Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतिऔरंगजेब 'महान'... टोपी बुनकर-कुरान लिखकर खाता था रोटी, मंदिर भी बनवाता था: इस्लामी स्कॉलर...

औरंगजेब ‘महान’… टोपी बुनकर-कुरान लिखकर खाता था रोटी, मंदिर भी बनवाता था: इस्लामी स्कॉलर ने ऑन कैमरे दिया इतिहास का ज्ञान, BJP प्रवक्ता की छूटी हँसी

हाजिक खान द्वारा औरंगजेब की तारीफ किए जाने के बाद भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया चुटकी लेते नजर आए। उन्होंने कहा, "आज इनका मुगल प्यार जग गया है। औरंगज़ेब ने तो अपने पिता को ही जेल भेज दिया था। आप (हाजिक खान) बच कर रहिएगा कि कहीं आपके साथ ऐसा न हो जाए।"

12 मई 2022 (गुरुवार) को समाचार चैनल ‘आज तक’ के शो ‘हल्ला बोल’ में वाराणसी ज्ञानवापी मुद्दे पर एक बहस हुई। इस बहस में मुस्लिम पक्ष की तरफ से बोलते हुए इस्लामिक स्कॉलर हाजिक खान ने औरंगजेब को महान बताते हुए उसकी शान में कसीदे गढ़े। जवाब में भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने उनकी चुटकी ली।

पत्रकार अंजना ओम कश्यप ने सवाल किया, “मुगल आक्रांताओं की पहरेदारी क्यों की जा रही है ?” इस पर हाजिक खान ने कहा, “किसी के कहने से इस मुल्क पर 53 साल हुकूमत करने वाला आक्रांता नहीं हो जाता। इतना शासन कोई भाजपा नेता भी नहीं कर सकता। मैं इतिहास का छात्र हूँ इसलिए ये जानकारी रखता हूँ। औरंगजेब ने इतिहास में कोई भी बिल्डिंग भारत में नहीं बनाई। उसके बाप, दादा और परदादा सभी बादशाह थे लेकिन उसने टोपी बुन के और कुरान लिख कर रोटी खाई है।”

हाजिक खान ने आगे कहा, “बाबरी शहीद होने के बाद आपके आज तक चैनल पर ही रिपोर्ट दिखाई गई थी कि औरंगजेब ने 18 -19 मंदिर छोड़े और 20-22 बनवाए। साथ ही उसने इस देश के हिन्दुओं को 126 जमीनें दी थीं। मोदी और योगी जिस मठ में बैठे हुए हैं वो नवाब वाजिद अली शाह की दी गई है। हम कोर्ट का आदेश मानने को तैयार हैं। हमने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया। ये (भाजपा वाले) संविधान की अवहेलना कर रहे हैं। ये संसद में पारित प्लेसेस ऑफ़ वर्शिप एक्ट को भी मानने के लिए तैयार नहीं हैं।”

इन आरोपों के जवाब में भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा, “आज इनका मुगल प्यार जग गया है। औरंगज़ेब ने तो अपने पिता को ही जेल भेज दिया था। आप (हाजिक खान) बच कर रहिएगा कि कहीं आपके साथ ऐसा न हो जाए। आपकी नियति काली है। आज ये हम पर प्लेसेस ऑफ़ वर्शिप एक्ट न मानने का आरोप लगा रहे हैं। हमने इस एक्ट को गैर संवैधानिक मानते हुए सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। लेकिन जिस CAA को संसद ने ही पास किया था उसे आपने नहीं माना। क्या वो पाकिस्तान से आया था या तुर्की से ? आज इनके जैसा एक वर्ग मंदिर-मस्जिद से हट कर शिक्षा की दुहाई देता है लेकिन उसी वर्ग को रोहिंग्या और पर्दा चाहिए। इन्हे बाकी सब कुछ वो चाहिए हो संविधान में नहीं है। क्योंकि जीत हिन्दू पक्ष की हुई है इसलिए ये झटके में हैं।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

काशी विश्वनाथ मंदिर और महाकालेश्वर मंदिर परिसर के दुकानदारों को लगाना होगा नेम प्लेट: बिहार के बोधगया की दुकानों में खुद ही लगाया बोर्ड,...

उत्तर प्रदेश के बाद मध्य प्रदेश के महाकालेश्वर मंदिर परिसर में स्थित दुकानदारों को अपना नेम प्लेट लगाने का आदेश दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -