Wednesday, April 8, 2020
होम देश-समाज मुस्लिमों ने रॉड नहीं मारी, बाथरूम में गिर कर मरे नीरज, बयान बदलो: झारखंड...

मुस्लिमों ने रॉड नहीं मारी, बाथरूम में गिर कर मरे नीरज, बयान बदलो: झारखंड सरकार का पीड़ित परिजनों पर दबाव

दिवंगत नीरज की विधवा पत्नी के भाई संतोष कुमार का 1 मिनट 31 सेकंड का वीडियो हम सब को देखना चाहिए। देखना तो झारखंड सरकार को भी चाहिए, जो पुलिस और प्रशासन से दबाव बना कर मुस्लिम भीड़ के कातिलाना हमले पर पर्दा डालना चाह रही है।

ये भी पढ़ें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

झारखण्ड के लोहरदगा में सीएए के समर्थन में रैली क्या निकली, अमला टोली के मुस्लिमों ने ऐसा कहर बरपाया कि 15,000 लोगों की भीड़ भी असहाय नज़र आई। इलाक़े के कॉन्ग्रेस विधायक व कैबिनेट मंत्री रामेश्वर उराँव भी लीपापोती के उसी मोड में हैं, जो उनका प्रशासन व पुलिस कर रही है। बता दें कि गुरुवार (जनवरी 23, 2020) को हुई इस रैली में लोहरदगा निवासी नीरज राम प्रजापति ने भी हिस्सा लिया था। उनके सिर पर लोहे की रॉड से प्रहार किया गया था, उन पर पत्थर चलाए गए और उन्हें अपनी दुकान में छिप कर जान बचानी पड़ी। इसके बाद वो घर पहुँचे और बेहोश हो गए।

बेहोश होते ही घर में कोहराम मच गया और उन्हें किसी तरह सदर अस्पताल ले जाया गया। स्थिति बिगड़ने के बाद वहाँ से उन्हें राँची के ऑर्किड हॉस्पिटल ले जाया गया। प्रशासनिक अक्षमता का आलम देखिए कि उन्हें ले जाने के लिए एक एम्बुलेंस तक मुहैया कराने से बार-बार इनकार किया जाता रहा। उनके परिजनों को कहा जाता रहा कि स्थिति खराब है और इसीलिए एम्बुलेंस नहीं जा सकती। खैर, परिजन उन्हें ऑर्किड हॉस्पिटल लेकर गए। वहाँ से उन्हें रिम्स रेफेर कर दिया गया क्योंकि ऑर्किड हॉस्पिटल में डॉक्टरों ने हाथ खड़े कर दिए थे।

परिजनों को उम्मीद थी कि रिम्स के नए ट्रॉमा सेंटर में उनका इलाज हो पाएगा लेकिन ये संभव न हो सका। उनकी मृत्यु हो गई। नीरज की मृत्यु के बाद प्रशासन ने रिम्स के हवाले से एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की। इस विज्ञप्ति में बताया गया है कि नीरज की मृत्यु कार्डियक अरेस्ट से हुई है। रिम्स के चिकित्सकों के हवाले से बताया गया कि उनके शरीर पर किसी भी प्रकार के चोट के निशान नहीं हैं। उनकी मौत का कारण ‘सेप्टिक शौक फ्रॉम ब्रेन स्टेम ब्लीड’ को बताया जा रहा है। स्पष्ट कहा गया है प्रशासन द्वारा कि उनकी मौत का कारण सीएए के ख़िलाफ़ हुई हिंसा नहीं है। लेकिन, क्या सरकार की नज़र में स्थानीय लोग और पीड़ित परिजन झूठे हैं?

प्रशासन की प्रेस विज्ञाप्ति: हिंसा के कारण नहीं हुई नीरज की मौत
- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ऑपइंडिया ने मृतक नीरज के परिजनों से संपर्क साधा। उनकी पत्नी का स्पष्ट कहना है कि वो सीएए के समर्थन में हुई रैली में गए थे, जहाँ पत्थरबाजी का उन्हें सामना करना पड़ा। भागते-भागते वो दुकान में जाकर छिप गए। परिजनों ने बताया कि उन पर पुलिस और प्रशासन लगातार दबाव बना रहा है कि वो मीडिया के सामने बोलें कि नीरज की मृत्यु बाथरूम में गिर जाने के कारण हुई है। नीचे हम नीरज की पत्नी के भाई संतोष कुमार का वीडियो संलग्न कर रहे हैं, जिसमें उन्होंने बताया है कि सीएए की रैली के ख़िलाफ़ की गई हिंसा में चोट लगने से नीरज के माथे का नस फट गया था, इससे उनकी मौत हो गई। संतोष ने पुलिस के बयान को नकार दिया और कहा कि हार्ट अटैक से मौत होने की बात झूठी है और पुलिस भी झूठ बोल रही है।

संतोष ने आरोप लगाया कि प्रशासन अफवाह फैला रहा है। उन्होंने कहा कि किसके दबाव में ये सब किया जा रहा है, उन्हें नहीं मालूम। वैसे सरकार परिजनों पर अपना बयान बदलने के लिए दबाव क्यों बना रही है, ये समझा जा सकता है। पुलिस को दर्ज कराए गए बयान में परिजनों ने स्पष्ट कहा है कि नीरज के माथे पर पीछे से लोहे की रॉड से वार किया गया। फिर पुलिस बाथरूम में गिर कर मरने की बात कहने को क्यों कह रही है? आख़िर इस हिंसा के साज़िशकर्ताओं को क्यों बचाया जा रहा है? नीचे हम परिजनों के प्रारंभिक बयान को लगा रहे हैं, जो उन्होंने पुलिस के समक्ष दिया:

ऑपइंडिया से बात करते हुए एक अन्य रिश्तेदार ने बताया कि लोहरदगा में मृतक के मोहल्ले में पुलिस बल भारी मात्रा में तैनात कर दिया गया है। मीडिया को परिजनों से बात करने से रोका जा रहा है। जहाँ पर नीरज के साथ ये घटना हुई, उसे ‘अंजुमन मोहल्ला’ के नाम से जाना जाता है। जब उन पर हमला हुआ, तब वो रैली में मुस्लिमों द्वारा की गई हिंसा से भाग कर घर आ रहे थे। परिजनों ने बताया कि जब वो राँची हॉस्पिटल में लाए गए थे, तब उनका बॉडी मूवमेंट भी लगभग ख़त्म हो गया था। हालाँकि, रिम्स लाते समय कुछ मूवमेंट दिखी थी। डॉक्टरों का कहना था कि इंटरनल ब्लीडिंग के कारण उनकी हालत ऐसी हुई थी। अब पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इन्तजार है।

नहीं रहे नीरज प्रजापति! CAA समर्थक जुलूस पर ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ चीखते भीड़ के हमले में हुए थे घायल

मस्जिद व कॉन्ग्रेस दफ्तर से चले पत्थर: मुस्लिमों ने की गोलीबारी, ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ चीखते हुए टूट पड़ी भीड़

CAA समर्थक जुलूस पर पथराव: धू-धू कर जला लोहरदगा, पथराव-आगजनी के बाद कर्फ्यू

धारा-144, कर्फ़्यू के बाद भी आगजनी व हिंसक झड़पें: CAA समर्थक जुलूस पर पथराव, लोहरदगा में बिगड़ी स्थिति

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

ताज़ा ख़बरें

लॉकडाउन के बीच शिवलिंग किया गया क्षतिग्रस्त, राधा-कृष्ण मंदिर में फेंके माँस के टुकड़े, माहौल बिगड़ता देख गाँव में पुलिस फोर्स तैनात

कुछ लोगों ने गाँव में कोरोना की रोकथाम के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लगे पोस्टरों को फाड़ दिया। इसके बाद देर रात गाँव में स्थित एक शिव मंदिर में शिवलिंग को तोड़कर उसे पास के ही कुएँ में फेंक दिया। इतना ही नहीं आरोपितों ने गाँव के दूसरे राधा-कृष्ण मंदिर में भी माँस का टुकड़ा फेंक दिया।

हमारी इंडस्ट्री तबाह हो जाएगी, सोनिया अपनी सलाह वापस लें: NBA ने की कॉन्ग्रेस अध्यक्ष की सलाह की कड़ी निंदा

सरकारी और सार्वजनिक कंपनियों और संस्थाओं द्वारा किसी प्रिंट, टीवी या ऑनलाइन किसी भी प्रकार के एडवर्टाइजमेंट को प्रतिबंधित करने की सलाह की एनबीए ने निंदा की है। उसने कहा कि मीडिया के लोग इस परिस्थिति में भी जीवन संकट में डाल कर जनता के लिए काम कर रहे हैं और अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं।

कोरोना से संक्रमित एक आदमी 30 दिन में 406 लोगों को कर सकता है इन्फेक्ट, अब तक 1,07,006 टेस्‍ट किए गए: स्वास्थ्य मंत्रालय

ICMR के रमन गंगाखेडकर ने जानकारी देते हुए बताया कि पूरे देश में अब तक कोरोना वायरस के 1,07,006 टेस्‍ट किए गए हैं। वर्तमान में 136 सरकारी प्रयोगशालाएँ काम कर रही हैं। इनके साथ में 59 और निजी प्रयोगशालाओं को टेस्ट करने की अनुमति दी गई है, जिससे टेस्ट मरीज के लिए कोई समस्या न बन सके। वहीं 354 केस बीते सोमवार से आज तक सामने आ चुके हैं।

शाहीनबाग मीडिया संयोजक शोएब ने तबलीगी जमात पर कवरेज के लिए मीडिया को दी धमकी, कहा- बहुत हुआ, अब 25 करोड़ मुस्लिम…

अपने पहले ट्वीट के क़रीब 13 घंटा बाद उसने ट्वीट करते हुए बताया कि वो न्यूज़ चैनलों की उन बातों को हलके में नहीं ले सकता और ऐसा करने वालों को क़ानून का सामना करना पड़ेगा। उसने कहा कि अब बहुत हो गया है। शोएब ने साथ ही 25 करोड़ मुस्लिमों वाली बात की भी 'व्याख्या' की।

जमातियों के बचाव के लिए इस्कॉन का राग अलाप रहे हैं इस्लामी प्रोपेगंडाबाज: जानिए इस प्रोपेगंडा के पीछे का सच

भारत में तबलीगी जमात और यूनाइटेड किंगडम में इस्कॉन के आचरण की अगर बात करें तो तबलीगी जमात के विपरीत, इस्कॉन भक्त जानबूझकर संदिग्ध मामलों का पता लगाने से बचने के लिए कहीं भी छिप नहीं रहे, बल्कि सामने आकर सरकार का सहयोग और अपनी जाँच भी करा रहे हैं। उन्होंने तबलीगी जमात की तरह अपने कार्यक्रम में यह भी दावा नहीं किया कि उनके भगवान उन्हें इस महामारी से बचा लेंगे ।

वो 5 मौके, जब चीन से निकली आपदा ने पूरी दुनिया में मचाया तहलका: सिर्फ़ कोरोना का ही कारण नहीं है ड्रैगन

चीन तो हमेशा से दुनिया को ऐसी आपदा देने में अभ्यस्त रहा है। इससे पहले भी कई ऐसे रोग और वायरस रहे हैं, जो चीन से निकला और जिन्होंने पूरी दुनिया में कहर बरपाया। आइए, आज हम उन 5 चीनी आपदाओं के बारे में बात करते हैं, जिसने दुनिया भर में तहलका मचाया।

प्रचलित ख़बरें

फिनलैंड से रवीश कुमार को खुला पत्र: कभी थूकने वाले लोगों पर भी प्राइम टाइम कीजिए

प्राइम टाइम देखना फिर भी जारी रखूँगा, क्योंकि मुझे गर्व है आप पर कि आप लोगों की भलाई सोचते हैं। बीच में किसी दिन थूकने वालों और वार्ड में अभद्र व्यवहार करने वालों पर भी प्राइम टाइम कीजिएगा। और हाँ! इस काम के लिए निधि कुलपति जी या नग़मा जी को मत भेज दीजिएगा। आप आएँगे तो आपका देशप्रेम सामने आएगा, और उसे दिखाने में झिझक क्यूँ?

मधुबनी में दीप जलाने को लेकर विवाद: मुस्लिम परिवार ने 70 वर्षीय हिंदू महिला की गला दबाकर हत्या की

"सतलखा गाँव में जहाँ पर यह घटना हुई है, वहाँ पर कुछ घर इस्लाम धर्म को मानने वाले हैं। जब हिंदू परिवारों ने उनसे लाइट बंद कर दीप जलाने के लिए कहा, तो वो गाली-गलौज करने लगे। इसी बीच कैली देवी उनको मना करने गईं कि गाली-गलौज क्यों करते हो, ये सब मत करो। तभी उन लोगों उनका गला पकड़कर..."

हिन्दू बच कर जाएँगे कहाँ: ‘यूट्यूबर’ शाहरुख़ अदनान ने मुसलमानों द्वारा दलित की हत्या का मनाया जश्न

ये शाहरुख़ अदनान है। यूट्यब पर वो 'हैदराबाद डायरीज' सहित कई पेज चलाता है। उसने केरल, बंगाल, असम और हैदराबाद में हिन्दुओं को मार डालने की धमकी दी है। इसके बाद उसने अपने फेसबुक और ट्विटर हैंडल को हटा लिया। शाहरुख़ अदनान ने प्रयागराज में एक दलित की हत्या का भी जश्न मनाया। पूरी तहकीकात।

पाकिस्तान: हिन्दुओं के कई घर आग के हवाले, 3 बच्चों की जिंदा जलकर मौत, एक महिला झुलसी, झोपड़ियाँ खाक

जिन झोपड़ियों में आग लगी, और जिनका इससे नुकसान हुआ, वो हिंदू समुदाय के थे। झोपड़ियों में आग लगने से कम से कम तीन बच्चे जिंदा जल गए। जबकि एक महिला बुरी तरह से झुलस गई।

मरकज पर चलेगा बुलडोजर, अवैध है 7 मंजिला बिल्डिंग: जमात ने किया गैर-कानूनी निर्माण, टैक्स भी नहीं भरा

जहाँ मरकज बना हुआ है, वहाँ पहले एक छोटा सा मदरसा होता था। मदरसा भी नाममात्र जगह में ही था। यहाँ क्षेत्र के ही कुछ लोग नमाज पढ़ने आते थे। लेकिन 1992 में मदरसे को तोड़कर बिल्डिंग बना दी गई।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

174,238FansLike
53,799FollowersFollow
214,000SubscribersSubscribe
Advertisements