Wednesday, April 8, 2020
होम बड़ी ख़बर हिन्दूफोबिया टपकता है हसन मिन्हाज के शो से

हिन्दूफोबिया टपकता है हसन मिन्हाज के शो से

हसन मिन्हाज की माइनॉरिटी की परिभाषा में न तो बौद्ध, जैन, सिख आते हैं, और न ही भारत में बाहर से आए और शांति से रह रहे पारसी और यहूदी। क्योंकि...

ये भी पढ़ें

सोशल मीडिया पर कहीं पढ़ा था कि इस्लाम ने नरसंहार-पर-नरसंहार करते जाने और खुद को नफ़रत और असहिष्णुता का पीड़ित दिखाने की जुड़वाँ कला (twin arts) सदियों में परिष्कृत की है।

‘भारतीय’-अमेरिकी “मुस्लिम” (यह वह खुद लगाते हैं, हम नहीं) कॉमेडियन हसन मिन्हाज के नेटफ्लिक्स कॉमेडी शो ‘पैट्रियट एक्ट’ का भारतीय चुनावों पर एपिसोड इसी की तस्दीक करता है।

झूठ, प्रोपेगैंडा, अर्ध-सत्य, एकतरफा नैरेटिव बुनने की कोशिश- हसन मिन्हाज मुसलमानों को बेचारा, इनटॉलरेंस का मारा, और दुष्ट हिन्दुओं (खासकर गौभक्त काफ़िरों) को नीचा दिखाने में कोई कसर बाकी नहीं रखते। और उसके ऊपर chutzpah यह कि हाँ, हाँ, हम तो मुसलमान हैं, इसलिए हमें तो बोलना ही नहीं चाहिए इन मुद्दों पर, वर्ना हम पाकिस्तान के एजेंट घोषित हो जाएँगे। गोया आपके घर कोई चोरी करे और उसके बाद बोले हाँ, हाँ, अब तो हमें चोर बोलोगे ही!

ओपनिंग ही विक्टिम-कार्ड से

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

शो शुरू करने से पहले ही हसन मिन्हाज वीडियो क्लिप्स चलाते हैं जिनमें उनके शुभचिंतक उन्हें भारतीय राजनीति पर न बोलने की सलाह देते हैं। एक मित्र तो उनसे कहते हैं कि ‘बाहर बहुत गंदगी है वहाँ, तुम अगर उन पर बोलोगे तो वही गन्दगी तुम पर आ जाएगी।’ उनके शो को देखकर यह साफ़ पता चलता है कि वह गंदगी हिदुत्व या हिन्दू धर्म को ही कह रहे हैं। ठीक भी है- जब इस्लाम काफ़िरों को इन्सान ही ‘काबिल-ए-क़त्ल’ मानता है तो आत्माभिमानी काफ़िर हिन्दू जाहिर तौर पर इन्सान नहीं, गंदगी ही बचेगा।

एयरस्ट्राइक पर पाकिस्तान का पक्ष, भारत का मखौल

हसन मिन्हाज शुरू से भारत सरकार को विलेन के तौर पर पेश करते हैं। वह बताते हैं कि ‘भारत सरकार मुकदमा कर देगी’ के डर से वह कश्मीर को पाकिस्तान का हिस्सा नहीं दिखा सकते- यानि अगर डर न होता तो दिखा देते कि कश्मीर पाकिस्तान का हिस्सा है, है न?

उसके बाद वह बताते हैं कि कैसे दूसरों के कश्मीर के नक़्शे धुंधले कराते-कराते भारत के खुद के नक़्शे धुंधले हो गए और इसीलिए भारतीय वायुसेना आतंकवादियों को मारने की जगह पेड़ों पर बम गिरा आई। Chutzpah इसी को कहते हैं- आप पाकिस्तान की बोली भी बोलिए, और पाकिस्तान-समर्थक, जिहाद-समर्थक कहे जाने से बचने के लिए खुद ही यह ‘भविष्यवाणी’ कर दीजिए कि अब आपको पाकिस्तान का एजेंट करार दिया जाएगा।

असहिष्णुता का प्रोपेगैंडा, माइनॉरिटी होने पर भी इस्लामी एकाधिकार

हसन बताते हैं कि मोदी के आने के बाद से भारत अल्पसंख्यकों के प्रति ज़्यादा आक्रामक हो गया है। न केवल यह साफ झूठ है बल्कि इस्लाम की एकाधिकारवादी प्रवृत्ति को भी वो एक बार फिर उजागर करते हैं।

उनके लिए ‘माइनॉरिटी’ केवल प्यारे, शांतिप्रिय मुसलमान ही हैं- जो न मंदिर तोड़कर मस्जिदें बनाते हैं, न मज़हब के आधार पर 4 शादियों के विशेषाधिकार से लेकर कमलेश तिवारी का सर कलम करने तक की माँग रखते हैं, और न ही नाम बदल-बदल कर हिन्दू लड़कियों से धोखे से शादी करने और उनका मज़हब बलात् बदलने का प्रयास करते हैं।

हसन मिन्हाज की माइनॉरिटी की परिभाषा में न तो बौद्ध, जैन, सिख आते हैं, और न ही भारत में बाहर से आए और शांति से रह रहे पारसी और यहूदी। क्योंकि माइनॉरिटी की परिभाषा और उसका समूचा फायदा ऐंठने पर भी हिन्दुओं/मूर्तिपूजकों को नीचा देखने वाले ईसाईयों व मुसलमानों का ही तो एकछत्र अधिकार है न?

केवल अल्पसंख्यक मंत्रालय के अंतर्गत अल्पसंख्यकों के लिए खास तौर उन्हें सिविल सर्वेंट बनाने के लिए ‘नई उड़ान’ योजना लाई गई, उनके हुनर को सलामत रखने के लिए ‘हमारी धरोहर’ योजना शुरू की गई, स्कूल ड्रापआउट्स के लिए ‘नई मंजिल’ योजना लाई गई।

इसी कालखण्ड में हिन्दुओं ने सबरीमाला और शनि शिगनापुर मंदिर खो दिए, केवल और केवल हिन्दुओं द्वारा संचालित स्कूलों पर लागू आरटीई आज भी बदस्तूर जारी है, संविधान की धारा 25-30 हमें मज़हबी प्रताड़ना और सरकारी हस्तक्षेप से नहीं बचाती- अगर मोदी सरकार से किसी को मज़हबी तौर पर नाराज़ होना चाहिए तो हिन्दुओं को, न कि आपके जैसे उन मुसलमानों को जिनका हिंदुस्तान से कोई लेना-देना ही नहीं है।

पंथनिरपेक्षता का झूठ, हिन्दुओं में हज़ारों वर्णों का झूठ

“सेक्युलरिज्म भारत के संविधान में प्रतिष्ठापित है”। साफ झूठ।

भारत के संविधान की प्रस्तावना में सेक्युलर शब्द पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने जबरन उस समय ठूंसा था जब हिंदुस्तान में लोकतंत्र नहीं था, आपातकाल था।

इसके विपरीत जिस हिन्दू-धर्म/हिंदुत्व को आप गंदगी, ‘आक्रामक’, व ‘अल्पसंख्यक-विरोधी’ कहते हैं, उसी हिंदुत्व ने भारत में मुसलमानों सहित सभी मज़हबों और आस्थाओं के लोगों को हज़ारों साल पनाह दी। उस समय न संविधान था न संविधान में लिखा हुआ ‘सेक्युलरिज्म’। इसके बावजूद लाखों लोगों की हत्या और बलात्कार के बाद भी, हज़ारों मंदिरों के तोड़े और जलाए जाने के बाद भी हिन्दू और हिंदुस्तान ने मुसलमानों को अपने बीच बनाए रखा।

हसन मिन्हाज का अगला झूठ था कि हिन्दू समाज “हज़ारों वर्णों” में बँटा हुआ है। और उनके झूठ की तस्दीक खुद उनकी स्क्रीन पर ‘ब्राह्मण’, ‘क्षत्रिय’, ‘वैश्य’, ‘शूद्र’ (और साथ में ‘दलित’) को हाईलाईट करना करता है। साफ पता चलता है कि मकसद खाली हिन्दू समाज को बँटा हुआ दिखाकर और बाँटने की ज़मीन तैयार करना है।

हसन भारत को ‘दुनिया की सबसे विभिन्नता भरी जगहों में से एक’ तो बताते हैं, पर यह गोल कर जाते हैं कि यह विभिन्नता ‘गंदे’, काफ़िर हिंदुत्व/हिन्दू धर्म के चलते है। उनके प्यारे इस्लाम में तो एक अल्लाह की सरपरस्ती न मानने वाले को जहन्नुम में भेजने का वादा भी है और उसे जल्दी-से-जल्दी जहन्नुम के लिए रवाना कर देने के लिए जिहाद का हुक्म भी। यह काफिर हिन्दुओं का “एकं सद् विप्रैः बहुधा वदन्ति” ही है, जिसने हिंदुस्तान में आपकी प्यारी ‘डाइवर्सिटी’ को जिंदा रखा है।

कश्मीर, गुजरात दंगों पर फिर से प्रोपेगैंडा

कश्मीर की ‘त्रासदी’ का ज़िक्र करते हुए हसन मिन्हाज भूल कर भी उन कश्मीरी पण्डितों का ज़िक्र नहीं करते जिन्हें तीस साल पहले अपनी औरतों का बलात्कार और मासूम बच्चों का बेरहमी से कत्ल दिखाने के बाद अपने घरों से दरबदर कर दिया गया था।

हसन वामपंथियों के उस पसंदीदा विषय को भी उठाते हैं जिसे हिंदुस्तान के वामपंथियों ने उठाना बंद कर दिया है क्योंकि पता है कि उस झूठ से मोदी को फायदा ही हो रहा है- 2002। वह ‘मोदी ने 2002 में कुछ नहीं किया’ का रोना तो रोते हैं पर यहाँ इसकी साँस-डकार भी नहीं लेते कि 2002 के दंगों के पीछे कारक 60 बेकसूर, निहत्थे, अहिंसक कारसेवकों को मुसलमानों की भीड़ द्वारा जिन्दा जला दिया जाना था।

नोटबंदी पर वह ‘गरीबों को बड़ी तकलीफ हुई’ का रोना रोते हैं पर यह भूल जाते हैं कि उन्हीं गरीबों ने कुछ ही हफ़्तों बाद भाजपा को उत्तर प्रदेश में प्रचण्ड बहुमत दिया।

असम में वह भाजपा पर ‘प्रवासियों’ से नागरिकता छीनने का आरोप लगाते हैं। शायद अमेरिका में अवैध प्रवास की राजनीति करते-करते वो भूल गए हैं कि हिंदुस्तान के काफ़िर गैरकानूनी तरीके से आने वालों को ‘प्रवासी’ नहीं घुसपैठिया कहते हैं।

आदित्यनाथ, दलितों, लिंचिंग पर फिर झूठ

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ तो उनका झूठ ऐसा है कि लगता है उनका खुद बोलने का मन नहीं, ज़बरदस्ती बुलवाया जा रहा है। रजत शर्मा से आदित्यनाथ के इंटरव्यू का वीडियो चलता है। रजत शर्मा पूछते हैं कि योगी को, सन्यासी को असलहों का क्या काम? आदित्यनाथ जवाब देते हैं कि उनकी शिक्षा शस्त्र और शास्त्र दोनों में हुई है।

हसन मिन्हाज इस वार्तालाप का साफ़ तौर पर झूठा अनुवाद करते हैं। वे कभी इसे हथियारों का साम्य ध्यान लगाने से जोड़ना बताते हैं तो कभी हथियारों और अनुशासन की एकता का दावा करने का आरोप आदित्यनाथ पर लगाते हैं।

काफ़िरों के बारे में यहाँ पर हसन मिन्हाज को एक बात बता देना ज़रूरी है। हम काफ़िरों के ‘गंदे’ धर्म हिंदुत्व में आदित्यनाथ जिस नाथ संप्रदाय से आते हैं, उसकी परंपरा ही शस्त्र और शास्त्र में साम्य बिठाकर चलने की रही है। और नाथपंथी योगियों का हथियार उठाना भी सामान्यतः हसन मिन्हाज के ‘पाक’ इस्लाम के हमलों और कत्ले-आम के खिलाफ रहे हैं।

और हम ही क्यों, शस्त्रधारी योगियों की परंपरा जापानी और चीनी काफ़िरों की भी रही है।

आदित्यनाथ पर वह मुसलमान नामों वाली जगहों का नाम हिन्दू कर देने का आरोप लगाते हैं। पर यह नहीं बताते कि उन जगहों के पहले हिन्दू ही नाम थे, जिन्हें तलवार की नोक पर इस्लामी शासकों ने बदला था।

दलितों और लिंचिंग पर वह दो झूठ बोलते हैं:

  1. दलित मुसलमानों की तरह एक ‘अल्पसंख्यक’ समुदाय हैं
  2. लिंचिंग की घटनाएँ मोदी के आने के बाद से हो रहीं हैं

दलित हिन्दू हैं या नहीं यह तो उन्हें जाकर दलितों से ही पूछना चाहिए कि वे हिन्दू हैं या मुसलमानों की तरह अल्लाह के बन्दे। काफ़िर दलित वह जवाब देंगे कि हसन मिन्हाज याद ही रखेंगे। लिंचिंग की घटनाएँ मोदी के आने के बाद से हो रहीं हैं वाली झूठ के खिलाफ़ दो ही सबूत काफ़ी हैं- एक किसी अज्ञात स्रोत द्वारा इकट्ठा किया गया नमूना, और दूसरा अनीश्वरवादी, नोटावादी (यानि इन पर हिन्दू राष्ट्रवाद या राजनीतिक हित का आरोप नहीं लग सकता) वैज्ञानिक-लेखक आनंद रंगनाथन का यह ट्वीट, जो केवल 2013 की लिंचिंग की प्रमुख घटनाएँ इंगित करता है।

इस्लाम को सुधारने पर दीजिए ध्यान

हसन मिन्हाज जी, बेहतर होगा कि आप अपना समय हिन्दूफोबिया फैलाने की बजाय इस्लाम की एकाधिकारवादी, वर्चस्ववादी, मध्ययुगीन बर्बरता को मिटाने पर खर्च करें। कॉमेडी मैटर की वहाँ भी कमी नहीं है।

बाकी हर मज़हब समय के अनुसार बदल चुका है पर आपका दीन आज भी 1400 साल पुरानी मानसिकता की जंजीरों में जकड़ा है।

रही बात हिंदुस्तान के मुसलमान की, तो जो आधुनिक समय और मुख्यधारा के साथ बदल रहे हैं, कट्टरता छोड़ कॉमन सेन्स और सिविक सेन्स को अपना रहे हैं, वह हिंदुस्तान से बेहतर किसी मुल्क को नहीं मानते। अहमद शरीफ का यह लेख आपकी आँखें खोल देने के लिए काफी होना चाहिए।

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

लॉकडाउन के बीच शिवलिंग किया गया क्षतिग्रस्त, राधा-कृष्ण मंदिर में फेंके माँस के टुकड़े, माहौल बिगड़ता देख गाँव में पुलिस फोर्स तैनात

कुछ लोगों ने गाँव में कोरोना की रोकथाम के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लगे पोस्टरों को फाड़ दिया। इसके बाद देर रात गाँव में स्थित एक शिव मंदिर में शिवलिंग को तोड़कर उसे पास के ही कुएँ में फेंक दिया। इतना ही नहीं आरोपितों ने गाँव के दूसरे राधा-कृष्ण मंदिर में भी माँस का टुकड़ा फेंक दिया।

हमारी इंडस्ट्री तबाह हो जाएगी, सोनिया अपनी सलाह वापस लें: NBA ने की कॉन्ग्रेस अध्यक्ष की सलाह की कड़ी निंदा

सरकारी और सार्वजनिक कंपनियों और संस्थाओं द्वारा किसी प्रिंट, टीवी या ऑनलाइन किसी भी प्रकार के एडवर्टाइजमेंट को प्रतिबंधित करने की सलाह की एनबीए ने निंदा की है। उसने कहा कि मीडिया के लोग इस परिस्थिति में भी जीवन संकट में डाल कर जनता के लिए काम कर रहे हैं और अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं।

कोरोना से संक्रमित एक आदमी 30 दिन में 406 लोगों को कर सकता है इन्फेक्ट, अब तक 1,07,006 टेस्‍ट किए गए: स्वास्थ्य मंत्रालय

ICMR के रमन गंगाखेडकर ने जानकारी देते हुए बताया कि पूरे देश में अब तक कोरोना वायरस के 1,07,006 टेस्‍ट किए गए हैं। वर्तमान में 136 सरकारी प्रयोगशालाएँ काम कर रही हैं। इनके साथ में 59 और निजी प्रयोगशालाओं को टेस्ट करने की अनुमति दी गई है, जिससे टेस्ट मरीज के लिए कोई समस्या न बन सके। वहीं 354 केस बीते सोमवार से आज तक सामने आ चुके हैं।

शाहीनबाग मीडिया संयोजक शोएब ने तबलीगी जमात पर कवरेज के लिए मीडिया को दी धमकी, कहा- बहुत हुआ, अब 25 करोड़ मुस्लिम…

अपने पहले ट्वीट के क़रीब 13 घंटा बाद उसने ट्वीट करते हुए बताया कि वो न्यूज़ चैनलों की उन बातों को हलके में नहीं ले सकता और ऐसा करने वालों को क़ानून का सामना करना पड़ेगा। उसने कहा कि अब बहुत हो गया है। शोएब ने साथ ही 25 करोड़ मुस्लिमों वाली बात की भी 'व्याख्या' की।

जमातियों के बचाव के लिए इस्कॉन का राग अलाप रहे हैं इस्लामी प्रोपेगंडाबाज: जानिए इस प्रोपेगंडा के पीछे का सच

भारत में तबलीगी जमात और यूनाइटेड किंगडम में इस्कॉन के आचरण की अगर बात करें तो तबलीगी जमात के विपरीत, इस्कॉन भक्त जानबूझकर संदिग्ध मामलों का पता लगाने से बचने के लिए कहीं भी छिप नहीं रहे, बल्कि सामने आकर सरकार का सहयोग और अपनी जाँच भी करा रहे हैं। उन्होंने तबलीगी जमात की तरह अपने कार्यक्रम में यह भी दावा नहीं किया कि उनके भगवान उन्हें इस महामारी से बचा लेंगे ।

वो 5 मौके, जब चीन से निकली आपदा ने पूरी दुनिया में मचाया तहलका: सिर्फ़ कोरोना का ही कारण नहीं है ड्रैगन

चीन तो हमेशा से दुनिया को ऐसी आपदा देने में अभ्यस्त रहा है। इससे पहले भी कई ऐसे रोग और वायरस रहे हैं, जो चीन से निकला और जिन्होंने पूरी दुनिया में कहर बरपाया। आइए, आज हम उन 5 चीनी आपदाओं के बारे में बात करते हैं, जिसने दुनिया भर में तहलका मचाया।

प्रचलित ख़बरें

फिनलैंड से रवीश कुमार को खुला पत्र: कभी थूकने वाले लोगों पर भी प्राइम टाइम कीजिए

प्राइम टाइम देखना फिर भी जारी रखूँगा, क्योंकि मुझे गर्व है आप पर कि आप लोगों की भलाई सोचते हैं। बीच में किसी दिन थूकने वालों और वार्ड में अभद्र व्यवहार करने वालों पर भी प्राइम टाइम कीजिएगा। और हाँ! इस काम के लिए निधि कुलपति जी या नग़मा जी को मत भेज दीजिएगा। आप आएँगे तो आपका देशप्रेम सामने आएगा, और उसे दिखाने में झिझक क्यूँ?

मधुबनी में दीप जलाने को लेकर विवाद: मुस्लिम परिवार ने 70 वर्षीय हिंदू महिला की गला दबाकर हत्या की

"सतलखा गाँव में जहाँ पर यह घटना हुई है, वहाँ पर कुछ घर इस्लाम धर्म को मानने वाले हैं। जब हिंदू परिवारों ने उनसे लाइट बंद कर दीप जलाने के लिए कहा, तो वो गाली-गलौज करने लगे। इसी बीच कैली देवी उनको मना करने गईं कि गाली-गलौज क्यों करते हो, ये सब मत करो। तभी उन लोगों उनका गला पकड़कर..."

हिन्दू बच कर जाएँगे कहाँ: ‘यूट्यूबर’ शाहरुख़ अदनान ने मुसलमानों द्वारा दलित की हत्या का मनाया जश्न

ये शाहरुख़ अदनान है। यूट्यब पर वो 'हैदराबाद डायरीज' सहित कई पेज चलाता है। उसने केरल, बंगाल, असम और हैदराबाद में हिन्दुओं को मार डालने की धमकी दी है। इसके बाद उसने अपने फेसबुक और ट्विटर हैंडल को हटा लिया। शाहरुख़ अदनान ने प्रयागराज में एक दलित की हत्या का भी जश्न मनाया। पूरी तहकीकात।

पाकिस्तान: हिन्दुओं के कई घर आग के हवाले, 3 बच्चों की जिंदा जलकर मौत, एक महिला झुलसी, झोपड़ियाँ खाक

जिन झोपड़ियों में आग लगी, और जिनका इससे नुकसान हुआ, वो हिंदू समुदाय के थे। झोपड़ियों में आग लगने से कम से कम तीन बच्चे जिंदा जल गए। जबकि एक महिला बुरी तरह से झुलस गई।

मरकज पर चलेगा बुलडोजर, अवैध है 7 मंजिला बिल्डिंग: जमात ने किया गैर-कानूनी निर्माण, टैक्स भी नहीं भरा

जहाँ मरकज बना हुआ है, वहाँ पहले एक छोटा सा मदरसा होता था। मदरसा भी नाममात्र जगह में ही था। यहाँ क्षेत्र के ही कुछ लोग नमाज पढ़ने आते थे। लेकिन 1992 में मदरसे को तोड़कर बिल्डिंग बना दी गई।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

174,238FansLike
53,799FollowersFollow
214,000SubscribersSubscribe
Advertisements