Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिआतिशी मार्लेना, सौरभ भारद्वाज, राघव चड्ढा, दुर्गेश पाठक... दिल्ली की मंत्री ने बताया दारू...

आतिशी मार्लेना, सौरभ भारद्वाज, राघव चड्ढा, दुर्गेश पाठक… दिल्ली की मंत्री ने बताया दारू घोटाले में अब किन-किन की बारी, CM केजरीवाल ने ED को बताए थे 2 मंत्रियों के नाम

ईडी के सामने अपना नाम आने के बाद आतिशी मार्लेना-सौरभ भारद्वाज ने इसका ठीकरा भाजपा पर फोड़ा। आतिशी ने कहा भाजपा के एक नेता ने उनके करीबी से संपर्क साधा है। उनको बोला है की आतिशी को अपना करियर बचा के रखना है तो वह जल्द भाजपा में शामिल हो जाए, अन्यथा उसे भी गिरफ्तार किया जाएगा।

शराब घोटाला मामले में गिरफ्तार दिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की रिमांड खत्म होने पर 1 अप्रैल को कोर्ट में सुनवाई हुई थी। इस दौरान ईडी ने कोर्ट को बताया था कि अरविंद केजरीवाल ने पूछताछ में दो नेताओं के नाम लिए हैं जिन्हें शराब कारोबारी विजय नायर रिपोर्ट करता था। उन नेताओं के नाम- आतिशी मार्लेना हैं और सौरभ भारद्वाज। इस खुलासे के बाद आज इन दोनों आम आदमी पार्टी के नेताओं ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

आतिशी मार्लेना ने मीडिया में अपनी बात रखते हुए कहा कि अभी ईडी चार और आम आदमी पार्टी के नेताओं को गिरफ्तार करेगी। इन चार में इन्होंने खुद का नाम लिया और बाकी तीन नेता जिनके नाम लिए- उनमें सौरभ भारद्वाज, दुर्गेश पाठक और राघव चड्ढा का नाम है।

ईडी के सामने अपना नाम आने के बाद आतिशी ने इसका ठीकरा भाजपा पर फोड़ा। उन्होंने कहा कि भाजपा के एक नेता ने उनके करीबी से संपर्क साधा है। उनको बोला है की आतिशी को अपना करियर बचा के रखना है तो वह जल्द भाजपा में शामिल हो जाए, अन्यथा उसे भी गिरफ्तार किया जाएगा। उन्हें मालूम हुआ कि भाजपा आम आदमी पार्टी को कुचलना चाहती है। इस कड़ी में उनके साथ-साथ सौरव भारद्वाज, राघव चड्ढा और दुर्गेश पाठक को जल्दी ही गिरफ्तार किया जाएगा। उनके घरों पर भी रेड की जाएगी और फिर समन भेज कर तलब किया जाएगा। उस दौरान उन्हें गिरफ्तार करने की योजना है।

इसी तरह सौरभ भारद्वाज ने भी आतिशी मार्लेना के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस की। सौरभ भारद्वाज ने कहा कि 31 मार्च को जो जोश रामलीला मैदान में दिखा उससे भाजपा के होश उड़ गए। उन्हें लगा सब कुछ किए जाने के बाद AAP आखिर खड़ी कैसे है। भारद्वाज ने कहा कि भाजपा सरकार वैसी ही हो गई है जो आवाज उठाएगा उसको जेल भेजकर डराकर शासन चलाना चाहती है।

सौरभ भारद्वाज ने मीडिया से कहा कि उन्होंने दिल्ली में रैली की तो उनके पास बड़े नेताओं के नंबर भी नहीं थे। नंबर माँग माँगकर सबको रैली में शामिल होने को कहा गया। इस रैली में इतने बड़े लोग आए इसे देख बीजेपी परेशान हो गई। उन्हें लग रहा है कि उन्होंने सब करके देख लिया, फिर भी आम आदमी पार्टी कैसे डटी है। सौरभ भारद्वाज ने कहा, “दादागिरी हो गई और खुल्लमखुल्ला गुंडगर्दी हो रही है। ये डरा धमकाकर सत्ता चला रहे हैं। यह बात मैं न भी बोलूँ तो भी जनता जानती है।”

कोर्ट में उनका और आतिशी का नाम लिए जाने पर सौरभ भारद्वाज ने प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि जो बातें फैलाई जा रही हैं कि केजरीवाल ने दो नेताओं को फँसा दिया, वो बात सीबीआई-ईडी के दस्तावेज में डेढ़ साल से हैं। अरविंद केजरीवाल की न्यायिक हिरासत के दौरान देश के एएसजी बोल रहे हैं तो क्या मकसद है? उन्होंने कहा कि भाजपा सोशल मीडिया पर ऐसे कैंपेन चलाने के लिए तैयार थी। ऐसी बातें फैलाना उनकी स्ट्रैटेजी है।

बता दें कि 1 अप्रैल 2024 को जब केजरीवाल के मामले में कोर्ट में सुनवाई हुई उस समय कोर्ट में सौरभ भारद्वाज और आतिशी मार्लेना कोर्ट में ही थे। जैसे ही इन दोनों नेताओं का नाम लिया गया वैसे ही इन्होंने एक दूसरे को देखा और सुनीता केजरीवाल की ओर भी देखा, लेकिन सुनीता केजरीवाल ने इनकी तरफ नहीं देखा। इनकी इस प्रतिक्रिया पर खूब मीडिया में खबर चली और बाद में यही देखते हुए लोग ये कहना शुरू किए कि अरविंद केजरीवाल ने अपने दो नेताओं को फँसा दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

डोनाल्ड ट्रंप को मारी गई गोली, अमेरिकी मीडिया बता रहा ‘भीड़ की आवाज’ और ‘पॉपिंग साउंड’: फेसबुक पर भी वामपंथी षड्यंत्र हावी

डोनाल्ड ट्रंप की हत्या के प्रयास की पूरी दुनिया के नेताओं ने निंदा की, तो अमेरिकी मीडिया ने इस घटना को कमतर आँकने की कोशिश की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -