Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजमदरसे में अरबी पढ़ने जाती थी नाबालिग बच्ची…मौलवी ने झांसा देकर 5 माह तक...

मदरसे में अरबी पढ़ने जाती थी नाबालिग बच्ची…मौलवी ने झांसा देकर 5 माह तक बंधक बनाया: J&K पुलिस ने बिलाल और रियाज को गिरफ्तार किया

सांबा के एक मदरसे में पीड़िता अरबी पढ़ने जाती थी। यही मदरसे में मौलवी बिलाल पढ़ाता था। पीड़िता के अब्बा ने शिकायत में कहा कि उनकी बेटी को झांसा देकर फँसाया गया और 5 महीने तक बंधक बनाए रखा गया।

जम्मू कश्मीर के सांबा जिले में पुलिस ने एक नाबालिग लड़की के अपहरण में मदरसे के एक मौलवी को गिरफ्तार किया है। आरोपित का नाम बिलाल अहमद है। पीड़िता उसी मदरसे में आरोपित मौलवी से अरबी पढ़ती थी। आरोप है कि मौलवी ने नाबालिग को झांसा देकर 5 महीने तक अपने साथ रखा। पुलिस ने नाबालिग को भी बरामद कर लिया है। अपहरण में मौलवी का एक मददगार रियाज़ अहमद को भी गिरफ्तार किया गया है। रविवार (26 फरवरी 2023) को सांबा पुलिस ने इस कार्रवाई की जानकारी दी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मामला थानाक्षेत्र रख AMB तल्ली में आने वाले चक दयाला इलाके का है। यह क्षेत्र पाकिस्तान की सीमा से सटा हुआ है। यहाँ 16 साल की एक नाबालिग लड़की दीनी तालीम लेने और अरबी भाषा सीखने के लिए जाया करती थी। इसी मदरसे में मौलवी बिलाल पढ़ाता था। बिलाल मूल रूप से डोडा के गंडोह का रहने वाला है। बिलाल का एक मदरसा डोडा में भी चलता है। फिलहाल वह सांबा जिले के मदरसे में पिछले 5 माह से रह रहा था। पीड़िता के अब्बा द्वारा दी गई शिकायत में बताया गया था कि मौलवी बिलाल ने उनकी बेटी को झाँसा दिया और 5 महीने तक अपने साथ रखा।

सांबा पुलिस ने पीड़ित पिता की शिकायत IPC की धारा 363 के तहत दर्ज की। मौलवी की तलाश शुरू की गई तो उसकी लोकेशन जम्मू-कश्मीर के ही रामसू, जिला रामबन में मिली। पुलिस ने दबिश दे कर मौलवी को गिरफ्तार कर लिया। इसी छापेमारी में नाबालिग पीड़िता भी बरामद हुई। मौलवी के साथ रियाज़ अहमद नाम का एक अन्य आरोपित भी पकड़ा गया है। उस पर मौलवी को नाबालिग के अपहरण के लिए उकसाने का आरोप है। रियाज़ मूल रूप से डोडा जिले का रहने वाला है। सांबा जिले के SSP बेनाम तोश के मुताबिक मामले की गहराई से जाँच करवाई जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -