Monday, July 15, 2024
Homeराजनीति'इस्तीफा दे रहे हैं, शपथ नहीं ले रहे': इधर CM पद छोड़ रहे थे...

‘इस्तीफा दे रहे हैं, शपथ नहीं ले रहे’: इधर CM पद छोड़ रहे थे पिता उद्धव ठाकरे, उधर बेटे आदित्य के चहरे पर हँसी नहीं रुकी, नेटीजन्स बोले- ‘शिवसेना का पप्पू’

उद्धव ठाकरे के सीएम पद से इस्तीफा दिए जाने के दौरान आदित्य की जो मुस्कुराती फोटो सामने आई उसे देख यूजर्स को राहुल गाँधी की याद आ गई। 2014 के जब कॉन्ग्रेस लोकसभा चुनाव हारी थी तो राहुल गाँधी इसी तरह सोनिया गाँधी के पीछे खड़े होकर मुस्कुराते दिखे थे।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने 30 जून को होने वाले फ्लोर टेस्ट से एक दिन पहले ही मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट की अनुमति देने वाले आदेश के कुछ मिनटों बाद ही अपना इस्तीफा दे दिया था। समाचार एजेंसी एएनआई ने राज्यपाल को इस्तीफा सौंपते हुए उद्धव ठाकरे की एक तस्वीर साझा की है, जिसमें आदित्य ठाकरे (Aaditya Thackeray) अपने पिता के ठीक पीछे खड़े हुए मुस्कुरा रहे हैं।

इस तस्वीर को देखने के ​बाद नेटीजन्स को फौरन राहुल गाँधी याद आ गए। उन्होंने आदित्य ठाकरे की तुलना राहुल गाँधी की उस तस्वीर से की, जिसमें 2014 के लोकसभा चुनाव हारने के बाद वह अपनी माँ सोनिया गाँधी के बगल में खड़े होकर मुस्कुरा रहे थे। ट्विटर यूजर Krunal_Goda ने कहा, “एक ही तरह के लोगों को पहचानें।”

ट्विटर यूजर मेहता संजय छिब्बर ने कहा, “19 मई 2014 और 29 जून 2022। दो पप्पू की कहानी। हार और इस्तीफे के वक्त दोनों हँस रहे हैं?”

एक अन्य ट्विटर यूजर इंदौरवाले भैया ने कहा, “हर वंश का अपना राहुल गाँधी होता है।”

ट्विटर यूजर विशाल लिखते हैं, “अंजना ओम कश्यप का कमेंट बहुत सही था। महाराष्ट्र के पप्पू ने 2014 के राहुल गाँधी की याद दिला दी।”

राजनीतिक पर्यवेक्षक ऋषि बागरी ने लिखा कि सरकारें आती हैं और जाती हैं, लेकिन कुछ चीजें कभी नहीं बदलेगी।

इस ट्वीट के जवाब में विशाल छेड़ा लिखते हैं, “सरकार आती जाती रहती है… पर पप्पू प्रथा बनी रहनी चाहिए।” ट्विटर यूजर नायिका देवी ने राहुल गाँधी की एक और तस्वीर साझा की है, जिसमें वह हाल के चुनाव में हार के बाद आइसक्रीम का आनंद लेते हुए दिख रहे हैं। उन्होंने लिखा, “ये दोनों किसी मामले में तो टॉप पर हैं।”

इस ट्वीट का जबाव देते हुए Mr Mysterious ने लिखा, “पप्पू भी 2014 के लोकसभा चुनाव हारने के बाद ऐसे ही हँस रहा था।” ट्विटर यूजर BesuraTaansane ने कहा, “कोई आदित्य को ये तो बता दे कि उद्धव जी यहाँ इस्तीफा दे रहे हैं ना कि शपथ ले रहे हैं।”

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने MVA (महा विकास अघाड़ी) गठबंधन के दागी मंत्री नवाब मलिक और पूर्व मंत्री अनिल देशमुख को भी फ्लोर टेस्ट में हिस्सा लेने की इजाजत दे दी थी, लेकिन इसके बावजूद उद्धव ठाकरे की शिवसेना के मात्र 16 विधायक ही उनके साथ हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि विधानसभा में मतदान करने के बाद ये दोनों वापस जुडिशल कस्टडी में लाए जा सकते हैं। उन्हें आने-जाने के लिए ED की कस्टडी में रहने का आदेश दिया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -