Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीति20 राज्यों की 91 सीटों पर कल मतदान: चुनाव प्रचार का हल्ला शांत

20 राज्यों की 91 सीटों पर कल मतदान: चुनाव प्रचार का हल्ला शांत

इन 20 राज्यों में प्रचार का हल्ला अब शांत हो चुका है। अब देखना है कि प्रत्याशियों द्वारा की मेहनत का जनता उन्हें 23 मई को क्या परिणाम सौंपती है।

लोकसभा चुनावों में मतदान के पहले चरण में अब 24 घण्टे से भी कम का समय बाकी बचा है। कल 11 अप्रैल को 20 राज्यों  की 91 सीटों पर मतदान होंगे। निर्वाचन नियमों के अनुसार मतदान प्रक्रिया खत्म होने के 48 घंटे पहले चुनाव प्रचार रुक जाता है। जिसके मुताबिक इन 20 राज्यों में प्रचार का हल्ला अब शांत हो चुका है। अब देखना है कि प्रत्याशियों द्वारा की मेहनत का जनता उन्हें 23 मई को क्या परिणाम सौंपती है।

कल (अप्रैल 11, 2019) को जिन 20 राज्यों की 91 सीटों पर मतदान होना है। उनमें आंध्र प्रदेश की 25, तेलंगाना की 17, उत्तर प्रदेश की 8, महाराष्ट्र की 7, उत्तराखंड की 5, असम की 5, बिहार की 4, ओडिशा की 4, अरुणाचल प्रदेश की 2, पश्चिम बंगाल की 2, जम्मू कश्मीर की 2, छत्तीसगढ़ की 1, मेघालय की 1, मिजोरम की 1, मणिपुर की 1, नगालैंड की 1, सिक्किम की 1, त्रिपुरा की 1, लक्षद्वीप की 1, अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह की 1 सीटें शामिल हैं।

बताते चलें कि यूपी की 8 सीटों के लिए 16633 मतदान केंद्रों पर 96 उम्मीदवार एक-दूसरे को टक्कर देने के लिए खड़े हैं। यहाँ पर मुख्य मुकाबला भाजपा, कॉन्ग्रेस और बसपा-सपा तथा-रालोद के महागठबंधन के बीच होगा।

वहीं उत्तराखंड में भी 5 सीटों पर 52 उम्मीदवार के बीच चुनावी संग्राम होगा। यहाँ पर मुख्य मुकाबला भाजपा, कॉन्ग्रेस और बसपा के मध्य 11235 मतदान केंद्रों पर होगा। बंगाल की 2 सीटों पर 18 उम्मीदवार चुनावी अखाड़े में हैं। यहाँ भाजपा, कॉन्ग्रेस, टीएमसी के अलावा मुख्य मुकाबले में वाम दल भी शामिल है। छत्तीसगढ़ में 1 सीट पर 7 उम्मीदवार मैदान में हैं। यहाँ पर कॉन्ग्रेस, भाजपा और बसपा के बीच मुख्य लड़ाई है।

बिहार की 4 सीटों पर 44 उम्मीदवार खड़े हैं। यहाँ पर मुख्य दलों में भाजपा जेडीयू और कॉन्ग्रेस-राजद का गठबंधन है। वहीं जम्मू कश्मीर में 2 सीटों पर 33 प्रत्याशी जीत की आस लगाए बैठे हैं। यहाँ पर पीडीपी, कॉन्ग्रेस और जेकेएनसी का गठबंधन है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डीजल डाल कर जला दिया दलित लखबीर का शव, चेहरा तक नहीं देखने दिया परिजनों को: ग्रामीणों ने किया बहिष्कार

डीजल डाल कर मोबाइल की रोशनी में दलित लखबीर सिंह के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। शव से पॉलीथिन नहीं हटाया गया। परिजन चेहरा तक न देख पाए।

पश्चिम बंगाल में दुर्गा विसर्जन से लौट रहे श्रद्धालुओं पर बम से हमला, कई घायल, पुलिस ने कहा – ‘हमलावरों की अभी तक पहचान...

हमलावर मौके से फरार हो गए। सूचना पाकर पहुँची पुलिस ने लोगों की भीड़ को हटाकर मामला शांत किया और घायलों को अस्पताल भेजा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,199FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe