Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजभगवान अयप्पा पर अपमानजनक टिप्पणी करने वाला नास्तिक गिरफ़्तार, हिन्दू संगठनों का प्रदर्शन: CM...

भगवान अयप्पा पर अपमानजनक टिप्पणी करने वाला नास्तिक गिरफ़्तार, हिन्दू संगठनों का प्रदर्शन: CM केसीआर को भाजपा ने घेरा

एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा कि बीआरएस सरकार सीतामाता का अपमान करने वाले मुनव्वर फारूकी को सुरक्षा देती है। साथ ही ऐसे बैठक और कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति देती है जहाँ भगवान अयप्पा स्वामी के जन्म पर अपमानजनक टिप्पणी की जाती है।

तेलंगाना पुलिस ने बैरी नरेश को भगवान अयप्पा और हिंदू देवी-देवताओं के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। बैरी नरेश ने दो दिन पहले कोडंगल निर्वाचन क्षेत्र में आयोजित एक जनसभा में भगवान अयप्पा स्वामी के लिए अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया था। नरेश के खिलाफ कई पुलिस स्टेशनों में मामले दर्ज किए गए थे। हैदराबाद पुलिस के साइबर क्राइम सेल की तरफ से भी अपमानजनक भाषा के इस्तेमाल के लिए नरेश पर मामले दर्ज किए गए हैं।

बैरी नरेश द्वारा की अपमानजनक टिप्पणी का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद से ही भगवान अयप्पा के भक्त आक्रोशित हो गए। इसे लेकर हिंदू संगठनों और भगवान अयप्पा के भक्तों ने राज्य भर में विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी ‘भारत नास्तिक समाजम्’ के अध्यक्ष बैरी नरेश की गिरफ्तारी की माँग कर रहे थे। मिल रही जानकारी के मुताबिक, तेलंगाना पुलिस ने हनमकोंडा जिले से नरेश को गिरफ्तार किया है।

नरेश के खिलाफ हिंदू संगठनों और भगवान अयप्पा के भक्तों ने कई पुलिस स्टेशनों में मामला दर्ज कराया है। उसके खिलाफ राज्य भर में आईपीसी की धारा 153ए, 295ए, 208 और 505(2) के तहत मामले दर्ज किए गए हैं। इसके अलावा पुलिस के साइबर क्राइम सेल ने भी संज्ञान लेते हुए मामला दर्ज किया है।

तेलंगाना भाजपा प्रमुख बंडी संजय कुमार (Bandi Sanjay Kumar) ने पूरे मामले में तेलंगाना की भारत राष्ट्र समिति (BRS) को घेरा है। उन्होंने केसीआर पर ईशनिंदा को बढ़ावा देने का आरोप लगाया। संजय कुमार ने ट्वीट किया कि तेलंगाना में हिंदू देवी-देवताओं को गाली देने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं होती। उन्होंने पूछा कि केसीआर सच्चे हिंदू होने का दावा करते हैं लेकिन अब तक कोडंगल में भगवान विष्णु, शिव और अय्यप्पा को अपमानित करने वाले के खिलाफ क्या कार्रवाई हुई?

एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा कि बीआरएस सरकार सीतामाता का अपमान करने वाले मुनव्वर फारूकी को सुरक्षा देती है। साथ ही ऐसे बैठक और कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति देती है जहाँ भगवान अयप्पा स्वामी के जन्म पर अपमानजनक टिप्पणी की जाती है।

भाजपा एमएलए राजा सिंह ने भी ट्विटर पर वीडियो को शेयर करते हुए सरकार और तेलंगाना पुलिस से सवाल पूछा था, “क्या हम इस व्यक्ति के खिलाफ कोई कार्रवाई की उम्मीद कर सकते हैं? जो हमारे देवताओं और भगवान अयप्पा को गाली दे रहा है।”

आपको बता दें कि बैरी नरेश ने दो दिन पहले कोडंगल निर्वाचन क्षेत्र में आयोजित एक जनसभा में बोलते हुए भगवान अयप्पा स्वामी के लिए अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया था। जिसे लेकर शुक्रवार (30 दिसंबर 2022) को पूरे प्रदेश में अयप्पा स्वामी के भक्तों ने विरोध प्रदर्शन किया और बैरी नरेश के खिलाफ कार्रवाई की माँग की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देशद्रोही, पंजाब का सबसे भ्रष्ट आदमी, MeToo का केस… खालिस्तानी अमृतपाल का समर्थन करने वाले चन्नी की रवनीत बिट्टू ने उड़ाई धज्जियाँ, गिरिराज बोले...

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री देशद्रोही की तरह व्यवहार कर रहा है, देश को गुमराह कर रहा है। गिरिराज सिंह बोले - ये देश की संप्रभुता पर हमला।

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -