Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजमणिपुर में 3 महिलाओं से दरिंदगी, पुलिस से छीनकर ले गई थी भीड़: सोशल...

मणिपुर में 3 महिलाओं से दरिंदगी, पुलिस से छीनकर ले गई थी भीड़: सोशल मीडिया में नग्न परेड के वीडियो शेयर नहीं करने के निर्देश

शिकायत में पीड़िताओं ने बताया है कि 4 मई को उनके गाँव पर लगभग 800 से 1000 की भीड़ ने घातक हथियारों से हमला किया था। इनसे बचने के लिए 3 महिलाओं सहित गाँव के 5 लोग जंगल की तरफ भाग गए थे। पुलिस ने इन्हें बचा लिया था। लेकिन भीड़ उन्हें छीनकर ले गई।

मणिपुर में महिलाओं के साथ दरिंदगी का एक वीडियो वायरल है। यह वीडियो 4 मई 2023 का है। इसमें दो महिलाओं का नग्न परेड करवा रही भीड़ उन्हें खींचकर गैंगरेप के लिए खेतों की तरफ ले जाती दिखाई पड़ रही है। इस घटना को लेकर 18 मई को दर्ज हुई एफआईआर के मुताबिक तीन महिलाओं के साथ भीड़ ने दरिंदगी की थी। इन्हें पुलिस की कस्टडी से छीनकर ले जाया गया था। इस बीच केंद्र सरकार ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को इस वीडियो को शेयर होने से रोकने के निर्देश दिए हैं।

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस घटना को लेकर अज्ञात हथियारबंद बदमाशों के खिलाफ नोंगपोक सेकमाई पीएस (थौबल जिला) में FIR दर्ज की गई थी। यह केस अपहरण, गैंगरेप और हत्या की धाराओं में दर्ज है। हालाँकि इस मामले में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। बताया जा रहा है कि वायरल वीडियो में दिख रही महिलाओं में से एक की उम्र 20 साल, जबकि दूसरी की उम्र 40 साल है। वहीं FIR के मुताबिक 50 साल की एक तीसरी महिला भी इसी दरिंदगी का शिकार हुई थी, जो वीडियो में नजर नहीं आ रही है। इस घटना का विरोध करने पर एक महिला के पिता और दूसरे के भाई की भी हत्या कर दी गई थी।

इस घटना की शिकायत में पीड़िताओं ने बताया है कि 4 मई 2023 को उनके गाँव पर लगभग 800 से 1000 हमलावरों की भीड़ ने हमला किया था। भीड़ के पास इंसास और AK सीरीज की रायफलें जैसे घातक हथियार थे। इनसे बचने के लिए 3 महिलाओं सहित गाँव के 5 लोग जंगल की तरफ भाग गए। मौके पर पहुँची पुलिस ने इन सभी को बचा लिया और साथ लेकर थाने आने लगी। रास्ते में भीड़ ने पुलिस बल को रोक कर पीड़ितों को कस्टडी से छीन लिया।

आरोप है कि हिंसक भीड़ ने पहले 20 वर्षीय पीड़िता के पिता की हत्या कर दी। इसके बाद तीनों महिलाओ को कपड़े उतारने पर मजबूर किया गया। जब एक पीड़िता के भाई ने इसका विरोध किया तो भीड़ ने उसकी हत्या कर दी। बाद में इन सभी महिलाओं के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया। गैंगरेप के बाद तीनों महिलाएँ जैसे-तैसे वहाँ से निकल पाईं। फिलहाल तीनों पीड़िताएँ एक राहत कैम्प में हैं। इंफाल जिले के पुलिस अधीक्षक के मेघचंद्र सिंह के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में हालात शांतिपूर्ण हैं। कुछ हिस्सों में माहौल तनावपूर्ण हैं, जहाँ भीड़ के जमावड़े और गोलीबारी की छिटपुट घटनाएँ हुई हैं।

IPS मेघचंद्र ने बताया कि आरोपितों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। प्रदेश में हो रही कार्रवाई की जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक ने कहा कि मणिपुर पुलिस और केंद्रीय बलों ने घाटी और पहाड़ी क्षेत्रों के संवेदनशील इलाकों में तलाशी अभियान चला रही है। सुरक्षा के लिहाज से मणिपुर में 126 चेकपोस्ट स्थापित किए गए हैं और प्रदेश में अब तक कुल 452 लोगों को हिरासत में लिया गया है।

वहीं न्यूज एजेंसी एएनआई ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया है कि महिलाओं के नग्न परेड वाले वीडियो को लेकर केंद्र सरकार ने ट्विटर सहित सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को एक आदेश जारी किया है। इसके मुताबिक वीडियो को शेयर नहीं करने के निर्देश दिए गए हैं। कहा गया है कि मामले की जाँच चल रही है और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए भारतीय कानूनों का पालन करना अनिवार्य है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -