Wednesday, July 24, 2024
Homeराजनीतिसंयुक्त किसान मोर्चा से योगेंद्र यादव सस्‍पेंड, लखीमपुर खीरी में मार डाले गए BJP...

संयुक्त किसान मोर्चा से योगेंद्र यादव सस्‍पेंड, लखीमपुर खीरी में मार डाले गए BJP कार्यकर्ता शुभम मिश्रा के घर जाने को लेकर कार्रवाई

3 अक्टूबर 2021 को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में ‘किसानों’ की एक भीड़ ने भाजपा के काफिले पर पत्थर और लाठियों से हमला किया। इसके बाद हुए हंगामे के बीच प्रदर्शनकारियों के ऊपर एक वाहन दौड़ता देखा गया। इसके बाद गुस्साई भीड़ ने लोगों को पीट पीटकर मार डाला था।

संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने योगेंद्र यादव को एक महीने के लिए सस्पेंड कर दिया है। SKM केंद्र सरकार के कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान संगठनों का शीर्ष निकाय है। योगेंद्र यादव पर यह करवाई लखीमपुर खीरी हिंसा में मार डाले गए बीजेपी कार्यकर्ता शुभम मिश्रा के घर जाने को लेकर की गई है।

इस मुलाकात के बारे में यादव ने खुद ट्विटर पर जानकारी साझा की थी। उन्होंने लिखा था, “शहीद किसान सभा से वापसी में बीजेपी कार्यकर्ता शुभम मिश्रा के घर गए। परिवार ने हम पर गुस्सा नहीं किया। बस दुखी मन से सवाल पूछा कि क्या हम किसान नहीं हैं? हमारे बेटे का क्या कसूर था? आपके साथी ही एक्शन का रिएक्शन वाली बात क्यों कही? उनके सवाल कान में गूँज रहे हैं।”

कहा जा रहा है कि इस ट्वीट के बाद से ही योगेंद्र यादव के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा में नाराजगी का माहौल था। उनके खिलाफ मोर्चा कार्रवाई करने की बात भी कह रहा था, लेकिन उससे पहले उन्हें माफी माँगने को भी कहा गया था। गुरुवार (21 अक्टूबर 2021) को हुई संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में योगेंद्र यादव को एक महीने के लिए सस्पेंड करने का निर्णय लिया गया।

सूत्रों के मुताबिक, पंजाब के किसानों ने बड़ी ही आक्रामकता के साथ योगेंद्र यादव पर कार्रवाई की माँग की थी। बैठक के दौरान योगेंद्र यादव ने शुभम मिश्रा परिवार से मिलने से पहले अपने सहयोगियों से सलाह न लेने के लिए माफी माँगी थी। लेकिन उन्होंने मृतक भाजपा कार्यकर्ता के परिवार से मिलने के लिए माफी नहीं माँगी। उनका कहना था कि उन्होंने संवेदना व्यक्त कर कुछ भी गलत नहीं किया।

लखीमपुर खीरी हिंसा मामला

3 अक्टूबर 2021 को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में ‘किसानों’ की एक भीड़ ने भाजपा के काफिले पर पत्थर और लाठियों से हमला किया। इसके बाद हुए हंगामे के बीच प्रदर्शनकारियों के ऊपर एक वाहन दौड़ता देखा गया। इसके बाद गुस्साई भीड़ ने दो वाहनों को आग के हवाले कर दिया। लोगों को वाहन के अंदर से घसीटा और पीट-पीटकर मार डाला। हिंसा में कुल आठ लोगों की जान चली गई थी। मामले में अब तक दस गिरफ्तारियाँ हो चुकी हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार ने मृतक के परिजन को 45 लाख रुपए और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का वादा किया था। मामले की जाँच के लिए एक सदस्यीय कमेटी भी बनाई गई है। पिछले दिनों हिंसा की जाँच कर रही SIT ने घटना में शामिल कुछ संदिग्धों की तस्वीरें जारी कर लोगों से सूचना देने की अपील भी की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -