Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाज'पाकिस्तानी PM ने महिला से हाथ मिलाया, अल्लाह देगा गुनाह की सज़ा': देवबंदी मौलाना...

‘पाकिस्तानी PM ने महिला से हाथ मिलाया, अल्लाह देगा गुनाह की सज़ा’: देवबंदी मौलाना ने हिना रब्बानी खार को भी हिजाब न पहनने पर बताया ‘अय्याश’

मौलाना के मुताबिक, शरीफ को खुदा महिला से हाथ मिलाने के गुनाह की सज़ा जरूर देगा। मौलाना का यह बयान वीडियो के साथ वायरल भी हो रहा है।

अपनी विदेश यात्रा के दौरान पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ का एक महिला से हाथ मिलाना उनके लिए मुसीबत का सबब बन गया है। पाकिस्तान के कट्टरपंथियों ने इसे हराम बताते हुए उन्हें खूब खरी-खोटी सुनाई है। पाकिस्तान के देवबंदी मौलाना अब्दुल अजीज गाजी ने शाहबाज़ शरीफ को अल्लाह का डर दिखाया है। तालिबानियों को बेशर्म इंसान कहने के साथ मौलाना ने हिना रब्बानी खार को भी अय्याश शब्द से सम्बोधित किया है।

जानकारी के मुताबिक पिछले माह नवम्बर में शाहबाज़ शरीफ तुर्की के दौरे पर गए थे। शाहबाज़ तुर्की को चीन-पाकिस्‍तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) में शामिल होने का न्योता देने गए थे। इस दौरान इस्ताम्बुल शहर में उन्होंने एक महिला से हाथ मिला लिया था। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री की इस हरकत पर आग बबूला हुए देवबंदी मौलाना ने इसे इस्लाम के खिलाफ बताते हुए शाहबाज़ को अल्लाह से डरने की नसीहत दी है। मौलाना के मुताबिक, शरीफ को खुदा महिला से हाथ मिलाने के गुनाह की सज़ा जरूर देगा। मौलाना का यह बयान वीडियो के साथ वायरल भी हो रहा है।

अभी तक पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से हाथ मिलाने वाली उस महिला की पहचान नहीं हो पाई है। वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मौलाना अब्दुल अजीज गाजी ने लोकतंत्र को भी एक बुरा तंत्र बताया। उन्होंने इसे नास्तिकों का तंत्र कहते हुए गलत लोगों द्वारा चलाया जाने वाला सिस्टम बताया। मौलाना ने शाहबाज़ सरकार में विदेश मंत्रालय संभाल रहीं राज्यमंत्री मंत्री हिना रब्बानी खार को भी उल्टा-सीधा कहा। मौलाना के मुताबिक, तालिबान के दौरे पर गई हिना रब्बानी ने हिजाब नहीं पहना था।

हिना के हिजाब न पहनने को देवबंदी मौलाना ने ‘अय्याशी’ बताया। इसी के साथ मौलाना अजीज गाजी ने तालिबान को भी बिना हिजाब पहने महिला की आवभगत करने के लिए ‘बेशर्म’ शब्द से सम्बोधित किया। मौलाना ने तालिबान और उसके समर्थकों से बिना हिजाब वाली हिना के स्वागत के लिए माफ़ी माँगने को भी कहा है। गौरतलब है कि पाकिस्तान सरकार ने कुछ समय पहले ही मौलाना अब्दुल अजीज से इस्लामाबाद की लाल मस्जिद को खाली करवाया था। तब से वो शाहबाज़ सरकार के खिलाफ खुल कर बयानबाजी कर रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -