Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाज'72 दिन में मिटा दिया सबूत': सुशांत की मैनेजर की 14वें तले से गिर...

’72 दिन में मिटा दिया सबूत’: सुशांत की मैनेजर की 14वें तले से गिर कर हुई थी मौत, CBI ने जाँच के बाद कहा – ये रेप-हत्या नहीं

महाराष्ट्र से भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे और उनके बेटे नीतेश राणे ने भी दावा किया था कि दिशा सालियान और सुशांत सिंह की मौत में कनेक्शन है। दोनों ने दावा किया था कि दिशा की हत्या से पहले उनका रेप किया गया था। जब सुशांत सिंह राजपूत को इसकी जानकारी मिली और वे इसका खुलासा करने वाले थे, उससे पहले ही उनकी भी हत्या कर दी गई।

संदेहास्पद स्थिति में मृत मिले बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की पूर्व मैनेजर दिशा सालियान की मौत (Disha Saliyan Death) को लेकर केंद्रीय एजेंसी CBI ने एक महत्वपूर्ण खुलासा किया है। सारी आशंकाओं को दूर करते हुए CBI दिशा की मौत को एक दुर्घटना बताया है। इसके साथ ही एजेंसी ने यह भी कहा कि सुशांत सिंह की मौत और दिशा की मौत में कोई कनेक्शन नहीं है।

CBI ने दावा किया है कि दिशा की हत्या नहीं हुई थी। वह नशे की हालत में थी और संतुलन बिगड़ने के कारण 14वीं मंजिल से गिर गई थीं, जिससे उनकी मौत हो गई थी। उनकी हत्या के कोई सबूत नहीं मिले हैं। यह सिर्फ एक दुर्घटना था।

बता दें कि 8 जून 2020 की रात को एक बिल्डिंग की 14वीं मंजिल से गिरने के कारण दिशा की मौत हो गई थी। दिशा की मौत के ठीक छह दिन बाद यानी 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत ने भी आत्महत्या कर ली थी। दिशा सुशांत सिंह राजपूत की मैनेजर रह चुकी थीं। इसके बाद लोगों ने इन दोनों की मौत को एक साजिश बताते हुए CBI जाँच की माँग की थी।

यहाँ तक महाराष्ट्र से भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे और उनके बेटे नीतेश राणे ने भी दावा किया था कि दिशा सालियान और सुशांत सिंह की मौत में कनेक्शन है। दोनों ने दावा किया था कि दिशा की हत्या से पहले उनका रेप किया गया था। जब सुशांत सिंह राजपूत को इसकी जानकारी मिली और वे इसका खुलासा करने वाले थे, उससे पहले ही उनकी भी हत्या कर दी गई।

हालाँकि, CBI के हालिया खुलासे के बाद भी नारायण राणे ने अपनी बात पर टिके हुए हैं। उन्होंने बुधवार (23 नवंबर 2022) को ट्वीट कर कहा, “मैं दिशा मामले में CBI जाँच को दोष नहीं दे रहा। 72 दिन बाद इस मामला में CBI आई। 8 जून से MVA सरकार (उद्धव ठाकरे वाली सरकार) की मदद से ‘सफाई’ इतनी अच्छी तरह से की गई थी कि जब तक सीबीआई आई, तब तक कुछ भी बरामद नहीं किया जा सका। सब कवरअप के मास्टर!”

हालाँकि, CBI इस मामले में अपनी क्लोजर रिपोर्ट कब देगी, इसको लेकर अभी कोई जानकारी सामने नहीं है। बता दें कि दिशा की मौत की जाँच के लिए CBI ने अलग से कोई केस दर्ज नहीं किया था। इसकी जाँच सुशांत सिंह की मौत की जाँच के साथ ही की जा रही थी। शुरुआत में इस मामले की जाँच मुंबई पुलिस कर रही थी।

नाम नहीं छापने की शर्त पर सीबीआई के एक अधिकारी ने ईटी को बताया, “जाँच में हमें पता चला कि दिशा ने 8 जून की रात अपने जन्मदिन के अवसर पर घर में पार्टी रखी थी। शायद अल्कोहल ज्यादा पी लेने की वजह से दिशा ने अपना बैलेंस खो दिया। इस कारण वो फ्लैट से नीचे गिर पड़ीं।”

एक अन्य अधिकारी ने बताया, “नारायण राणे इस आरोप के कोई सबूत नहीं मिले हैं कि दिशा के साथ रेप किया गया था और मदद के लिए उसने सुशांत सिंह राजपूत को फोन किया था, और इसमें किसी तरह की राजनीतिक साजिश थी। मामले की संवेदनशीलता और आरोपों की प्रकृति के कारण परिस्थितियों की जाँच करना आवश्यक था।”

बता दें कि 28 साल की दिशा सालियान एक सेलिब्रिटी मैनेजर थीं। उन्होंने कुछ समय के लिए सुशांत सिंह राजपूत के साथ भी काम किया था। कहा जाता है कि 8 जून 2020 की आधी रात को वह मुंबई के मलाड स्थित गैलेक्सी रीजेंट बिल्डिंग की 14वीं मंजिल से गिर गई थीं। इसमें उनकी मौत हो गई थी। जिस समय यह हादसा हुआ था, उस समय वह बंटी सजदेह की मैनेजमेंट कंपनी ‘कॉर्नर स्टोन’ के लिए काम कर रही थीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -