Saturday, July 31, 2021
Homeविविध विषयअन्यकोविड फैसिलिटी, भोजन, दान: देशभर में कोरोना की दूसरी लहर के बीच एक बार...

कोविड फैसिलिटी, भोजन, दान: देशभर में कोरोना की दूसरी लहर के बीच एक बार फिर मदद को आगे आए मंदिर

वडोदरा का बीएपीएस स्वामीनारायण मंदिर हो, पुरी का श्री जगन्नाथ मंदिर, मुंबई का पवन धाम, बनारस का काशी विश्वनाथ मंदिर या गुजरात के बोटाद जिले में स्थित प्रसिद्ध सारंगपुर हनुमान मंदिर.... ऐसे कई मंदिर है जो कोरोना संकट में एक बार फिर अपनी हॉस्पिटल व्यवस्था, क़्वारण्टीन सेण्टर, भोजन की तमाम सुविधाओं के साथ जनता की सेवा में लग गए हैं।

देश कोरोना वायरस की दूसरी लहर के साथ संघर्ष कर रहा है। इस बीच देश भर के कई मंदिर इस लड़ाई को लड़ने में सहयोग करने के लिए आगे आए हैं। गुजरात में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच वडोदरा के बीएपीएस स्वामीनारायण मंदिर ने यग्नपुरुष सभागुरु को कोविड-19 फैसिलिटी में बदल दिया। 

कोविड-19 केयर सेंटर में 500 बेड, ऑक्सीजन सुविधाओं जैसे तरल ऑक्सीजन टैंक और पाइप्ड ऑक्सीजन लाइन, आईसीयू बेड और वेंटिलेटर उपलब्ध है। यह सुविधा 13 अप्रैल से शुरू हुई है और अब तक इसमें 45 कोविड-19 मरीजों को आगे के इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।

BAPS वडोदरा में कोविद -19 फैसिलिटी (साभार: Desh Gujarat on Twitter)

श्री स्वामीनारायण मंदिर के ज्ञान वत्सल स्वामी ने बताया, “हम रोगियों के लिए सभी गैर-चिकित्सा सुविधाएँ प्रदान कर रहे हैं। हमने ऑक्सीजन और वेंटिलेटर की व्यवस्था की है जिसमें ICU कमरों के अलावा पंखे और एयर-कूलर भी शामिल हैं। वर्तमान में, 300 बेड चालू हैं और 200 जल्द ही जोड़े जाएँगे।”

TV9 गुजराती की नवनिर्मित कोविड केयर फैसिलिटी का कवरेज

पुरी का श्री जगन्नाथ मंदिर

पुरी के श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन ने अपने नीलाचल भक्त निवास को कोविड -19 केयर सेंटर में परिवर्तित करने का निर्णय लिया है। 120 बिस्तरों वाली यह सुविधा कोरोना वायरस से संक्रमित मंदिर से जुड़े अधिकारियों के लिए एक समर्पित केंद्र के रूप में भी काम करेगी।

इसके अलावा, इस लड़ाई में सरकार की सहायता के लिए मंदिर ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 1.51 करोड़ रुपए का दान दिया था। मंदिर के पंजीकरण के पत्र में कहा गया, “श्री जगन्नाथ मंदिर, पुरी की प्रबंध समिति के निर्णय के अनुसार, मंदिर प्रशासन की ओर से COVID-19 के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में ₹15,51.00.000 / – (एक करोड़ इक्यावन लाख) की राशि का योगदान दिया है।” जगन्नाथ मंदिर के अलावा उड़ीसा के 62 अन्य छोटे मंदिरों ने मुख्यमंत्री राहत कोष में योगदान दिया है।

पवन धाम अपनी 4 मंजिला इमारत को कोविड सेंटर में बदला

मुंबई के कांदिवली के पवन धाम मंदिर ने एक बार फिर अपनी चार मंजिला इमारत को 100 बेड से सुसज्जित कोविड -19 क्वारंटाइन सेंटर में बदल दिया है। 100 में से, 50 बेड एक ऑक्सीजन कंसंट्रेटर यूनिट, ऑक्सीमीटर, पल्स मीटर, पोर्टेबल बीपी उपकरण, मॉनिटर मशीन से लैस हैं। इसके अतिरिक्त, 10 डॉक्टरों सहित 50 से अधिक चिकित्सा कर्मचारी सुविधा में तैनात हैं।

पवन धाम में निर्मित कोविद -19 फैसिलिटी का इंडिया टीवी का कवरेज

मंदिर के एक प्रबंध समिति के सदस्य संतोष सिंह कहते हैं, “हमने अब तक 50 बिस्तर तैयार किए हैं, हमने डॉक्टरों, चिकित्सा कर्मचारियों की तरह स्वास्थ्य सेवा के लिए एपेक्स अस्पताल के साथ करार किया है। हम ऑक्सीजन के सप्लाई की प्रतीक्षा करते हैं, उससे पहले हम शुरू नहीं कर सकते हैं। कुछ सप्लायर ने आश्वासन दिया गया है, लेकिन देखते हैं कि क्या होता है।” मंदिर को पिछले साल भी एक कोविड सेंटर में परिवर्तित किया गया था, जिसमें 2000 से अधिक मरीजों का इलाज किया गया था।

अन्य मंदिर

हिंदुओं के सबसे पवित्र मंदिरों में से एक काशी विश्वनाथ मंदिर में कोविड-10 मरीजों को खाना खिलाया गया था।

गुजरात के बोटाद जिले में प्रसिद्ध सारंगपुर हनुमान मंदिर ने पिछले साल कोरोना वायरस मरीजों के लिए अपनी धर्मशाला को 100 बिस्तरों वाले अस्पताल में बदल दिया था।

पिछले साल भी, जब महामारी की पहली लहर ने देश को हिला दिया था, कई हिंदू मंदिरों ने दान में करोड़ों रुपए खर्च किए थे, जरूरतमंदों के लिए भोजन और आश्रय प्रदान किया था और संकट के समय राष्ट्र का समर्थन करने के लिए खड़े हुए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तानी मंत्री फवाद चौधरी चीन को भूले, Covid के लिए भारत को ठहराया जिम्मेदार, कहा- विश्व ‘इंडियन कोरोना’ से परेशान

पाकिस्तान के मंत्री फवाद चौधरी ने कहा कि दुनिया कोरोना महामारी पर जीत हासिल करने की कगार पर थी, लेकिन भारत ने दुनिया को संकट में डाल दिया।

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,277FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe