Saturday, July 13, 2024
Homeराजनीति₹50 हजार-1 लाख में बेचे गए राहुल गाँधी की प्रेस मीट के पास: कॉन्ग्रेस...

₹50 हजार-1 लाख में बेचे गए राहुल गाँधी की प्रेस मीट के पास: कॉन्ग्रेस नेता ने लगाया गंभीर आरोप

त्यागराजन को पार्टी में पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री पी चिदंबरम का करीबी माना जाता था। उन्हें गुरुवार को पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त रहने के आरोप में पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था।

कॉन्ग्रेस पार्टी से निलंबित नेता कराते आर त्यागराजन ने एक सनसनीखेज खुलासा किया है। त्यागराजन ने तमिलनाडु कॉन्ग्रेस कमिटी के मीडिया कोऑर्डिनेटर गोपन पर राहुल गाँधी के प्रेस मीट को 50,000 रुपए से 1,00,000 रुपए में बेचने का गंभीर आरोप लगाया है। उनका कहना है कि ऐसा कैसे हो सकता है? ये सुरक्षा व्यवस्था में बड़ी चूक है और वो इसकी शिकायत पुलिस आयुक्त से करेंगे।

त्यागराजन को पार्टी में पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री पी चिदंबरम का करीबी माना जाता था। उन्हें गुरुवार (जून 27, 2019) को पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त रहने के आरोप में पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था। पार्टी से निष्कासन पर कराते ने सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने पार्टी के खिलाफ एक शब्द भी नहीं बोला। उन्होंने बताया कि आंतरिक बैठक में 7 लोग थे, सभी ने डीएमके के खिलाफ अपनी अस्वीकृति व्यक्त की, लेकिन केवल उन्हें बलि का बकरा बनाया गया और उनके शब्दों को मीडिया में प्रकाशित किया गया। साथ ही त्यागराजन ने ये भी आरोप लगाया कि उन्हें बिना किसी नोटिस के पार्टी से सस्पेंड कर दिया गया।

कॉन्ग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने त्यागराजन के पार्टी से निष्कासन पर कहा कि अखिल भारतीय कॉन्ग्रेस समिति ने तमिलनाडु कॉन्ग्रेस के महासचिव द्वारा त्यागराजन के खिलाफ पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल रहने और अनुशासन भंग करने के कारण अनुशासनात्मक कार्रवाई के प्रस्ताव को मंजूरी दी। इसके आधार पर उन्हें तुरंत प्रभाव से पार्टी से निलंबित कर दिया गया। आंतरिक बैठक में कराते त्यागराजन ने प्रस्ताव दिया था कि कॉग्रेस पार्टी को अपने गठबंधन सहयोगी डीएमके के बिना आगामी स्थानीय निकाय चुनाव अपने दम पर लड़ना चाहिए।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे ‘चाणक्य’ बताया, उसके समर्थन के बावजूद हारा मौजूदा MLC: महाराष्ट्र में ऐसे बिखरा MVA गठबंधन, कॉन्ग्रेस विधायकों ने अपनी ही पार्टी को दिया...

जिस जयंत पाटील के पक्ष में महाराष्ट्र की राजनीति के कथित चाणक्य और गठबंधन के अगुवा शरद पवार खुद खड़े थे, उन्हें ही हार का सामना करना पड़ा।

18 बैंक खाते, 95 करोड़ रुपए, अब तक 11 शिकंजे में… जनजातीय समाज का पैसा डकारने के मामले में कॉन्ग्रेस के पूर्व मंत्री गिरफ्तार,...

सीधे शब्दों में समझें तो पूरा मामला ये है कि ST निगम के कुछ अधिकारियों ने फर्जी हस्ताक्षरों का इस्तेमाल कर के अवैध रूप से 94,73,08,500 रुपए विभिन्न बैंक खातों में भेज दिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -