Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजसड़क पर पढ़ी नमाज तो होगी FIR: UP पुलिस ने बकरीद से पहले मस्जिदों...

सड़क पर पढ़ी नमाज तो होगी FIR: UP पुलिस ने बकरीद से पहले मस्जिदों पर चिपका दिया नोटिस, लाउडस्पीकर से ऐलान भी

वहीं, भोपाल में सड़कों पर नमाज नहीं पढ़ने की हिदायत दी गई है। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि कुर्बानी का वीडियो सोशल मीडिया पर ना डालें। इसको लेकर मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड ने एक एडवाइजरी जारी की है। एडवाइजरी में कहा गया है कि गैर-जरूरी तौर पर सड़कों पर नमाज अता न की जाए।

सड़क पर नमाज पढ़ने से ना सिर्फ आम लोगों को भारी परेशानी होती है, बल्कि कानून-व्यवस्था की चुनौती भी खड़ी हो जाती है। अब बकरीद को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में पुलिस प्रशासन ने मुस्लिमों से सड़क पर नमाज नहीं पढ़ने की चेतावनी दी है। सड़क पर ईद की नमाज पढ़ने वालों के खिलाफ प्रशासन मामला दर्ज करेगा।

ईद उल अजहा को देखते हुए पुलिस ने बुधवार (28 जून 2023) को मेरठ के सभी मस्जिदों पर प्रशासन का आदेश चस्पा किया है। आदेश में कहा गया है कि ईदगाह या मस्जिदों के बाहर नमाज अदा की गई तो संबंधित व्यक्ति के खिलाफ तत्काल रिपोर्ट दर्ज की जाएगी और उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

इसको लेकर मस्जिदों के मौलवियों का कहना है कि सरकार का जो आदेश है, उससे सभी लोगों को अवगत करा दिया गया है। उन्हें इसका पालन करना चाहिए। वहीं-वहीं, मेरठ शहर के अलग-अलग मस्जिद के मौलवियों, शहर के काजी सहित अन्य मुस्लिम धर्मगुरुओं ने लोगों से सरकार के आदेश का पालन करने के लिए कहा है।

इससे पहले देवबंद स्थित दारुल उलूम मदरसा ने भी मुस्लिमों से अपील करते हुए कहा था, “हमारे बड़े बुजुर्गों ने हमेशा प्रतिबंधित जानवरों की कुर्बानी से मना किया है। इसलिए हर मुस्लिम इसका ख्याल रखें और प्रतिबंधित जानवरों की कुर्बानी से दूर रहे।” खुले में और सड़कों पर कुर्बानी नहीं करने के लिए भी कहा।

वहीं, यूपी के अमेठी में भी प्रशासन नेे इसी तरह की चेतावनी दी है। प्रशासन ने मुस्लिम धर्मगुरुओं को साफ-साफ कहा है कि प्रतिबंधित पशुओं यानी गोवंश का किसी भी कीमत पर कुर्बानी नहीं होनी चाहिए। इसके साथ ही कुर्बानी बाहर या सार्वजनिक स्थानों पर भी करने से मना किया गया है।

अमेठी पुलिस लाउडस्पीकर के जरिए मुस्लिम समाज के लोगों और मौलवियों से अपील कर रही है कि नमाज किसी भी हालत में सार्वजनिक स्थानों पर नहीं होनी चाहिए। नमाज पर मस्जिदों या किसी परिसर में पढ़ने के लिए कहा गया है। सुरक्षा को देखते हुए अमेठी पुलिस को एक कंपनी PAC और 100 रिक्रूट एसआई दिए गए हैं।

बताते चलें कि मेरठ में हिंदूवादी नेता सचिन सिरोही ने ऐलान किया है कि यदि बकरीद के दिन सड़क पर नमाज अता की गई तो वे हिंदूवादी कार्यकर्ताओं के साथ सड़क पर बैठक हनुमान चालीसा और सुंदर कांड का पाठ। इसको देखते हुए भी प्रशासन सतर्क हो गया है। गुुरुवार (29 जनवरी 2023) को देश भर में बकरीद मनाया जाएगा।

वहीं, भोपाल में सड़कों पर नमाज नहीं पढ़ने की हिदायत दी गई है। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि कुर्बानी का वीडियो सोशल मीडिया पर ना डालें। इसको लेकर मध्य प्रदेश वक्फ बोर्ड ने एक एडवाइजरी जारी की है। एडवाइजरी में कहा गया है कि गैर-जरूरी तौर पर सड़कों पर नमाज अता न की जाए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

टीम से बाहर होने पर मोहम्मद शमी का वायरल वीडियो, कहा – किसी के बाप से कुछ नहीं लेता हूँ, बल्कि देता हूँ

"मुझे मौका दोगे तभी तो मैं अपनी स्किल दिखाऊँगा, जब आप हाथ में गेंद दोगे। मैं सवाल नहीं पूछता। जिसे मेरी ज़रूरत है, वो मुझे मौका देगा।"

थूक लगी रोटी सोनू सूद को कबूल है, कबूल है, कबूल है! खुद की तुलना भगवान राम से, खाने में थूकने वाले उनके लिए...

“हमारे श्री राम जी ने शबरी के जूठे बेर खाए थे तो मैं क्यों नहीं खा सकता। बस मानवता बरकरार रहनी चाहिए। जय श्री राम।” - सोनू सूद

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -