Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाज'किसान चाहते हैं हर साल सूखा पड़े, ताकि उनका लोन माफ हो': कर्नाटक के...

‘किसान चाहते हैं हर साल सूखा पड़े, ताकि उनका लोन माफ हो’: कर्नाटक के कॉन्ग्रेसी मंत्री का विवादित बयान, BJP ने माँगा इस्तीफा

भाजपा ने कहा है कि कॉन्ग्रेस कर्नाटक के किसानों का मजाक उड़ा रही है। गौरतलब है कि कर्नाटक में इस बार सूखा पड़ रहा है और कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने इसको लेकर कर्जों में कुछ राहत का ऐलान भी किया है।

कर्नाटक की कॉन्ग्रेस सरकार में मंत्री शिवानंद पाटिल ने एक विवादित बयान दिया है। पाटिल का कहना है किसान हर साल सूखा पड़ते देखना चाहते हैं ताकि उनका कर्ज माफ़ हो जाए। वह इससे पहले भी किसानों की आत्महत्या पर विवादित बयान दे चुके हैं।

शिवानंद पाटिल ने कर्नाटक के बेलगावी में एक कार्यक्रम में कहा, “कृष्णा नदी का पानी मुफ्त है, अब बिजली भी मुफ्त और मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने मुफ्त बीज और कीटनाशक भी दे दिए। किसान चाहेंगे कि बार-बार सूखा पड़े ताकि उनका लोन माफ़ हो जाए। आप लोगों को यह इच्छा नहीं रखनी चाहिए। आप लोग नहीं भी चाहोगे तो हर 3-4 साल में सूखा पड़ेगा।”

शिवानंद पाटिल कर्नाटक की कॉन्ग्रेस सरकार में मंडी विकास, गन्ना और कपड़ा मंत्री हैं। शिवानंद पाटिल के इस विवादित बयान का विरोध चालू हो गया है। कर्नाटक में विपक्षी भाजपा ने मुख्यमंत्री सिद्दारमैया से शिवानंद पाटिल का इस्तीफ़ा लेना चाहिए।

भाजपा ने कहा है कि कॉन्ग्रेस कर्नाटक के किसानों का मजाक उड़ा रही है। गौरतलब है कि कर्नाटक में इस बार सूखा पड़ रहा है और कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने इसको लेकर कर्जों में कुछ राहत का ऐलान भी किया है। कर्नाटक भाजपा के अध्यक्ष BY विजयेन्द्र ने कहा है कि कॉन्ग्रेस ने किसानों को गाली देने की संस्कृति और किसानों का जीवन खराब करने की नीति अपना ली है। यह जिम्मेदारी शिवानंद पाटिल को दी गई है।” उन्होंने शिवानंद पाटिल से तुरंत माफ़ी माँगने को कहा है।

शिवानंद पाटिल ने सितम्बर 2023 में भी किसानों पर विवादित बयान देते हुए कहा था कि किसान मुआवजे का पैसा लेने के लिए आत्महत्या कर लेते हैं। उन्होंने कहा था कि यह तबसे बढ़ा है जबसे सरकार ने मुआवजे की धनराशि बढ़ाई है।

उन्होंने संवेदनहीनता दिखाते हुए कहा था कि जिन किसानों की मौत प्रेम प्रसंगों, हृदय गति रुकने या फिर शराब पीने से हो रही है उनको भी किसान आत्महत्याओं में दिखाया जा रहा है ताकि मुआवजा पाया जा सके। उन्होंने कहा था कि ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि उनके लालची रिश्तेदार मुआवजे की धनराशि पाना चाहते हैं। यह मानव प्रकृति है कि गलत कारणों को दिखा कर मुआवजा लिया जाए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -