Saturday, November 28, 2020
Home देश-समाज खालिद सैफी के बच्चों के नाम पर राणा अय्यूब की इमोशनल उल्टी: उन बच्चों...

खालिद सैफी के बच्चों के नाम पर राणा अय्यूब की इमोशनल उल्टी: उन बच्चों का क्या जिनके पिता को दंगाइयों ने मार डाला

खालिद सैफी पर दंगों के लिए विदेशों से चंदा जुटाने का आरोप है। उसने जाकिर नाइक से मुलाकात की। उमर खालिद और ताहिर हुसैन की मीटिंग कराई। फिर भी राणा अय्यूब चाहती हैं कि आप उसके बच्चों के मासूम सवालों में उलझकर ये भूल जाएँ कि दिल्ली दंगों ने कितने बच्चों के सिर से पिता का हाथ छीना।

दिल्ली में फरवरी में हुए हिंदू विरोधी दंगे कितनी बड़ी साजिश का नतीजा थे इसको लेकर हम लगातार तथ्य सामने लाते रहे हैं। इस मामले में दंगों के सूत्रधारों को बचाने के लिए संवेदनाओं की आड़ में घटिया हथकंडे लगातार अपनाए जा रहे हैं। सफूरा जरगर के बाद अब खालिद सैफी के लिए भी इसी तरह के कुत्सित प्रयास शुरू हो गए हैं।

खालिद सैफी के गुनाहों पर भावुकता की लीपापोती करने का जिम्मा उठाया है इस्लामिक पत्रकारिता करने वाली पत्रकार राणा अय्यूब ने। इसी मिशन के तहत उसने पृष्ठभूमि बनानी शुरू कर दी है।

सोमवार को राणा अय्यूब ने एक ट्वीट किया है। ट्वीट में वो खालिद सैफी के बच्चों के साथ नजर आ रही हैं। अपने 1.1 मिलियन फॉलोवर वाले ट्विटर हैंडल से उन्होंने लोगों को ये बताने की कोशिश की है कि खालिद सैफी जिसने एंटी सीएए प्रोटेस्ट में भाग लिया था, उसके बच्चे अब उसकी राह देख रहे हैं।

राणा अय्यूब एक फोटो साझा करते बेहद भावुकता के साथ लिखती हैं, “खालिद सैफी के परिवार के साथ हूँ जिसे एंटी सीएए प्रोटेस्ट करने पर गिरफ्तार किया गया। पहले दो महीनों में उसके बच्चे पूछ रहे थे कि क्या डैडी ईद के लिए आएँगे। फिर पूछा कि क्या वो मेरे जन्मदिन पर आएँगे। इन सवालों का अब भी कोई जवाब नहीं है, क्योंकि सैफी अब भी जेल में बंद है।”

इस ट्वीट के बाद कुछ लोग हैं जो ये सब देखकर भावुक हो रहे हैं और दुआ कर रहे हैं कि सैफी के परिवार के सिर से ये मुश्किल का समय टल जाए। लेकिन सवाल है कौन सा मुश्किल समय? क्या ये मुश्किल समय सैफी के घर-परिवार पर उस परिवार के मुकाबले ज्यादा है जिसने दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों में अपने पिता, अपने भाई और अपने बेटे को खो दिया।

क्या ये दुख उससे बढ़कर है जिससे वो बच्चा बड़ा होकर महसूस करेगा जिसके पिता बस उसके लिए दूध लेने निकले थे और दंगाइयों ने उनकी जान ले ली। क्या ये दुख विनोद के बेटे के दुख से ज्यादा है जिसके पिता को बीच सड़क पर नारा-ए-तकबीर और अल्लाह हू अकबर के नारों के बीच में मार दिया गया।

राणा अय्यूब! ये दुख, ये संकट उस 15 साल के नितिन के परिवार के दुख से बड़ा नहीं है जो चाउमिन लेने निकला और घर सिर्फ़ उसकी लाश आई। रतन लाल का सोचा है कभी? क्या गलती थी उनके बच्चों की उनका पिता तो केवल उन लोगों की सुरक्षा में तैनात हुआ था, जिन्होंने उसकी जान ले ली।

रतन लाल की पत्नी का क्या गुनाह था? ये संकट वो कहर नहीं है जिसे दलित दिनेश समेत कई हिंदू परिवारों ने 24-25 फरवरी की रात झेला। उत्तराखंड के दिलबर नेगी को जलती आग में उसके हाथ-पाँव काटकर फेंक दिया गया? क्या उसके माँ-बाप नहीं थे? उसका परिवार नहीं था? आईबी के अंकित शर्मा का हाल भूल जाएँ क्या?

कौन होती हैं राणा अय्यूब ऐसे प्रयास करके किसी की गिरफ्तारी को मानवीय कोण देने वाली और केवल मजहब की पत्रकारिता करके अपने फॉलोवर्स का ब्रेनवॉश करने वाली? उन्हें नहीं पता क्या जिस व्यक्ति को लेकर वह यह बात कर रही हैं कि वो कौन है? उस पर क्या आरोप हैं?

अगर नहीं पता तो जानिए कि खालिद सैफी वही शख्स है जिस पर आरोप लगा है कि उसने सिंगापुर सहित मध्य पूर्व के एक देश से दंगों के लिए धन जुटाया और मलेशिया तक जाकर जाकिर नाइक से मुलाकात की। इसके अलावा उमर खालिद और ताहिर हुसैन की शाहीन बाग में मीटिंग कराने वाला भी यही शख्स था। जिसके संबंध बड़े बड़े मीडिया गिरोह के लोगों से भी थे

आज जैसे-जैसे दिल्ली दंगों की परतें खुल रही है, साफ मालूम चल रहा है कि उसके तार शाहीन बाग से जुड़े थे। लेकिन राणा अय्यूब को इससे क्या मतलब? उन्हें खालिद केवल वही शख्स लगता है जिसने एंटी सीएए प्रदर्शनों में भाग लिया और दिल्ली पुलिस ने इस्लामोफोबिया के तहत उसे गिरफ्तार कर लिया।

यहाँ बता दें, एंटी सीएए प्रदर्शन में जिसका विकराल रूप 24-25 फरवरी की रात उत्तर-पूर्वी दिल्ली में देखने को मिला। इसके बाद करोड़ों की संपत्तियाँ बर्बाद हो गई और 50 से ज्यादा लोगों की जान गई, जबकि कई घायल हुए।

मौके दर मौके साध्वी प्रज्ञा को भगवा आतंक बोलने वाली और इस्लामिक देशों के बयान के बाद प्रधानमंत्री की चुप्पी को अपनी जीत समझने वाली राणा अय्यूब नहीं मानती क्या कि ‘ईद में अब्बा घर आएँगे’ का भावुक प्रश्न पूछने वाले बच्चे को पिता के अपराध का भी पता होना चाहिए?

हम ये नहीं कहते कि सैफी के बच्चों में भी वही गुण या वही कट्टरता होगी। लेकिन ये जरूर कह रहे हैं कि उनकी आड़ में कई परिवारों पर हुए अत्याचार की कहानी पर पानी न फेरा जाए। राणा अय्यूब जैसों ने आज इस्लामिक आतताइयों के कारनामों को धो-पोंछ कर उन्हें स्मृतियों से मिटाने का बीड़ा उठाया है। यही सेकुलरिज्म देश के लिए खतरा है और वास्तविकता में देश में इस्लामोफोबिया का प्लॉट तैयार करने का यही असल मकसद है।

सबसे दुखद तो ये है कि इस एजेंडे के तहत मजहब देखकर अपराधी के मानवीय/पारिवारिक पहलू की बात जोर-शोर से होती है लेकिन उसने कितनों के अब्बा छीन लिए, इसकी बात कोई वामपंथी मीडिया नहीं करता और न कोई तथाकथित सामाजिक कार्यकर्ता न्याय दिलाने आगे आता है! आज का सच यही है कि वामपंथ का जहर भी अपनी पैठ बनाने के लिए कट्टरपंथ के आधीन हो चुका है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना संक्रमण पर लगातार चेताते रहे, लेकिन दिल्ली सरकार ने कदम नहीं उठाए: सुप्रीम कोर्ट से केंद्र

दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने बताया है कि रोकथाम के लिए केजरीवाल सरकार ने प्रभावी कदम नहीं उठाए।

क्या घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को RAW में बहाल करने जा रही है भारत सरकार?

एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को रॉ में बहाल करने जा रही है। जानिए, क्या है इस दावे की सच्चाई?

‘नॉटी, दो टके के लोग’: कंगना पर फट पड़ीं मुंबई की मेयर, ऑफिस तोड़ने पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाई थी फटकार

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कंगना रनौत के लिए 'नॉटी' का इस्तेमाल किया है। शिवसेना सांसद संजय राउत के लिए इस शब्द का अर्थ 'हरामखोर' है।

जहाँ ममता बनर्जी ने खोदी थी वामपंथ की कब्र, वहीं उनकी सियासत को दफनाने की तैयारी में शुभेंदु अधिकारी

सिंगूर और नंदीग्राम के आंदोलन से ममता बनर्जी को सत्ता मिली। अब नंदीग्राम के शुभेंदु अधिकारी के बागी तेवरों ने उन्हें मुश्किल में डाल दिया है।

कॉन्ग्रेस का कोढ़ है धर्मांतरण, रोकने को देर से बने कानून कितने दुरुस्त?

जिस विषय में संविधान निर्माताओं को 1949 से पता था, उस पर कानून बनाने में इतनी देर आखिर क्यों? नियम बनने शुरू भी हुए हैं तो क्या ये काफी हैं, या हमें बहुत देर से और बहुत थोड़ा देकर बहलाया जा रहा है?

FIR में अर्णब पर लगाए आरोप साबित नहीं कर पाई मुंबई पुलिस: SC ने बॉम्बे हाई कोर्ट को भी लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह भी कहा कि आपराधिक कानून, उत्पीड़न का औजार नहीं बनना चाहिए, जमानत मानवता की अभिव्यक्ति है।

प्रचलित ख़बरें

मैं नपुंसक नहीं.. हिंदुत्व का मतलब पूजा-पाठ या मंदिर का घंटा बजाना नहीं, फ़ोर्स किया तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊँगा: उद्धव ठाकरे

साक्षत्कार में उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें विरोधियों के पीछे पड़ने को मजबूर ना किया जाए। इसके साथ ही ठाकरे ने कहा कि हिंदुत्व का मतलब मंदिर का घंटा बजाना नहीं है।

‘उसे मत मारो, वही तो सबूत है’: हिंदुओं संजय गोविलकर का एहसान मानो वरना 26/11 तुम्हारे सिर डाला जाता

जब कसाब ने तुकाराम को गोलियों से छलनी कर दिया तो साथी पुलिसकर्मी आवेश में आ गए। वे कसाब को मार गिराना चाहते थे। लेकिन, इंस्पेक्टर गोविलकर ने ऐसा नहीं करने की सलाह दी। यदि गोविलकर ने उस दिन ऐसा नहीं किया होता तो दुनिया कसाब को समीर चौधरी के नाम से जानती।

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

ये कौन से किसान हैं जो कह रहे ‘इंदिरा को ठोका, मोदी को भी ठोक देंगे’, मिले खालिस्तानी समर्थन के प्रमाण

मीटिंग 3 दिसंबर को तय की गई है और हम तब तक यहीं पर रहने वाले हैं। अगर उस मीटिंग में कुछ हल नहीं निकला तो बैरिकेड तो क्या हम तो इनको (शासन प्रशासन) ऐसे ही मिटा देंगे।

दिल्ली के बेगमपुर में शिवशक्ति मंदिर में दर्जनों मूर्तियों का सिर कलम, लोगों ने कहते सुना- ‘सिर काट दिया, सिर काट दिया’

"शिव शक्ति मंदिर में लगभग दर्जन भर देवी-देवताओं का सर कलम करने वाले विधर्मी दुष्ट का दूसरे दिन भी कोई अता-पता नहीं। हिंदुओं की सहिष्णुता की कृपया और परीक्षा ना लें।”

’26/11 RSS की साजिश’: जानें कैसे कॉन्ग्रेस के चहेते पत्रकार ने PAK को क्लिन चिट देकर हमले का आरोप मढ़ा था भारतीय सेना पर

साल 2007 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अजीज़ को उसके उर्दू भाषा अखबार रोजनामा राष्ट्रीय सहारा के लिए उत्कृष्ट अवार्ड दिया था। कॉन्ग्रेस में अजीज़ को सेकुलरिज्म का चमचमाता प्रतीक माना जाता था।

कोरोना संक्रमण पर लगातार चेताते रहे, लेकिन दिल्ली सरकार ने कदम नहीं उठाए: सुप्रीम कोर्ट से केंद्र

दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने बताया है कि रोकथाम के लिए केजरीवाल सरकार ने प्रभावी कदम नहीं उठाए।

क्या घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को RAW में बहाल करने जा रही है भारत सरकार?

एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को रॉ में बहाल करने जा रही है। जानिए, क्या है इस दावे की सच्चाई?

‘नॉटी, दो टके के लोग’: कंगना पर फट पड़ीं मुंबई की मेयर, ऑफिस तोड़ने पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाई थी फटकार

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कंगना रनौत के लिए 'नॉटी' का इस्तेमाल किया है। शिवसेना सांसद संजय राउत के लिए इस शब्द का अर्थ 'हरामखोर' है।

गाजीपुर में सड़क पर पड़े मिले गायों के कटे सिर: लोगों का आरोप- पहले डेयरी फार्म से गायब होती हैं गायें, फिर काट कर...

गाजीपुर की सड़कों पर गायों के कटे हुए सिर मिलने के बाद स्थानीय लोग काफी गुस्से में हैं। उन्होंने पुलिस पर मिलीभगत का आरोप लगाया है।

बंगाल: ममता के MLA मिहिर गोस्वामी बीजेपी में शामिल, शनिवार को शुभेंदु अधिकारी के आने की अटकलें

TMC के असंतुष्ट विधायक मिहिर गोस्वामी बीजेपी में शामिल हो गए हैं। शुभेंदु अधिकारी के भी शनिवार को बीजेपी में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही है।

जहाँ ममता बनर्जी ने खोदी थी वामपंथ की कब्र, वहीं उनकी सियासत को दफनाने की तैयारी में शुभेंदु अधिकारी

सिंगूर और नंदीग्राम के आंदोलन से ममता बनर्जी को सत्ता मिली। अब नंदीग्राम के शुभेंदु अधिकारी के बागी तेवरों ने उन्हें मुश्किल में डाल दिया है।

गरीब कल्याण रोजगार अभियान: प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने में UP की योगी सरकार सबसे आगे

प्रवासी श्रमिकों को काम मुहैया कराने के लिए केंद्र सरकार ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान शुरू किया था। उत्तर प्रदेश ने उल्लेखनीय प्रदर्शन किया है।

12वीं शताब्दी में विष्णुवर्धन के शासनकाल में बनी महाकाली की मूर्ति को मिला पुन: आकार, पिछले हफ्ते की गई थी खंडित

मंदिर में जब प्रतिमा को तोड़ा गया तब हालात देखकर ये अंदाजा लगाया गया था कि उपद्रवी मंदिर में छिपे खजाने की तलाश में आए थे और उन्होंने कम सुरक्षा व्यवस्था देखते हुए मूर्ति तोड़ डाली।

कॉन्ग्रेस का कोढ़ है धर्मांतरण, रोकने को देर से बने कानून कितने दुरुस्त?

जिस विषय में संविधान निर्माताओं को 1949 से पता था, उस पर कानून बनाने में इतनी देर आखिर क्यों? नियम बनने शुरू भी हुए हैं तो क्या ये काफी हैं, या हमें बहुत देर से और बहुत थोड़ा देकर बहलाया जा रहा है?

FIR में अर्णब पर लगाए आरोप साबित नहीं कर पाई मुंबई पुलिस: SC ने बॉम्बे हाई कोर्ट को भी लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह भी कहा कि आपराधिक कानून, उत्पीड़न का औजार नहीं बनना चाहिए, जमानत मानवता की अभिव्यक्ति है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,437FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe