Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीतिफिर से झारखंड के मुख्यमंत्री बने हेमंत सोरेन, मंत्रियों के नाम अभी फाइनल नहीं:...

फिर से झारखंड के मुख्यमंत्री बने हेमंत सोरेन, मंत्रियों के नाम अभी फाइनल नहीं: घोटाले में गिरफ्तारी के बाद चंपई सोरेन को सौंपी थी कुर्सी

झारखंड में झामुमो की अगुवाई में इंडी गठबंधन के विधायकों की संख्या 45 है। इसमें कॉन्ग्रेस के 17 विधायक, राजद के एक और झामुमो के 27 विधायक शामिल हैं।

झारखंड में हेमंत सोरेन ने फिर से मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है। राजभवन में राज्यपाल ने हेमंत सोरेन को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई है। राजभवन में आयोजित शपथग्रहण समारोह में हेमंत सोरेन के पिता शिबू सोरेन भी नजर आए। हेमंत सोरेन अपने पिता का हाथ थामकर उन्हें सहारा देते और राजभवन में ले जाते नजर आए। हेमंत सोरेन तीसरी बार राज्य के सीएम बने हैं। उनसे पहले शिबू सोरेन और अर्जुन मुंडा तीन बार सीएम रह चुके हैं।

पिता शिबू सोरेन और अर्जुन मुंडा की बराबरी

राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन ने राज भवन में हेमंत सोरेन को मुख्यमंत्री के पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। वो तीसरी बार मुख्यमंत्री बने हैं। हेमंत सोरेन से पहले शिबू सोरेन और अर्जुन मुंडा झारखंड के तीन-तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं। बता दें कि झारखंड हाई कोर्ट द्वारा 28 जून को जमानत दिए जाने के बाद हेमंत को जेल से रिहा कर दिया गया था, पाँच महीने पहले उन्हें गिरफ़्तार किया गया था। बीच के समय में चंपई सोरेन बतौर मुख्यमंत्री काम कर रहे थे। उन्होंने हेमंत के जेल से बाहर आने के बाद इस्तीफा दे दिया और हेमंत के लिए रास्ता साफ कर दिया।

शपथ ग्रहण समारोह से पहले हेमंत सोरेन ने एक वीडियो संदेश जारी किया। उन्होंने कहा कहा, “5 महीने पहले सत्ता के मद में चूर अहंकारियों ने मुझे चुप कराने की कोशिश की थी। आज झारखंडियों की जनमत वापस बुलंद होगी। हेमंत सोरेन ने कहा कि इसी जगह से मैंने आपको संदेश दिया था कि किस तरह हमारे खिलाफ विरोधियों ने साजिश रची और वो उसमें कामयाब हुआ। मुझे 5 महीने तक जेल में रखने का प्रयास किया गया। हमने भी कानूनी लड़ाई का रास्ता अपनाया। न्याय ने मुझे पाक करार दिया। मैं आज फिर से आपके सामने हूँ।” हेमंत सोरेन ने कहा कि भगवान के घर अंधेर नहीं रहता है।

बता दें कि झारखंड में इस साल नवंबर-दिसंबर में विधानसभा चुनाव भी प्रस्तावित है। झारखंड में झामुमो की अगुवाई में इंडी गठबंधन के विधायकों की संख्या 45 है। इसमें कॉन्ग्रेस के 17 विधायक, राजद के एक और झामुमो के 27 विधायक शामिल हैं। झामुमो के दो विधायक नलिन सोरेन और जोबा माझी अब सांसद बन चुके हैं। सीता सोरेन ने भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ा था और विधायकी पद से इस्तीफा दे दिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -