Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिमृतकों के परिजनों को ₹4 लाख और पीड़ितों को ₹1 लाख: CM योगी ने...

मृतकों के परिजनों को ₹4 लाख और पीड़ितों को ₹1 लाख: CM योगी ने कहा- हाथरस हादसे में साजिश से इनकार नहीं, हाई कोर्ट के रिटायर जज की अगुवाई में जाँच

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के बच्चों की पढ़ाई का जिम्मा उत्तर प्रदेश सरकार उठाएगी। सीएम योगी ने घटनास्थल पर जाकर उसका भी निरीक्षण किया। इस दौरान भारी बारिश हो रही थी। बारिश की वजह से मैदान में पानी भर गया था। मुख्यमंत्री के साथ पूरा प्रशासनिक अमला मौजूद था। इस दौरान उन्होंने प्रशासन को कई निर्देश दिए।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार (3 जुलाई 2024) को हाथरस जिले का दौरा किया। उन्होंने मंगलवार (2 जुलाई) को भोले बाबा के सत्संग के दौरान मची भगदड़ के पीड़ितों एवं मृतकों के परिजनों से मुलाकात की। उन्होंने राहत एवं बचाव कार्यों की समीक्षा के साथ-साथ मृतकों के परिजनों के परिजनों 4 लाख और घायलों को 1 हजार रुपए आर्थिक मदद देने की बात कही।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर हादसे की जाँच के लिए SIT (विशेष जाँच दल) का गठन किया गया है। राज्य सरकार ने हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज की अगुवाई में घटना की न्यायिक जाँच करवाने का भी फैसला किया है। मीडिया से बात करते हुए CM योगी ने कहा कि ADG आगरा के नेतृत्व में गठित टीम ने अपनी प्रारंभिक जाँच रिपोर्ट सौंप दी है।

सीएम ने कहा कि इस रिपोर्ट में कई ऐसी बातें सामने आईं है, जिनकी गहराई से जाँच बेहद जरूरी बताई गई हैं। राहत और बचाव कार्यों को पहली प्राथमिकता बताते हुए मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि इसके आयोजकों को पूछताछ के लिए बुलाया गया है। बकौल योगी आदित्यनाथ, इस घटना में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ मामला दर्ज करके जाँच शुरू कर दी गई है।

CM योगी ने आशंका जताई है कि इस प्रकार की घटना सिर्फ एक हादसा नहीं हैं। इस घटना के पीछे कोई न कोई जरूर है। हालाँकि, उन्होंने यह भी कहा कि अगर ये हादसा भी है तो उसके पीछे जिम्मेदार कौन है, इसका पता लगाना जरूरी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस घटना के पीछे जो भी होगा उसको खोज कर सजा दी जाएगी। न्यायिक जाँच में शामिल रिटायर्ड जज और पूर्व पुलिस अधिकारी शासन को रिपोर्ट देंगे कि किन कदमों को उठाकर ऐसी घटनाओं को रोका जा सकता है।

भोले बाबा को छूने के लिए मची भगदड़

CM योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मृतकों में UP के अलावा मध्य प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान के लोग भी शामिल हैं। 31 घायलों का एटा, अलीगढ़ और हाथरस के अस्पतालों में इलाज करवाया जा रहा है। इन घायलों में अधिकतर की हालत खतरे से बाहर है।

यह हादसा तब हुआ, जब कथावाचक भोले बाबा अपनी कथा के बाद वापस जा रहे थे। इस दौरान कई महिलाएँ उन्हें छूने के आगे बढ़ीं। इस दौरान सेवादार भी लोगों को धक्का देते रहे। इसी के चलते भीड़ का दबाव बढ़ता चला गया।

मुख्यमंत्री योगी ने आगे बताया कि इस तरह के कार्यक्रम में सेवादार आयोजन के अंदर प्रशासन को अंदर घुसने नहीं देते हैं। घटना के बाद आयोजकों ने इस मामले को दबाने की बहुत कोशिश की थी। जब प्रशासनिक अधिकारी घायलों को अस्पताल ले जाने लगे तो अधिकतर सेवादार वहाँ से भाग निकले।

हादसे पर राजनीति दुर्भाग्यपूर्ण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष के कुछ नेताओं की इस हादसे पर राजनीति करने के लिए आलोचना की। उन्होंने कहा कि हर कोई देख रहा है कि सज्जन (भोले बाबा) के साथ फोटो किसके हैं। उनके राजनीतिक संबंध किसके साथ है, ये हर कोई देख रहा है।

बताते चलें कि भोले बाबा उर्फ नारायण के कार्यक्रम में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की तस्वीरें और उनके साथ जयकारे लगाते हुए वीडियो भी वायरल हो रहे हैं। इसी क्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा कि निर्दोषों के जीवन के साथ खिलवाड़ करने वालों को कठोर सजा मिलेगी।

स्वार्थियों की साजिश के शिकार हुए बेगुनाह

मुख्यमंत्री योगी ने बताया कि धार्मिक आयोजन को देखते हुए कार्यक्रम स्थल पर ज्यादा पुलिस फ़ोर्स तैनात नहीं थी। आयोजकों का मानना था कि अंदर के हालात सेवादार हालात सँभाल लेंगे। उन्होंने बताया कि पुलिस फ़ोर्स बाहर तैनात थी। हादसे के बाद सेवादारों द्वारा घायलों को छोड़कर भागने की घटना को सीएम योगी ने साजिश करार दिया।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कुछ स्वार्थी लोगों की साजिश के शिकार कई बेगुनाह बन गए। इससे पहले योगी आदित्यनाथ ने अस्पताल जाकर इलाज करवा रहे पीड़ितों से मुलाकात की। उन्होंने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर कहा कि हाथरस की दुर्घटना में घायल हुए लोगों से आज अस्पताल में भेंट कर उनका कुशल-क्षेम जाना और चिकित्सकों से उनके उपचार के संबंध में जानकारी प्राप्त की।

उन्होंने लिखा, “कुशल चिकित्सकों के नेतृत्व में सभी का समुचित उपचार शीर्ष प्राथमिकता पर किया जा रहा है। इस कठिन समय में राज्य सरकार पूरी तत्परता और संवेदनशीलता के साथ पीड़ितों और उनके परिवार के साथ खड़ी है। सभी घायलों को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्राप्ति हो, प्रभु श्रीराम से यही प्रार्थना है।”

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के बच्चों की पढ़ाई का जिम्मा उत्तर प्रदेश सरकार उठाएगी। सीएम योगी ने घटनास्थल पर जाकर उसका भी निरीक्षण किया। इस दौरान भारी बारिश हो रही थी। बारिश की वजह से मैदान में पानी भर गया था। मुख्यमंत्री के साथ पूरा प्रशासनिक अमला मौजूद था। इस दौरान उन्होंने प्रशासन को कई निर्देश दिए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -