Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजपति को पेड़ से बाँध आदिवासी महिला की पिटाई, कपड़े उतार पूरे गाँव में...

पति को पेड़ से बाँध आदिवासी महिला की पिटाई, कपड़े उतार पूरे गाँव में परेड: पश्चिम बंगाल में 7 गिरफ्तार

स्थानीय निवासियों ने महिला को ‘अवैध संबंध’ होने के संदेह में प्रताड़ित किया। आरोपितों ने उसके पति को भी पेड़ से बाँध दिया था। पुलिस को इस मामले की जानकारी तब मिली, जब वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया।

पश्चिम बंगाल में मानवता को शर्मसार करने वाली एक घटना सामने आई है। जलपाईगुड़ी में विवाहेतर संबंध रखने के आरोप में एक आदिवासी महिला की पिटाई की गई। पीटने के बाद महिला के कपड़े उतारे गए और फिर पूरे गाँव में परेड कराई गई। घटना का एक वीडियो वायरल हो गया। जिसके बाद पुलिस ने 7 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है।

सूत्रों के अनुसार, स्थानीय निवासियों ने उसे ‘अवैध संबंध’ होने के संदेह में प्रताड़ित किया। आरोपितों ने उसके पति को भी पेड़ से बाँध दिया था। पुलिस को इस मामले की जानकारी तब मिली, जब कथित घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया।

पुलिस सूत्रों ने कहा कि कुछ ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि महिला का एक स्थानीय युवक के साथ विवाहेतर संबंध था। उन्होंने (ग्रामीणों) इस मामले पर चर्चा करने के लिए एक बैठक की। कथित घटना उस समय हुई जब महिला बैठक में शामिल होकर अपने पति के साथ घर लौट रही थी।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ स्थानीय निवासियों ने दंपति को घेर लिया। उन्होंने पति को पेड़ से बाँध दिया और महिला की पिटाई कर दी। स्थानीय मीडिया ने बताया कि उन्होंने कथित तौर पर उसे ‘सबक सिखाने’ के लिए उसके बाल भी काट दिए।

जलपाईगुड़ी के पुलिस अधीक्षक देवर्षि दत्ता ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “जैसे ही हमें शिकायत मिली, प्राथमिकी दर्ज की गई। सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है।” जानकारी के मुताबिक आरोपित व्यक्तियों पर मारपीट और छेड़छाड़ सहित अन्य संबंधित आरोपों के तहत मामला दर्ज किया गया है।

गौरतलब है कि हाल ही में अलीपुरद्वार के कुमारग्रामद्वार के एक गाँव में विवाहेतर संबंध रखने के आरोप में एक आदिवासी महिला की पिटाई की गई थी। पीटने के बाद महिला के कपड़े उतारे गए और फिर पूरे गाँव में परेड कराई गई। घटना का वीडियो वायरल हो गया। जिसके बाद पुलिस ने 6 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -