Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजअमान और शादाब ने छात्रा को अगवा किया, चाकू से गोद गंगनहर में फेंक...

अमान और शादाब ने छात्रा को अगवा किया, चाकू से गोद गंगनहर में फेंक दिया: बातचीत बंद करने से था नाराज

पीड़िता ने इस हरकत का विरोध किया तो शादाब ने उसको पकड़ा और अमान ने ताबड़तोड़ चाकू से वार किए। छात्रा चिल्लाती रही और शादाब के चंगुल से छूटने की जतन में लगी रही, लेकिन अमान चाकू घोंपता रहा।

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में एक छात्रा को चाकू से गोद गंगनहर में फेंकने की घटना सामने आई है। पीड़िता मसूरी थाना क्षेत्र के डासना स्थित पिलखुवा की रहने वाली है। आरोपितों में से एक अमान मलिक से छात्रा की दोस्ती थी। दो महीने पहले छात्रा ने उससे बातचीत बंद कर दी। इससे नाराज अमान ने अपने साथी शादाब के साथ मिल चाकू की नोंक पर छात्रा का अपहरण किया और फिर इस घटना को अंजाम दिया।

छात्रा जब चीखने-चिल्लाने लगी तो आसपास के लोगों ने उसकी पुकार सुनी, जिसके बाद आरोपी फरार हो गए। राहगीरों ने छात्रा को गंगनहर से बाहर निकाला। उसका अस्पताल में इलाज चल रहा है। माँ की तहरीर पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली है। छात्रा के पिता नहीं हैं। चाचा ने बताया कि 2 साल पहले उसकी दोस्ती नाले पर दुकान चलाने वाले अमान मलिक से हो गई थी। 2 महीने पहले उसने अमान से बातचीत बंद कर दी थी।

इसके बाद उसने कई बार उससे बातचीत शुरू करने के लिए मिन्नतें की थी। उसने छात्रा के चक्कर लगा कर उससे फिर से बात करने को कहा, लेकिन उसने इनकार कर दिया। सोमवार (अप्रैल 5, 2021) को छात्रा बाजार गई थी। वहाँ अमान और शादाब ने उसे जबरन रोक लिया। बात करने के बहाने पहले उसे रेलवे रोड की तरफ सुनसान में लेकर गया। वहाँ दोनों 10 मिनट तक रहे और शादाब भी थोड़ी दूर पर खड़ा रहा।

जब छात्रा नहीं मानी तो अमान ने शादाब की तरफ इशारा किया, जिसने चाकू का इस्तेमाल कर उसे बाइक पर जबरन बिठाया। उसका अपहरण कर दोनों डासना गंगनहर पर लेकर गए। वहाँ जब पीड़िता ने इस हरकत का विरोध किया तो शादाब ने उसको पकड़ा और अमान ने ताबड़तोड़ चाकू से वार किए। छात्रा चिल्लाती रही और शादाब के चंगुल से छूटने की जतन में लगी रही, लेकिन अमान चाकू घोंपता रहा।

सदर अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है। उसके हाथ, गर्दन और जाँघ में जख्म आए हैं। पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। छात्रा के परिजनों का कहना है कि अमान का व्यवहार और हरकतें सही नहीं थीं, जिसके कारण लगभग 1 साल पहले भी उसने अमान से बातचीत बंद कर दी थी। अमान ने उस दौरान भी उसे और उसके परिवार को अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। इससे डरी-सहमी किशोरी जबरन दोस्ती में बँधी हुई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,200FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe