Wednesday, September 30, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे सावरकार की 10 साल बाद याचिका Vs नेहरू का बॉन्ड भरकर 2 हफ्ते में...

सावरकार की 10 साल बाद याचिका Vs नेहरू का बॉन्ड भरकर 2 हफ्ते में जेल से रिहाई: किसने कितना सहा?

सिर्फ 2 हफ्ते की सजा के बाद ही ये स्थिति हो गई कि जवाहरलाल नेहरू ने कभी नाभा में प्रवेश ना करने का बॉन्ड भर कर अपनी सज़ा माफ कराई। उनके पिता उन्हें छुड़ाने के लिए वायसराय तक सिफारिश लेकर पहुँच गए। लेकिन इसके बाद भी नहेरू भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी हैं, जबकि 50 साल की सजा पाए सेल्युलर जेल में 10 साल काटने वाले सावरकर अगर दया याचिका लिखते हैं तो वो कायर कहे जाते हैं।

भक्ष्य रँड बहुमस्त देखता ‘सिंह’ धावले बग्गीकडे गोळी सुटली, गडबड मिटली, दुष्ट नराधम चीत पडे (रैंड नाम का भक्षी जब दिखाई पड़ा तो ‘शेर’ बग्गी की तरफ भागे! गोली छूटी, गंदगी साफ हो गई, दुष्ट आदमी मारा गया)

ये साल 1899 था, जब अंग्रेज अधिकारी वाल्टर चार्ल्स रैण्ड की हत्या मामले में तीनों चापेकर भाइयों को फाँसी की सजा दी गई। चापेकर बंधुओं की वीरता और बलिदान पर 16 साल के विनायक दामोदर सावरकर ने ‘चाफेकरांचा फटका’ नाम से एक मराठी कविता लिखी।

बताया जाता है जिस दिन तीनों भाइयों में सबसे छोटे 20 साल के वासुदेव हरि चाफेकर को फाँसी हुई, उसी रात अष्ठभुजा माँ दुर्गा की प्रतिमा के सामने 16 साल के सावरकर ने चापेकर बंधुओं के मार्ग पर चलने का प्रण लिया।

इसके बाद से लेकर साल 1966 में अपने देह त्यागने से पहले उनकी लिखी आखिरी कविता ‘येमृत्यो! येतूंये, यावयाप्रती’ तक सावरकर के लिए कविता और क्रांति साथ-साथ चली। अपनी मृत्यु के करीब 55 सालों के बाद भी अपने किसी भी समकालीन नेता के मुकाबले सावरकर आज सबसे ज्यादा चर्चा में हैं।

अपने जीवन भर राजनीतिक रूप से वो चाहे कितने भी हाशिए पर रहे हों, लेकिन आज वो राजनीति के केंद्र में हैं। कॉन्ग्रेस का कोई ना कोई नेता आए दिन उन्हें अपशब्द कह रहा होता है। खुद को प्रगतिशील साबित करने के लिए जरूरी है कि आप सावरकर का अपमान करते नज़र आएँ।

यही वजह है कि आज स्वातंत्र्यवीर विनायक दामोदर सावरकर की 137वीं जन्म जयंती के अवसर पर ये आवश्यक हो जाता है कि पीछे मुड़कर देखा जाए कि सावरकर के जीवन में ऐसा क्या है जो कॉन्ग्रेस को इतना परेशान कर रहा है।

कॉन्ग्रेस को लगता है कि देश को आज़ाद कॉन्ग्रेस ने कराया है, इसलिए देश पर राज करने का स्वाभाविक हक कॉन्ग्रेस का है। उस पर यह भी नेहरू जी ने कॉन्ग्रेस की आज़ादी की लड़ाई का नेतृत्व किया है, इसलिए सिर्फ उनका परिवार ही वो पवित्र परिवार है, जिसका सदस्य देश का प्रधानमंत्री बन सकता है।

इसलिए आजाद भारत के 70 सालों में से करीब 55-60 साल राज करने वाली कॉन्ग्रेस आज जब पहली बार सत्ता से 10 साल के लिए बाहर हुई है, तो वो देख रही है कि चुनौती मिल कहाँ से रही है। और इस चुनौती के मूल में उसे दिखाई देती है हिन्दुत्व की विचारधारा।

कॉन्ग्रेस को लगता है कि अगर हिन्दुत्व के इस विचार का सामना करना है तो इसे लिखने वाले सावरकर को ही अलोकप्रिय बना दिया जाए। देश की आजादी की लड़ाई में सभी बड़े नेताओं के आपस में मतभेद थे। गाँधी-अंबेडकर, सुभाष-गांधी, सावरकर-गाँधी, जिन्ना-गाँधी, भगत सिंह-गाँधी, लेकिन आज कॉन्ग्रेस के निशाने पर सावरकर को छोड़कर इनमें से कोई भी महापुरुष निशाने पर नहीं है।

क्योंकि सत्ता पर जो चुनौती दे रहे हैं, वो सावरकर के विचार से आने वाले माने जाते हैं। इसलिए मंच से सावरकर को गाली है और जेएनयू में लगी उनकी प्रतिमा पर कालिख!

कॉन्ग्रेस और भारत का प्रगतिशील तबका जैसा सूक्ष्म आकलन सावरकर के जीवन का करता है या जैसा मापदंड सावरकर के लिए अपनाता है, वैसा मापदंड वो किसी भी दूसरे नेता के लिए नहीं अपनाता। जैसे कि 1923 में नाभा रियासत में गैर कानूनी ढंग से प्रवेश करने पर जवाहरलाल नहेरू को 2 साल की सजा सुनाई गई थी।

लेकिन सिर्फ 2 हफ्ते की सजा के बाद ही ये स्थिति हो गई कि जवाहरलाल नेहरू ने अब कभी नाभा में प्रवेश ना करने का बॉन्ड भर कर अपनी सज़ा माफ कराई, साथ ही उनके पिता उन्हें छुड़ाने के लिए वायसराय तक सिफारिश लेकर पहुँच गए। लेकिन इसके बाद भी नहेरू भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी हैं, लेकिन 50 साल की सजा पाए सेल्युलर जेल में 10 साल काटने वाले सावरकर अगर दया याचिका लिखते हैं तो वो कायर कहे जाते हैं। यानी, नेहरू बॉन्ड भरकर जेल से रिहाई ले सकते हैं, लेकिन सावरकर दया याचिका नहीं लिख सकते।

ये आपको हर जगह दिखेगा। सावरकर ने अपने जीवन के 27 साल जेल या नज़रबंदी में काटे। साल 1910 से लेकर 1924 तक वो काला पानी समेत विभिन्न जेलों में रहे तो वहीं 1924 से लेकर 1937 तक वो रत्नागिरी में नज़रबंद थे। जिस समय देश को आजाद कराने वाले बड़े-बड़े नेता, जिनसे अंग्रेज थर-थर काँपते थे, गोलमेज़ सम्मेलन में हिस्सा लेने लंदन जाया करते थे, उस समय सावरकर को रत्नागिरी से एक कदम बाहर रखने की इज़ाजत नहीं थी। लेकिन इसके बाद भी सावरकर अंग्रेजों के साथी थे और गोलमेज़ सम्मेलन में हिस्सा लेने वाले अंग्रेजों से देश को आज़ाद करा रहे थे।

रत्नागिरी में नज़रबंदी के दौरान सावरकर को 60 रुपए महीने पेंशन के तौर पर अंग्रेज सरकार देती थी। उनके शहर से बाहर जाने या किसी भी प्रकार के नौकरी करने पर रोक थी। अंग्रेजों से पेंशन पाने पर सावरकर आलोचना के पात्र हैं लेकिन जब असहयोग आंदोलन के बाद पाँच साल की सजा पाए गाँधी जी को सिर्फ दो साल मे ही छोड़ दिया गया क्योंकि उन्हें अपेन्डिक्स का ऑपरेशन कराना था तो ऐसा करना ठीक है।

गाँधी जी की पाँच साल की सजा दो साल में बदली जा सकती है, ऐसा करने पर वो अंग्रेजों के चमचे नहीं कहलाते, लेकिन 60 रुपए की पेंशन लेते ही सावरकर पर सवाल खड़े हो जाते हैं। जिस पर 1899 में दक्षिण अफ्रिका में बोअर के युद्ध में अंग्रेजों की तरफ से बतौर सार्जेंट युद्ध में मेडिकल कोर की तरफ से शामिल होने पर गाँधी जी को मेडल मिल चुका था। सोचिए, ऐसा कोई मेडल अंग्रेज सरकार ने सावरकर को दे दिया होता तो आज कॉन्ग्रेस क्या कर रही होती?

भारत का पूरा क्रांतिकारी आंदोलन कॉन्ग्रेस के अहिंसा से आज़ादी पाने वाले विचार के विरोध में था। ‘बम का दर्शन’ और ‘बम की पूजा’ ये दो लेख इस विवाद के शीर्ष बिन्दू हैं, लेकिन बड़ी चालाकी से ‘भगत सिंह बनाम सावरकर’ का विमर्श खड़ा किया जा रहा है।

भगत सिंह को वामपंथी/नास्तिक और सावरकर को हिन्दुत्व का झंडा पकड़ाकर आमने-सामने खड़ा कर दिया जाता है। बड़े-बड़े संपादक और स्तम्भकार खुले आम झूठ बोलते नज़र आते हैं कि भगत सिंह की फाँसी पर सावरकर ने दो शब्द नहीं लिखे, जबकि सच ये है कि रत्नागिरी में नज़रबंद रहते हुए भी सावरकर ने भगत सिंह और राजगुरू के लिए कविता लिखी, जो उन दिनों महाऱाष्ट्र में होने वाली प्रभात फेरियों में गाई जाती थी।

जिसकी शुरूआती पंक्ति है –

हा भगतसिंग, हाय हा
(Woe is me, oh Bhagat Singh, oh)
जाशि आजि, फांशी आम्हांस्तवचि वीरा, हाय हा!
(For us today to the gallows you go)
राजगुरू तूं, हाय हा!
(Woe is me, oh Rajguru, oh!)
राष्ट्र समरी, वीर कुमरा पडसि झुंजत, हाय हा!
(O Brave One, battling in the national war you go!)

एक और झूठ जो सावरकर के नाम से परोसा जाता है वो ये है कि सब से पहले देश के विभाजन की बात सावरकर ने 1937 में की थी। जबकि, सच ये है कि 1933 के तीसरे गोलमेज़ सम्मेलन में ही चौधरी रहमत अली ‘Pakistan Declaration’ के पर्चे बाँट रहे थे।

1937 से पहले दर्जन बार कई नेता इस तरह की बातें कर चुके थे लेकिन बड़ी होशियारी से देश के विभाजन की त्रासदी के जवाबदेही को कॉन्ग्रेस और मुस्लिम लीग के खाते से निकाल कर सावरकर के हिस्से में डालने की कोशिश की जाती रही हैं।

एक कवि, विचारक, क्रांतिकारी, राजनेता, भाषाविद के तौर पर वीर सावरकर का जीवन इतना बड़ा है कि एक लेख में उनके हर पहलू पर बात नहीं की जा सकती। उनके हर विचार से आप सहमत हो ये जरूरी नहीं। बहुत सारे लोग गाँधी जी से या भीमराव अंबेडकर से किसी भी दूसरे नेता से कई मुद्दे पर सहमत नहीं होते, लेकिन इसका ये अर्थ नहीं कि उनके त्याग और समर्पण को हम उपहास और अपशब्द का विषय बना दें।

कॉन्ग्रेस अपनी राजनीतिक लड़ाई अपने दम पर लड़े लेकिन अगर उसे लगता इतिहास के किसी महापुरुष का अपमान करके वो अपना कद ऊँचा कर रही है तो ये उसकी भूल है। क्योंकि कीचड़ अगर सामने से फेंका गया तो कॉन्ग्रेस संभाल नहीं पाएगी।

लेखक: अविनाश त्रिपाठी

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हाथरस ‘गैंगरेप’ में लिबरल गिरोह ‘जाति’ क्यों ढूँढ रहा है? अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Hathras ‘gangrape’ case

इस बीच मौकापरस्त पत्रकार और नेता मामले को स्पिन देते हुए आरोपित की ‘जाति’ निकाल कर सामने ला रहे हैं कि वो उच्च जाति का होने की वजह से पुलिस ने रेप से इनकार किया।

1959 के एकतरफा तरीके से परिभाषित LAC कभी स्वीकार नहीं: भारत ने चीन को दिया दो टूक जवाब

चीन ने एक बार फिर एलएसी के मसले पर नया विवाद खड़ा करने की कोशिश की है। लेकिन भारत ने पलटवार करते हुए चीन से सख्त अंदाज में कह दिया है कि बार-बार भटकाने की मंशा सफल नहीं होगी।

‘बॉलीवुड के नकली अंग्रेज, जिनके रोम-रोम में बसा है इटली वाला रोम’ – सनातन धर्म की रक्षा के लिए अर्नब गोस्वामी का हल्ला बोल

“मैं बॉलीवुड के नकली अँग्रेज़ को बताना चाहता हूँ, भारतीय सिनेमा छोड़ दो। हमारी संस्कृति और परंपराओं पर बॉलीवुड का प्रभाव बढ़ रहा है।"

ड्रग्स सिंडिकेट की एक्टिव मेंबर… तस्करी, डिलीवरी से लेकर घर में स्टोरेज तक: रिया के खिलाफ कोर्ट में NCB

वॉट्सऐप चैट, मोबाइल, लैपटॉप और हार्ड डिस्क से निकाले गए रिकॉर्ड बताते हैं कि वह ना केवल लगातार इसका सौदा करती थीं, बल्कि...

RSS से जुड़े ब्राह्मण ने दिया था अंग्रेजों का साथ, एक मुस्लिम वकील लड़ा था भगत सिंह के पक्ष में – Fact Check

"भगत सिंह को फ़ाँसी दिलाने के लिए अंग्रेजों की ओर से जिस 'ब्राह्मण' वकील ने मुकदमा लड़ा था, वह RSS का भी सदस्य था।" - वायरल हो रहा मैसेज...

योग, सरदार पटेल, राम मंदिर और अब किसान… कॉन्ग्रेसियों के फर्जी विरोध पर फूटा PM मोदी का गुस्सा

राम मंदिर, सरदार पटेल की प्रतिमा, सर्जिकल स्ट्राइक, जन-धन खाता, राफेल और योग दिवस - कॉन्ग्रेस ने हर उस फैसले का जम कर विरोध किया, जो देशहित में था, जनता के भले के लिए था।

प्रचलित ख़बरें

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

'आजतक' का एक पत्रकार कहता दिखता है, "हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण"। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा।

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में हाथियों को गोद लेने की योजना शुरू: 1 दिन से 1 साल तक कोई भी दे सकता है योगदान

“हाथियों के लिए कायाकल्प शिविर सोमवार को शुरू हुआ, जिससे उन्हें अपने नियमित काम से छुट्टी मिल गई। ये हाथी हमें पूरे साल पेट्रोलिंग, ट्रैकिंग और अन्य नियमित कार्यों में मदद करते हैं।”

डेनमार्क की PM के नाम से The Hindu ने भारत में कोरोना की स्थिति को बताया ‘बहुत गंभीर’, राजदूत ने कहा- फेक न्यूज़

'द हिन्दू' ने इस फर्जी खबर में लिखा है कि डेनमार्क की PM ने द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए सोमवार को भारत में COVID-19 की स्थिति के बारे में गहरी चिंता व्यक्त की है।

‘1991 का कानून कॉन्ग्रेस की अवैध मस्जिदों को जिंदा रखने की साजिश, 9 मस्जिदों का जिक्र कर बताया यहाँ पहले थे मंदिर’: PM को...

"द प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट 1991 कॉन्ग्रेस की हुकूमत में इसलिए बनाया गया, ताकि मुगलों द्वारा भारत के प्राचीन पवित्र मंदिरों को तोड़ कर बनाई गई अवैध मस्जिदों को हिंदुस्तान की जमीन पर एक विवाद के रूप में जिंदा रखा जाए और....."

हाथरस ‘गैंगरेप’ में लिबरल गिरोह ‘जाति’ क्यों ढूँढ रहा है? अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Hathras ‘gangrape’ case

इस बीच मौकापरस्त पत्रकार और नेता मामले को स्पिन देते हुए आरोपित की ‘जाति’ निकाल कर सामने ला रहे हैं कि वो उच्च जाति का होने की वजह से पुलिस ने रेप से इनकार किया।

1959 के एकतरफा तरीके से परिभाषित LAC कभी स्वीकार नहीं: भारत ने चीन को दिया दो टूक जवाब

चीन ने एक बार फिर एलएसी के मसले पर नया विवाद खड़ा करने की कोशिश की है। लेकिन भारत ने पलटवार करते हुए चीन से सख्त अंदाज में कह दिया है कि बार-बार भटकाने की मंशा सफल नहीं होगी।

‘उसे अल्लाह ने चुना था’: शार्ली एब्दो के पूर्व कार्यालय के बाहर हमला करने वाले आतंकी को PAK ने बनाया हीरो, जताई खुशी

"मुझे सुनकर बहुत अच्छा लगा। पैगंबर का सम्मान बचाने के लिए मैं अपनी जिंदगी और अपने पाँचों बेटों की कुर्बानी देने को तैयार हूँ।"

LAC पर चीन के साथ टकराव के बीच अमेरिका से खरीदे जाएँगे 30 गार्जियन ड्रोन: ₹22,000 करोड़ होगी कीमत

भारत, अमेरिका से 30 MQ-9B गार्डियन्‍स ड्रोन खरीदेगा। जल्‍द ही इस ड्रोन से जुड़ा खरीद प्रस्‍ताव रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अगुवाई वाली रक्षा खरीद परिषद में पेश किया जाने वाला है।

हाथरस ‘गैंगरेप’ पीड़िता ने तोड़ा दम: पुलिस ने सोशल मीडिया पर आँख फोड़ने, जीभ काटने का किया खंडन

“सोशल मीडिया के माध्यम से यह असत्य खबर सार्वजनिक रुप से फैलाई जा रही है कि थाना चन्दपा क्षेत्रान्तर्गत दुर्भाग्यपूर्ण घटित घटना में मृतिका की जीभ काटी गई, आँख फोड़ी गई तथा रीढ़ की हड्डी तोड़ दी गई थी।"

मेरा साथ देने पर पड़ोसियों को मिली घर तोड़ने की धमकी, BMC ने भेजा नोटिस: कंगना रनौत

ट्वीट में कंगना ने मुंबई में अपने पड़ोसियों के घरों को लेकर चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा है कि बीएमसी ने उनके पड़ोसियों को धमकाया है और नोटिस भेज दिया है।

‘बॉलीवुड के नकली अंग्रेज, जिनके रोम-रोम में बसा है इटली वाला रोम’ – सनातन धर्म की रक्षा के लिए अर्नब गोस्वामी का हल्ला बोल

“मैं बॉलीवुड के नकली अँग्रेज़ को बताना चाहता हूँ, भारतीय सिनेमा छोड़ दो। हमारी संस्कृति और परंपराओं पर बॉलीवुड का प्रभाव बढ़ रहा है।"

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,083FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe