Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीतिआजम खान की जुबान बोले राहुल गॉंधी,‘रेप इन इंडिया’ के बाद चड्डी पर पहुँचे

आजम खान की जुबान बोले राहुल गॉंधी,‘रेप इन इंडिया’ के बाद चड्डी पर पहुँचे

''राहुल गाँधी देश की राजनीति के विमर्श और संस्कृति और भाषा को न्यूनतम स्तर पर ले जा रहे हैं। वे गाली-गलौज वाली भाषा का उपयोग कर राजनीति के स्तर को गिरा रहे हैं। RSS पर उनका बयान इसका ताज़ा उदाहरण है।''

उत्तर प्रदेश में 2017 में विधानसभा चुनाव हुए थे। कॉन्ग्रेस ने सपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था। चुनाव में औंधे मुॅंह गिरने के बाद यह गठजोड़ टूट गया। लेकिन, अब लगता है कि इस गठजोड़ ने राहुल गॉंधी पर गहरा असर छोड़ा था। यही कारण है कि सपा नेताओं की तरह ही विवादित बयान देने में वे महारत हासिल करते जा रहे हैं।

इस साल जब लोकसभा चुनाव हुए थे तो सपा नेता आजम खान ने अपनी प्रतिद्वंद्वी महिला उम्मीदवार पर निशाना साधते हुए कहा था कि उनकी अंडरवियर का रंग खाकी है। शनिवार (28 दिसंबर 2019) को उसी जुबान में कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गॉंधी भी चड्डी तक पहुॅंच गए। बीते दिनों ही राहुल ने ‘मेक इन इंडिया’ का माखौल उड़ाते हुए कहा था कि ‘रेप इन इंडिया’ बना दिया है।

गुवाहाटी में एक रैली को संबोधित करते हुए राहुल गाँधी ने कहा, ”हम बीजेपी और RSS को असम की हिस्ट्री (इतिहास), भाषा, संस्कृति पर आक्रमण नहीं करने देंगे। असम को नागपुर नहीं चलाएगा, असम को RSS की चड्डी वाले नहीं चलाएँगे। असम को असम की जनता चलाएगी।”

उन्होंने कहा, ”असम समझौते की भावना को समाप्त नहीं किया जाना चाहिए, जिस वजह से शांति आई है।” कॉन्ग्रेस नेता ने कहा कि उन्हें संदेह है कि बीजेपी की नीतियों के कारण असम हिंसा के रास्ते पर लौट रहा है। राहुल गाँधी ने कहा, ”बीजेपी जहाँ भी जाती है, नफ़रत फैलाती है। असम में युवा विरोध कर रहे हैं, अन्य राज्यों में भी विरोध हो रहा है। आप उन्हें क्यों मार रहे हैं? बीजेपी लोगों की आवाज़ नहीं सुनना चाहती।”

उन्होंने कहा,

”ये (NRC और NPR) नोटबन्दी नंबर 2 है। इससे हिन्दुस्तान के गरीबों को बहुत नुकसान होने जा रहा है। नोटबन्दी तो भूल जाइए, ये उससे दोगुना झटका होगा। इसमें हर गरीब आदमी से पूछा जाएगा कि वह हिन्दुस्तान का नागरिक है या नहीं। लेकिन, उनके जो 15 दोस्त हैं उनको कोई दस्तावेज़ दिखाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी।”

राहुल गाँधी के इस विवादित बयान पर पलटवार करते हुए राज्यसंभा सांसद और RSS विचारक राकेश सिन्हा ने कहा, ”राहुल गाँधी देश की राजनीति के विमर्श और संस्कृति और भाषा को न्यूनतम स्तर पर ले जा रहे हैं। वे गाली-गलौज वाली भाषा का उपयोग कर राजनीति के स्तर को गिरा रहे हैं। RSS पर उनका बयान इसका ताज़ा उदाहरण है।”

एक ट्वीट में उन्होंने कहा है, “अब ‘चड्डी’ के बाद आगे और किस किस ‘पोशाक’ का नाम लेकर गाली देंगे? ध्यान रखिएगा देश की राजनीति को चाणक्य, चन्द्रगुप्त, गाँधी, लोहिया, दीनदयाल जी जैसे लोगो ने सींचा है।”

वहीं, दूसरी तरफ़ कॉन्ग्रेस की महासचिव प्रियंका गाँधी ने लखनऊ में CAA के मुद्दे पर मोदी सरकार को कायर करार देते हुए कहा, “जिन्होंने देशभर में NRC की चर्चा शुरू की वे आज कहते हैं कि चर्चा ही नहीं हुई। यह देश उनको पहचान रहा है। उनकी कायरता को पहचान रहा है। उनके झूठ से उब चुका है।”

‘राहुल गाँधी की रैली के बाद नदवा में भड़की हिंसा, ओवैसी देश में नए जिन्ना के तौर पर कर रहे हैं काम’

8 दिन के लिए जेल भेजी गई पायल रोहतगी, लोगों ने पूछा- सावरकर के अपमान पर राहुल गाँधी की गिरफ्तारी कब

सावरकर के पोते ने कहा- राहुल गाँधी की सार्वजनिक रूप से पिटाई करें उद्धव ठाकरे

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,743FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe