Monday, July 26, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमंदिर जलाया, 'जिरगा' किया... और Pak के हिन्दू समुदाय ने 'माफ' भी कर दिया:...

मंदिर जलाया, ‘जिरगा’ किया… और Pak के हिन्दू समुदाय ने ‘माफ’ भी कर दिया: सभी 50 अब हो जाएँगे जेल से आजाद

'जिरगा' के तहत आरोपितों ने हिन्दू मंदिर को ध्वस्त करने और उसे जलाने को लेकर माफी माँगी। मौलानाओं ने हिन्दू समुदाय को आश्वासन दिया है कि...

पाकिस्तान के हिन्दू समुदाय ने वहाँ के एक मंदिर पर हमला करने वाले आरोपितों व इस्लामी भीड़ को माफ करने का फैसला लिया है। अर्थात, अब उनके खिलाफ कोई कानूनी कार्यवाही नहीं की जाएगी।

मामला पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा का है, जहाँ 100 वर्ष पुराने एक मंदिर को ध्वस्त कर दिया गया था। इस्लामी भीड़ ने मंदिर को जला डाला था। इस मामले में स्थानीय मौलानाओं और प्रभावशाली मुस्लिमों ने हिन्दू समाज के साथ बैठक की।

इस बैठक में हुए समझौते, जिसे वहाँ ‘जिरगा’ भी कहते हैं, उसके तहत आरोपितों ने हिन्दू मंदिर को ध्वस्त करने और उसे जलाने को लेकर माफी माँगी। 1997 में भी इसी तरह की घटना हुई थी, जिसे लेकर माफी माँगी गई।

मौलानाओं ने हिन्दू समुदाय को आश्वासन दिया है कि पाकिस्तान के संविधान के हिसाब से हिन्दू परिवारों और उनके अधिकारों की पूर्ण सुरक्षा की जाएगी। इस मामले में कुछ आरोपित फिलहाल हिरासत में हैं।

अब इस बैठक में हुए समझौते के बाद पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट में इस सहमति के विवरण रखे जाएँगे, जिसके बाद उन आरोपितों को रिहा किया जाएगा।

पाकिस्तान हिन्दू काउंसिल के रमेश कुमार ने उलेमाओं के साथ बैठक के बाद कहा कि उस घटना से दुनिया भर के हिन्दू समाज की भावनाएँ आहत हुई थीं। रमेश तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के नेता भी हैं। उन्होंने बताया कि खैबर पख्तूनख्वा (KPK) के मुख्यमंत्री महमूद खान ने समझौते की पूरी प्रक्रिया की अध्यक्षता की।

उन्होंने मामले को सुलझाने के लिए सीएम को धन्यवाद भी दिया। महमूद खान ने बैठक को संबोधित करते हुए इस घटना की नींद की और इसे प्रांत की शांति को भंग करने की साजिश बताया।

सुप्रीम कोर्ट ने उस मंदिर के पुनर्निर्माण का आदेश दिया हुआ है। इस मामले में 50 आरोपितों की गिरफ़्तारी हुई थी। भारत ने भी कड़ी आपत्ति जताई थी। 1997 तक यहाँ परमहंस जी महाराज की समाधि पर हिन्दू दर्शन के लिए आते थे।

गौरतलब है कि साल 2020 के दिसंबर महीने में खैबर पख्तूनख्वा प्रांत स्थित एक मंदिर के मरम्मत कार्य का विरोध कर रहे मुस्लिमों की भीड़ ने मंदिर में तोड़-फोड़ की थी और आग लगा दी थी। सैंकड़ों मुस्लिमों की भीड़ वहाँ मौजूद थी।

मंदिर तोड़ते वक्त आस-पास अल्लाह-हू-अकबर के नारे लग रहे थे। इस्लामी झंडा लहरा कर मंदिर को तोड़ा जा रहा था। जगह जगह से धुआँ उठ रहा था। गोले दागने की आवाजें भी वीडियो में साफ सुनाई दे रही थी।

इस मंदिर का निर्माण जुलाई 1919 में कराया गया था, जब गुरु श्री परमहंस दयाल उस जगह पर विश्राम के लिए ठहरे थे। क्षेत्र में रहने वाले मुस्लिम लोगों ने 1947 में विभाजन के बाद मंदिर बंद कर दिया था।

कुछ महीनों पहले स्थानीय मुस्लिमों ने आरोप लगाया था कि जीर्णोद्धार की आड़ में हिन्दू समुदाय के लोगों ने ग़ैरक़ानूनी रूप से मंदिर की इमारत का आकार बढ़ा दिया। आरोपितों में अधिकतर जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम से जुड़े हुए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe