीन, इन्तजार और मंगता हाथ उठाकर पहुँचे थाने, किया आत्मसमर्पण

मामला यूपी के शामली जिले का है। सभी गैंगस्टर्स ने कहा कि वो अपराध से तौबा कर भविष्य में अपराध न करने की कसम खाते हैं।

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,018FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe