Wednesday, July 17, 2024
Homeराजनीतिसर्वे में गुजरात में खिला 'रिकॉर्ड कमल': मिशन 150 के करीब दिख रही BJP,...

सर्वे में गुजरात में खिला ‘रिकॉर्ड कमल’: मिशन 150 के करीब दिख रही BJP, कॉन्ग्रेस को तगड़ा नुकसान- AAP का खुल सकता है खाता

गुजरात में बीजेपी ने इस बार 'मिशन 150' का लक्ष्य तय कर रखा है। वैसे यही लक्ष्य पार्टी ने 2017 के विधानसभा चुनावों में भी तय कर रखा था, लेकिन इस लक्ष्य को इस बार हासिल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित भाजपा के दिग्गज नेता जनता को साधने की कोशिश कर रहे हैं।

गुजरात विधानसभा चुनाव (Gujarat Assembly Election 2022) के लिए तारीखों का एलान हो चुका है। राज्य में एक और पाँच दिसंबर को मतदान होगा। ऐसे में सामने आए ओपिनियन पोल में सामने आए नतीजों में भाजपा (BJP) की सत्ता में वापसी तय मानी जा रही है। वहीं, कॉन्ग्रेस (Congress) को पछाड़कर आम आदमी पार्टी (AAP) मुख्य विपक्षी दल की भूमिका में आ सकती है।

एबीपी न्यूज और सी-वोटर के सर्वे में गुजरात के 56 प्रतिशत लोगों ने सत्ताधारी भाजपा के पक्ष में मतदान किया। वहीं, 20 प्रतिशत लोगों का मानना है कि चुनाव में आम आदमी पार्टी की जीत होगी। सिर्फ 17 प्रतिशत लोगों का कहना है कि कॉन्ग्रेस की जीत होगी। सर्वे में 2 प्रतिशत लोगों का कहना है कि इन पार्टियों को छोड़कर अन्य की जीत हो सकती है। 

सर्वे के अनुसार, सर्वे में शामिल लोगों में से 1 प्रतिशत लोगों ने मानना है कि राज्य में त्रिशंकु सरकार बनेगी। इन सबसे अलग, 4 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि राज्य में किसकी सरकार बनेगी। अक्टूबर महीने में किए गए इस सर्वे में 22,807 लोगों ने हिस्सा लिया है।

ऑपइंडिया (हिंदी) के डिप्टी एडिटर अजीत झा पहले ही अपने चुनावी विश्लेषण में बता चुके हैं, गुजरात में अब जनता भाजपा को सबसे अधिक पसंद करती है और इस विधानसभा चुनाव में भी उसकी वापसी हो सकती है। उन्होंने कहा कि कॉन्ग्रेस जमीनी स्तर पर नदारद दिख रही है, जबकि आम आदमी पार्टी को अभी भी जमीन की तलाश है।

गौरतलब है कि गुजरात में बीजेपी ने इस बार ‘मिशन 150’ का लक्ष्य तय कर रखा है। वैसे यही लक्ष्य पार्टी ने 2017 के विधानसभा चुनावों में भी तय कर रखा था, लेकिन इस लक्ष्य को इस बार हासिल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित भाजपा के दिग्गज नेता जनता को साधने की कोशिश कर रहे हैं।

ऑपइंडिया (गुजराती) के संपादक सिद्धार्थ छाया का मानना है कि पिछले 5 सालों में काफी चीजें बदल गई हैं। इसलिए इस बार सीटों के लिहाज से बीजेपी विधानसभा चुनाव में रिकॉर्ड बना सकती हैं। इसके पीछे उन्होंने भाजपा और कॉन्ग्रेस के बीच मुकाबले में आम आदमी पार्टी की एंट्री बताया।

सिद्धार्थ छाया कहते हैं, “साल 2017 के चुनावों में पाटिदार आंदोलन के बाद कार्यकर्ताओं को प्रेरित करने के लिए बीजेपी ने 150 सीटों का यह लक्ष्य रखा था। अब तक गुजरात में कॉन्ग्रेस और बीजेपी के बीच सीधा मुकाबला होता रहा है। इस बार उस तरह की स्थिति नहीं है। AAP की मौजूदगी से बीजेपी विरोधी वोटों के बँटने की भी संभावना है और इसका सीधा फायदा भाजपा को मिलेगा।”

सिद्धार्थ के अनुसार इस चुनाव में AAP की भूमिका ‘वोटकटवा’ की है। वे कहते हैं, “सवाल यह नहीं है कि गुजरात का चुनाव कौन जीतेगा। बीजेपी की जीत तय है। कॉन्ग्रेस का दूसरे नंबर पर रहना भी तय है। सवाल यह है कि कॉन्ग्रेस को AAP कितना नुकसान पहुँचाएगी। यदि नुकसान ज्यादा हुआ तो बीजेपी 150 तक के अपने निर्धारित लक्ष्य तक भी पहुँच सकती है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अब सरकार की हो गई माफिया अतीक अहमद की ₹50 करोड़ की प्रॉपर्टी, किसानों-गरीबों को धमका कर किया था अवैध कब्ज़ा

उत्तर प्रदेश में ऑपरेशन माफिया के तहत चल रही कार्रवाई में कमिश्नरेट पुलिस प्रयागराज और राज्य सरकार ने बड़ी सफलता हासिल की है। माफिया अतीक अहमद की करीब 50 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति अब राज्य सरकार की हो गई है।

‘रुक जाएगा विकास’: कर्नाटक सरकार के 75% आरक्षण वाले बिल से डरा IT कंपनियों का सबसे बड़ा समूह, CM नायडू के मंत्री बेटे ने...

IT कंपनियों के सबसे बड़े संघ ने कहा कि स्थानीय प्रतिभाओं की कमी होने के कारण कंपंनियों को किसी अन्य राज्य का रुख करने को मजबूर होना पड़ सकता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -