Thursday, July 25, 2024
Homeराजनीति'जहाँ भगवान राम ने किया विश्राम, वहाँ अब हरे झंडे लहरा रहे': बोले योगी...

‘जहाँ भगवान राम ने किया विश्राम, वहाँ अब हरे झंडे लहरा रहे’: बोले योगी के मंत्री- निषादराज किले से बाबरी की तरह हटाई जाए मस्जिद

"निषादराज किले में भगवान श्रीराम ने रात्रि विश्राम किया था, लेकिन वहाँ मस्जिद बना दी गई है। अब उस जगह पर हरे झंडा लहरा रहे हैं। इस मस्जिद को बाबरी की तरह ही हटाकर किले का निर्माण करवाया जाना चाहिए।"

उत्तर प्रदेश के मत्स्यपालन मंत्री डॉ. संजय निषाद ने फिर से श्रृंगवेरपुर धाम के निषादराज किले में बनाई गई मस्जिद को हटाने की माँग की है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार ​गोरखपुर में 16 अगस्त को निषाद पार्टी के स्थापना दिवस समारोह के दौरान उन्होंने यह माँग दोहराई। डॉ. संजय निषाद ही इस पार्टी के अध्यक्ष हैं। समारोह में एनडीए के घटक दलों के नेता भी मौजूद थे।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार डॉ. संजय निषाद ने कहा कि निषादराज किले में भगवान श्रीराम ने रात्रि विश्राम किया था, लेकिन वहाँ मस्जिद बना दी गई है। अब उस जगह पर हरे झंडा लहरा रहे हैं। इस मस्जिद को बाबरी की तरह ही हटाकर किले का निर्माण करवाया जाना चाहिए। उन्होंने जब यह बात कही तब मंच पर यूपी के दोनों उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक भी मौजूद थे।

निषाद पार्टी के मुखिया ने कहा है कि निषादराज का किला हासिल करने के लिए वे लोकतांत्रिक तरीके से कुछ भी करने को तैयार हैं। चाहे मुस्लिमों से मुकदमा लड़ना पड़े या उनसे अपील करनी पड़े। उन्होंने कहा कि निषादराज का किला एक विरासत है। यह विरासत निषाद समाज को सौंपकर वहाँ एक किला बनवाया जाए। संजय निषाद ने कहा है कि जब तक श्रृंगवेरपुर में निषादराज के किले पर ‘जय निषादराज’ का झंडा था और अयोध्या में श्रीराम का झंडा था, तब तक सुख का राज था। यह किला 300 मीटर से अधिक बड़ा था। प्रधानमंत्री भी वहाँ जा चुके हैं। लेकिन अब वहाँ पर चोरी से एक मस्जिद बना दी गई है।

इससे पहले संजय निषाद ने जून 2023 में भी इस मस्जिद का मुद्दा उठाया था। तब उन्होंने कहा था कि यदि मस्जिद नहीं हटाई गई तो उसे मार्च 2024 तक ढाह दिया जाएगा। ‘NISHAD Party’ के मुखिया ने कहा था, “जब इंदिरा गाँधी ने वहाँ खुदाई कराई थी, उस समय तो वहाँ मस्जिद थी ही नहीं। यानी, बाद में इस किले के ऊपर मस्जिद बना दिया गया। फिर धीरे-धीरे बढ़ कर इस मस्जिद को एक एकड़ में फैला लिया गया। निषादराज तो मुस्लिम थे ही नहीं, फिर वहाँ मस्जिद कैसे बन गई? जब हमारा पुरातत्व विभाग कह चुका है कि ये निषादराज की संपत्ति है, फिर मुस्लिमों ने यहाँ मस्जिद कैसे बना ली?”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वकील चलाता था वेश्यालय, पुलिस ने की कार्रवाई तो पहुँचा हाई कोर्ट: जज ने कहा- इसके कागज चेक करो, लगाया ₹10000 का जुर्माना

मद्रास हाई कोर्ट में एक वकील ने अपने वेश्यालय पर कार्रवाई के खिलाफ याचिका दायर की। कोर्ट ने याचिका खारिज करके ₹10,000 का जुर्माना लगा दिया।

माजिद फ्रीमैन पर आतंक का आरोप: ‘कश्मीर टाइप हिंदू कुत्तों का सफाया’ वाले पोस्ट और लेस्टर में भड़की हिंसा, इस्लामी आतंकी संगठन हमास का...

ब्रिटेन के लेस्टर में हिन्दुओं के विरुद्ध हिंसा भड़काने वाले माजिद फ्रीमैन पर सुरक्षा एजेंसियों ने आतंक को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -