Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजमणिपुर में युवक को ज़िंदा जलाने का वीडियो हो रहा वायरल: पुलिस ने बताया...

मणिपुर में युवक को ज़िंदा जलाने का वीडियो हो रहा वायरल: पुलिस ने बताया – घटना 5 महीने पुरानी, केस दर्ज कर की जा रही है जाँच

मणिपुर पुलिस ने बताया है कि ये वीडियो थौबल जिले का है, जो 4 मई को बनाया गया था। जलाया गया व्यक्ति कुकी-जो समुदाय का है।

मणिपुर हिंसा से जुड़ा एक नया वीडियो सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहा है, जिसमें एक व्यक्ति को आग में झोंकते देखा जा सकता है। 7 सेकंड के इस वीडियो पर ‘कुकी’ लिखा गया है। ये वीडियो 8 अक्टूबर को मणिपुर के कई व्हाट्सएप्प ग्रुपों में तेज़ी से शेयर की गई, जिसमें काली टी-शर्ट और पतलून पहने एक व्यक्ति को जलते हुए देखा जा सकता है।

हालाँकि, ये साफ नहीं है कि व्यक्ति को जिंदा जला दिया गया, या उसकी हत्या करने के बाद जलाया गया। इस वीडियो के बारे में मणिपुर पुलिस ने कहा है कि ये वीडियो उसी दिन का है, जिस दिन 2 महिलाओं के साथ वीभत्स व्यवहार किया गया था। वायरल हुए वीडियो में मणिपुरी में बोलने वाले कई लोगों की आवाजें सुनी जा सकती हैं – हालाँकि, उनके चेहरे नहीं देखे जा सकते हैं।

थौबल जिले का है वीडियो, जाँच जारी

मणिपुर पुलिस ने बताया है कि ये वीडियो थौबल जिले का है, जो 4 मई को बनाया गया था। जलाया गया व्यक्ति कुकी-जो समुदाय का है। ये घटना मैतेई बहुल इलाके में घटी थी और हिंसा के शुरुआती दिनों की है। पुलिस ने ये भी बताया कि इस वीडियो के बारे में काफी पहले ही केस दर्ज कर लिया गया था और इसकी जाँच की जा रही है।

वहीं कुकी संगठन कुछ और ही दावा कर रहे हैं। ITLF नामक संगठन ने बयान जारी कर के दावा किया है कि ‘मेइती नेक्रो-आतंकियों’ ने कुकी-जो समुदाय के युवकों को ज़िंदा जला डाला। संगठन ने इस घटना की निंदा की है।

बता दें कि 3 मई को मणिपुर में हिंसा फैल गई थी। मणिपुर में 3 मई को कुकी-ज़ोमी बहुल चुराचांदपुर जिले और मैतेई बहुल विष्णुपुर जिले की सीमा से जुड़े क्षेत्रों से शुरू हुई हिंसा पूरे राज्य में फैल गई। इस घटना के दूसरे दिन 4 मई को चुराचांदपुर मेडिकल कॉलेज में मैतेई नर्सों के साथ बलात्कार की अफवाहों के बाद थौबल में भीड़ ने जमकर उत्पात मचाया था, जिसके फर्जी होने की पुष्टि 5 मई को तत्कालीन डीजीपी पी डोंगेल ने की थी। इसी दौरान 4 मई को दो कुकी महिलाओं के साथ बर्बरता हुई, जिसका वीडियो जुलाई माह में वायरल हुआ था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -