Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजलड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, 'इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर...

लड़की हिंदू, सहेली मुस्लिम… कॉलेज में कहा, ‘इस्लाम सबसे अच्छा, छोड़ दो सनातन, अमीर कश्मीरी से कराऊँगी निकाह’: देहरादून के लॉ कॉलेज में The Kerala Story

ऑपइंडिया के पास मौजूद एफआईआर की कॉपी मौजूद है, जिसमें पीड़िता ने अपनी आपबीती बयान की है। मुबीना उससे कहती थी कि मुस्लिम धर्म ही सर्वश्रेष्ठ है। तुम अपना सनातन/हिन्दू परिवर्तित करके मुस्लिम बन जाओ, मैं अपने रसूखदार मुस्लिम दोस्त से निकाह करा दूँगी।

बॉलीवुड फिल्म ‘द केरल स्टोरी’ जैसी ही एक कहानी देहरादून में सामने आई है। जहाँ थर्ड ईयर की हिंदू लड़की पर ‘इस्लाम’ का बखान कर धर्म परिवर्तन के लिए प्रेरित किया गया और न मानने पर उसकी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दी गई। ये आरोप लगे हैं लॉ स्टूडेट मुबीना यूसुफ पर, जो कश्मीरी मुस्लिम है। मुबीना ने हिंदू लड़की पर दबाव डाला कि वो धर्म परिवर्तन इस्लाम कबूल कर ले, क्योंकि वही सच्चा और सर्वश्रेष्ठ धर्म है और उसके परिचित कश्मीरी मुस्लिम लड़के से निकाह कर ले। वो युवक अमीर है और हिंदू लड़की को कोई परेशानी नहीं होने देगा। मुबीना इसके लिए ब्लैकमेलिंग भी कर रही थी और अपने द्वारा हिंदू लड़की की खींची गई आपत्तिजनक तस्वीरों को इसका हथियार बना रही थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीड़ित लड़की का नाम सरिता चौधरी (नाम परिवर्तित) है, जो साल 2021 से देहरादून के सिद्धार्थ लॉ कॉलेज में पढ़ती है। उसके साथ ही कश्मीर के अनंतनाग की रहने वाली मुबीना यूसुफ भी पढ़ती है। मुबीना यूसुफ और सरिता में अच्छी बनने लगी, तो मुबीना ने उसे बहकाने की कोशिश शुरू कर दी। वो उससे सनातन धर्म के बारे में उल्टी-सीधी बातें बोलती और कहती कि इस्लाम ही सच्चा धर्म है। वो सबसे अच्छा है। तुम इस्लाम अपना लो, तुम्हें जिंदगी भर कोई दिक्कत नहीं होगी। मैं तुम्हारी शादी अपने अमीर परिचित कश्मीरी लड़के से करा दूँगी, वो तुम्हारा ख्याल रखेगा।

लेकिन जब सरिता ने उसकी बातों को मानने से इनकार कर दिया, तो वो धमकाने पर उतर आई। यही नहीं, मुबीना ने कथित पर गुरुग्राम की जेल में बंद बदमाशों से भी सरिता को धमकी दिलवाई कि उसकी बात न मानने पर उसके साथ कुछ भी हो सकता है। मुबीना उससे बोलती थी कि अगर वो उसकी पसंद के लड़के से निकाह कर लेगी, तो वो फोटो डिलीट कर देगी। यही नहीं, वो पैसों की भी माँग करती थी।

माता-पिता को बदलते व्यवहार पर हुआ शक, तो हुआ मामले का खुलासा

बताया जा रहा है कि मुबीना सरिता के माता-पिता से बाकायदा परमिशन लेकर उसे अपने घर अनंतनाग लेकर गई थी, जहाँ दोनों दस दिन तक रहे। वहाँ मुबीना ने अपने मुस्लिम दोस्त के साथ मीटिंग करके उस पर निकाह करने का दबाव बनाने लगी। वापस आने के बाद लॉ की छात्रा डिप्रेशन में चली गई और घर से बाहर निकलने से डरने लगी। यहाँ तक ​​कि मुबीना की धमकियों के कारण उसने कॉलेज जाना भी बंद कर दिया। बाद में पीड़िता की माँ, जो पेशे से वकील हैं, को लड़की की आपबीती पता चली और उन्होंने इस संबंध में पुलिस में शिकायत दर्ज कराने को कहा।

इस बारे में सरिता के माता-पिता ने भी मीडिया से बात की और बताया कि हमनें अपनी बच्ची के व्यवहार में बदलाव पाया। लेकिन जब बच्ची ब्लैकमेलिंग नहीं झेल पाई, तब जाकर हमसे पूरी बात बताई। इस मामले में परिवार ने देहरादून के रायपुर थाने में पुलिस से संपर्क किया और एफआईआर दर्ज कराई। पुलिस ने इस मामले में 10 जून 2024 को जबरन वसूली, आपराधिक धमकी और उत्तराखंड स्वतंत्रता अधिनियम-2018 के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

ऑपइंडिया के पास FIR की कॉपी, पीड़िता ने बताई आपबीती

ऑपइंडिया के पास मौजूद एफआईआर की कॉपी के मुताबिक, पीड़िता ने अपनी शिकायत में बताया है, ‘मुबीना यूसुफ मेरे साथ ही सिद्धार्थ लॉ कॉलेज में पढ़ती है। उसने मुझे भरोसे में लेने के बाद कब मेरी फोटो खींची मुझे पता नहीं चला। उसके बाद वो मुझे अपने मुस्लिम धर्म के बारे में बताने लगी कि मुस्लिम धर्म ही सर्वश्रेष्ठ है। तुम अपना सनातन/हिन्दू परिवर्तित करके मुस्लिम बन जाओ, मैं अपने रसूखदार मुस्लिम दोस्त से निकाह करा दूँगी। ये सिलसिला काफी समय तक चलता रहा। एक दिन मैंने तंग आकर मना कर दिया, तो मुबीना आग-बबूला हो गई और कहा, ‘मैंने तेरी प्राइवेट फोटो ले रखी है, नहीं मानी तो वायरल कर दूँगी। और कहती कि मुस्लिम लड़के से निकाह के बाद ही फोटो डिलीट करूँगी। मुबीना ने मुझसे कहा कि मेरे संबंध गैंगस्टरों से है, मैं तुम्हें मरवा दूँगी। यही नहीं, मुबीना मुझसे नए-नए लड़कों से दोस्ती करने और पैसे लाकर देने की डिमाँड करने लगी।’

इस मामले में एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि छात्रा की शिकायत के आधार पर आरोपी मुबीना यूसुफ के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जाँच शुरू कर दी गई है। उन्होंने बताया कि इस मामले जबरन वसूली, आपराधिक धमकी और उत्तराखंड स्वतंत्रता अधिनियम-2018 की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और जाँच के बाद कठोर कार्रवाई की जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -