Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाज'NIA से कराई जाए नूँह हिंसा की जाँच, मृत हिन्दुओं के परिजनों को मिले...

‘NIA से कराई जाए नूँह हिंसा की जाँच, मृत हिन्दुओं के परिजनों को मिले ₹1 करोड़ का मुआवजा’: सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई याचिका

याचिकाकर्ताओं ने केंद्र और हरियाणा सरकार को पार्टी बनाया है। याचिका का आधार संविधान में दिए गए अभिव्यक्ति की आज़ादी, समानता और जीवन का अधिकार बनाया गया है।

मेवात के नूहं जिले में हिन्दुओं की जलाभिषेक यात्रा के दौरान हुई हिंसा मामले में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) जाँच की माँग की गई है। यह माँग सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर के की गई है। याचिकाकर्ता प्रदीप भंडारी और रतन शारदा ने उच्चतम न्यायालय से इसे हिन्दू विरोधी हिंसा बताया है। याचिका में हिंसा से जुड़े केसों को नूहं के बाहर चलाने, भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने और मृतकों के परिजनों को 1 करोड़ रुपए की सहायता राशि दिलाने की माँग की गई है।

याचिकाकर्ताओं ने केंद्र और हरियाणा सरकार को पार्टी बनाया है। याचिका का आधार संविधान में दिए गए अभिव्यक्ति की आज़ादी, समानता और जीवन का अधिकार बनाया गया है। याचिका के मुताबिक नूहं जिले के साथ उसके आसपास सोहना और गुरुग्राम में हिन्दुओं को टारगेट किया गया जिसमें कुछ की जान भी चली गई। किए गए हमलों को शर्मनाक बताते हुए याचिकाकर्ताओं ने इसे जीवन के अधिकार का उल्लंघन बताया है। इस याचिका को अधिवक्ता मंजू जेटली शर्मा ने दायर किया है।

कुल 6 माँगों वाली इस याचिका की पहली माँग नूहं हिंसा की राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) द्वारा जाँच कराना है। दूसरी माँग के तौर हिंसा से जुड़े आपराधिक मामलों के ट्रायल को नूहं से बाहर चलाना है। तीसरी माँग में हरियाणा सरकार से उन घरों का लेखा-जोखा पेश करने का आवेदन है जिन्हे हिंसा के दौरान नुकसान पहुँचाया गया है। चौथी माँग में नूहं हिंसा के दौरान अपनी जान गँवाने वाले लोगों के परिजनों को हरियाणा सरकार द्वारा 1 करोड़ और घायलों को 20 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दिलाना है।

इसी याचिका की वहीं पाँचवीं माँग के तौर पर सुप्रीम कोर्ट से अपील की गई है कि वो धार्मिक त्योहारों के लिए किसी गाइडलाइन को बनाने का निर्देश दे। याचिका के मुताबिक, यह आदेश पूरे देश पर लागू हो जिस से भविष्य में नल्हड जैसी किसी और घटना की पुनरावृत्ति न होने पाए। साथ ही अंतिम माँग के तौर पर न्यायालय द्वारा स्वयं ही जनहित में कोई आदेश जारी करने की अपील है। इन माँगों का खाका अधिवक्ता शशांक शेखर झा द्वारा खींचा गया है। ऑपइंडिया के पास याचिका की कॉपी मौजूद है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फ्लाइट में साथ बैठे थे, पूछा मूवी देखती हो, दिखाने लगे पोर्न… जिंदल स्टील के CEO पर महिला यात्री ने लगाया इल्जाम, कहा- मुझे...

अनन्या छौछरिया नाम की महिला ने जिंदल स्टील के सीईओ दिनेश सारोगी के ऊपर यौन उत्पीड़न का इल्जाम लगाया है।

वाहन फूँके, पुलिस पर हमला… दंगों में जला ब्रिटेन का लीड्स: यहीं से सांसद चुना गया है गाजा समर्थक मोतिन अली, जीत के बाद...

ब्रिटेन के शहर लीड्स में दंगे भड़क गए हैं। प्रवासी दंगाइयों ने एक इलाके में जम का उत्पात मचाया और पुलिस की गाड़ियों को तोड़ आग लगा दी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -