Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाजपास में थी सिर्फ 11 बोतल इसलिए छोड़ दिया… तमिलनाडु में जिसने घर-घर बाँटा...

पास में थी सिर्फ 11 बोतल इसलिए छोड़ दिया… तमिलनाडु में जिसने घर-घर बाँटा ‘जहर’, उसे गिरफ्तारी के तुरंत बाद छोड़ा गया था: रिपोर्ट, जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या 47 हुई

तमिलनाडु में जहरीली शराब से हो रही मौत मामले में गिरफ्तार एक आरोपि मुख्य आरोपित गोविंदराज उर्फ ​​कन्नुकुट्टी को कुछ दिन पहले ही शराब की बोतलों की अवैध बिक्री के लिए गिरफ्तार किया गया था, लेकिन उसे तुरंत छोड़ दिया गया क्योंकि उसके पास से केवल 180 मिलीलीटर की 11 शराब की बोतलें थीं।

तमिलजनाडु के कल्लाकुरुची जिले में जहरीली शराब पीने से हुई मौतों का आँकड़ा बढ़ता जा रहा है। ताजा अपडेट के अनुसार, अब तक मृतकों की संख्या 30 से बढ़कर 47 हो गई है। अभी भी बाकी 30 की हालत बेहद गंभीर बताई जा रही है। प्रशासन ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए तीन आरोपितों को 15 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। इनके नाम गोविंदराज, दामोदरम और विजया है। इन्हें 5 जुलाई तक हिरासत में रखा जाएगा।

बता दें कि तमिलनाडु से आए जहरीली शराब मामले में एक अन्य जानकारी भी सामने आई है। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार इस केस का मुख्य आरोपित गोविंदराज उर्फ ​​कन्नुकुट्टी को घटना से कुछ दिन पहले भी शराब की बोतलों की अवैध बिक्री के लिए गिरफ्तार किया गया था, लेकिन रिपोर्ट दावा करती है कि वहाँ उसे तुरंत छोड़ दिया गया क्योंकि उसके पास से केवल 180 मिलीलीटर की 11 शराब की बोतलें थीं।

ये भी कहा जा रहा है कि गोविंदराज की गिरफ्तारी कोई नई बात नहीं है। उसका अवैध रूप से शराब बेचने का ट्रैक रिकॉर्ड रहा है। उसे पहले भी गुंडा अधिनियम के तहत हिरासत में लिया गया था। हालाँकि, यह पहली बार है जब उसे अपने ग्राहकों की मौत का कारण गिरफ्तार किया गया हो। इस बार उसे, उसकी पत्नी विजय समेत 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

जाँच कर रही टीम को इस मामले में दो और संदिग्धों पर शक है। पुलिस ने कहा कि केवल वरिष्ठ नागरिकों, शारीरिक रूप से विकलांग और महिलाओं को ही खुदरा शराब बेचने के लिए मजबूर किया जाता था ताकि पुलिस उनके खिलाफ सख्त एक्शन ले न सकें। इस मामले में जो व्यक्ति गिरफ्तार हुआ है उनमें एक शारीरिक रूप से दिव्यांग भी है, वहीं गोविंदराज की बाईपास सर्जरी हो चुकी है।

उल्लेखनीय है कि इस मामले की जाँच को राज्य सरकार ने सीबी-सीआईडी को सौंप दिया है। साथ ही कल्लाकुरिची DM श्रवण कुमार जाटवथ का ट्रांसफर किया है, जबकि SP समय सिंह मीना को सस्पेंड किया है। इसके अलावा कल्लकुरिची जिले की निषेध शाखा के पुलिसकर्मियों समेत 9 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -