Saturday, July 20, 2024
Homeविविध विषयअन्य100 नहीं, 107 मेडल... भारत ने 28 स्वर्ण पदकों के साथ खत्म किया एशियन...

100 नहीं, 107 मेडल… भारत ने 28 स्वर्ण पदकों के साथ खत्म किया एशियन गेम्स 2023 में अपना सफर, पिछली बार के मुकाबले 36 मेडल ज़्यादा मिले

तीरदांजी में मिले मेडल अलग-अलग हासिल किए गए हैं। कुल मिलाकर देखें तो 7 अक्टूबर को भारत को 6 गोल्ड, 4 सिल्वर और 2 ब्रॉन्ज समेत 12 मेडल मिले।

एशियन गेम्स (Asian Games 2023) में भारत 655 खिलाड़ियों के साथ अब तक के सबसे बड़े दल के साथ उतरा था। इस दल से 140 करोड़ देशवासियों को बहुत अधिक उम्मीदें थीं। खिलाड़ी इन उम्मीदों पर खतरे पर उतरे हैं। भारत ने इस साल अपनी झोली में 28 गोल्ड, 38 सिल्वर और 41 ब्रॉन्ज के साथ रिकॉर्ड 107 मेडल जमा किए।

चीन के हांगझोउ में खेले जा रहे 19वें एशियन गेम्स के 17वें दिन भारत ने मेडल का अपना शतक भी पूरा किया। 7 अक्टूबर को जीते मेडल की बात करें तीरंदाजी में भारतीय महिला और पुरुष टीम ने सिल्वर मेडल अपने नाम किया। वहीं कुश्ती में दीपक पूनिया ने सिल्वर मेडल, हॉकी में भारतीय महिला टीम ने ब्रॉन्ज मेडल, कबड्डी में पुरुष और महिला टीम ने गोल्ड मेडल जीता।

इसके अलावा, भारतीय क्रिकेट टीम ने गोल्ड मेडल, बैडमिंटन में सात्विक-चिराग ने इतिहास रचते हुए पुरुष युगल में गोल्ड मेडल, तीरंदाजी में अभिषेक वर्मा ने सिल्वर तो वहीं ओजस प्रवीण देवताले, ज्योति सुरेखा वेन्नम गोल्ड मेडल और अदिति स्वामी ने ब्रॉन्ज मेडल जीता। तीरदांजी में मिले मेडल अलग-अलग हासिल किए गए हैं। कुल मिलाकर देखें तो 7 अक्टूबर को भारत को 6 गोल्ड, 4 सिल्वर और 2 ब्रॉन्ज समेत 12 मेडल मिले।

बता दें कि इससे पहले साल 2018 में आयोजित हुए एशियन गेम्स में भारतीय खिलाड़ियों ने 16 गोल्ड, 23 सिल्वर, 31 ब्रॉन्ज समेत कुल 71 मेडल जीते थे। तब भारत मेडल टैली (पदक तालिका) में 8वें नंबर था। हालाँकि इस बार भारतीय खिलाड़ियों ने अपना प्रदर्शन सुधारते हुए रिकॉर्ड 28 गोल्ड के साथ 107 मेडल अपने नाम किए हैं। इसमें 38 सिल्वर और 41 ब्रॉन्ज मेडल भी शामिल हैं। यही नहीं इस बार भारत के पदक तालिका में भी सुधार हुआ है और भारत चौथे नंबर पर है।

अन्य टॉप-3 देशों के आँकड़े देखें तो 199 गोल्ड के साथ चीन पहले, 51 गोल्ड के साथ जापान दूसरे और 40 गोल्ड मेडल के साथ कोरिया तीसरे नंबर पर रहा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टीम से बाहर होने पर मोहम्मद शमी का वायरल वीडियो, कहा – किसी के बाप से कुछ नहीं लेता हूँ, बल्कि देता हूँ

"मुझे मौका दोगे तभी तो मैं अपनी स्किल दिखाऊँगा, जब आप हाथ में गेंद दोगे। मैं सवाल नहीं पूछता। जिसे मेरी ज़रूरत है, वो मुझे मौका देगा।"

थूक लगी रोटी सोनू सूद को कबूल है, कबूल है, कबूल है! खुद की तुलना भगवान राम से, खाने में थूकने वाले उनके लिए...

“हमारे श्री राम जी ने शबरी के जूठे बेर खाए थे तो मैं क्यों नहीं खा सकता। बस मानवता बरकरार रहनी चाहिए। जय श्री राम।” - सोनू सूद

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -