Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाज'हिंदुओं के लिए करो या मरो की स्थिति, राइफलों का लाइसेंस दे सरकार': हिन्दू...

‘हिंदुओं के लिए करो या मरो की स्थिति, राइफलों का लाइसेंस दे सरकार’: हिन्दू महापंचायत में जुटी भारी भीड़, दिल्ली में शक्ति-प्रदर्शन का ऐलान

जिला प्रशासन ने कुछ शर्तों के साथ ही इस सभा के आयोजन की इजाजत दे दी है। शर्त में कहा गया था कि महापंचायत में 500 से ज्यादा लोगों नहीं आएँगे। इसके अलावा, महापंचायत सिर्फ 2 बजे तक होगी और किसी भी तरह के भड़काऊ भाषण की अनुमति नहीं होगी। पलवल के एसपी लोकेंद्र सिंह ने कहा कि शर्तों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई होगी।

हरियाणा में नूहं में हिंदुओं की ब्रिजमंडल जलाभिषेक पर हमले बाद के बाद रविवार (13 अगस्त 2023) को पलवल के पोंडरी में हिंदू पंचायत का आयोजन किया गया। इसमें जलाभिषेक यात्रा को फिर से शुरू करने की बात कही गई। वहीं, पंचायत में आए देव सेना के प्रमुख ने 20 अगस्त को दिल्ली के जंतर-मंतर पर महापंचायत का ऐलान किया।

इस दौरान हरियाणा गोरक्षा दल के नेता आजाद शास्त्री ने इस दौरान राज्य सरकार से 100 हथियारों के लाइसेंस की माँग की। शास्त्री ने कहा, “मेवात में 100 हथियारों के लाइसेंस दिए जाएँ। बंदूकों के नहीं, राइफलों के लाइसेंस मिलने चाहिए क्योंकि राइफल लंबी दूरी तक फायरिंग कर सकती हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “यह करो या मरो की स्थिति है। मैं युवाओं को कह रहा हूँ- खून को गरम रखना पड़ेगा। हमें एफआईआर से नहीं डरना चाहिए। मेरे खिलाफ भी एफआईआर हैं, लेकिन हमें डरना नहीं चाहिए। इस देश का विभाजन हिंदू और मुसलमानों के आधार पर हुआ था। गाँधीजी के कारण ही ये मुसलमान मेवात में रुके रहे।”

गोरक्षा दल के नेता शास्त्री ने फिरोजपुर झिरका विधानसभा क्षेत्र के विधायक मामन खान के खिलाफ FIR दर्ज करके उन्हें गिरफ्तार करने की भी माँग की। उन्होंने कहा कि नूहं में दंगे के लिए विधायक मामन जिम्मेदार हैं। इसके साथ ही उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को भी बदलने की माँग की।

महापंचायत को देखते हुए प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए। पलवल जाने वाली सभी सड़कों पर पुलिस ने नाकेबंदी की। अर्धसैनिक बल और पुलिस के जवानों ने नूहं शहर तथा कस्बों में सुबह सात बजे फ्लैग मार्च निकाला। इसके साथ ही हिंसा के दौरान चर्चा में आए नल्हड़ महादेव मंदिर जाने वाली सड़क पर भी सुरक्षा बढ़ाई गई।

महापंचायत में सोनीपत, पलवल, फरीदाबाद, गुरुग्राम और नूहं जिले के लोग पहुँचे हैं। विश्व हिंदू परिषद के नेताओं के अलावा, महापंचायत में बजरंग दल के प्रदेश संयोजक भारत भूषण, सोहना के विधायक संजय सिंह, पलवल से पूर्व विधायक सुभाष चौधरी समेत कई नेता पहुँचेे। पुलिस इस पूरी बैठक की वीडियो रिकॉर्डिंग कर रही है।

बताते चलें कि हिंदू संगठनों ने पहले यह महापंचायत हथीन से सटे नूहं के किरा गाँव में आयोजित करने की तैयारी की थी। हालाँकि, नूहं जिला प्रशासन ने इसकी अनुमति नहीं दी। इसके बाद हथीन खंड के पोंडरी गाँव में इसे करने का फैसला लिया गया।

जिला प्रशासन ने कुछ शर्तों के साथ ही इस सभा के आयोजन की इजाजत दे दी है। शर्त में कहा गया था कि महापंचायत में 500 से ज्यादा लोगों नहीं आएँगे। इसके अलावा, महापंचायत सिर्फ 2 बजे तक होगी और किसी भी तरह के भड़काऊ भाषण की अनुमति नहीं होगी। पलवल के एसपी लोकेंद्र सिंह ने कहा कि शर्तों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई होगी।

दरअसल, शुक्रवार यानी 11 अगस्त 2023 को विश्व हिंदू परिषद के विभाग मंत्री देवेंदर सिंह ने बताया था कि हिंदू संगठनों ने 28 अगस्त 2023 को यात्रा पूरी करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि यात्रा शांति और उत्साह के साथ पूरी होगी। बता दें कि 31 जुलाई को नूहं में हिंसा के बाद यात्रा अधूरी रह गई थी।

वहीं, महापंचायत में आए देव सेना फरीदाबाद के अध्यक्ष ब्रजभूषण सैनी ने कहा कि 20 अगस्त 2023 को दिल्ली जंतर-मंतर पर महापंचायत होगा। पलवल में हुई महापंचायत का हरियाणा के कुछ संगठनों ने बहिष्कार भी किया। डागर, रावत, सहरावत, तेवतिया खाप ने इसका पूर्ण बहिष्कार किया है। इसकी पुष्टि डागर पाल के प्रधान चौधरी धर्मबीर डागर ने की है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मेरे बेटे को मार डाला’: आधुनिक पश्चिमी सभ्यता ने दुनिया के सबसे अमीर शख्स को भी दे दिया ऐसा दर्द, कहा – Woke वाले...

लिंग-परिवर्तन कराने वाले को उसके पुराने नाम से पुकारना 'Deadnaming' कहलाता है। उन्होंने कहा कि इसका अर्थ है कि उनका बेटा मर चुका है।

‘बंद ही रहेगा शंभू बॉर्डर, JCB लेकर नहीं कर सकते प्रदर्शन’: सुप्रीम कोर्ट ने ‘आंदोलनजीवी’ किसानों को दिया झटका, 15 अगस्त को दिल्ली कूच...

सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब और हरियाणा के बीच शंभू बॉर्डर को अभी बंद ही रखने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा किसान JCB लेकर प्रदर्शन नहीं कर सकते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -