Sunday, July 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'मुस्लिम हूँ, हिजाब के नीचे कुछ नहीं पहना है': चीखती अर्धनग्न महिला को पुलिस...

‘मुस्लिम हूँ, हिजाब के नीचे कुछ नहीं पहना है’: चीखती अर्धनग्न महिला को पुलिस ने घसीट कर बाहर निकाला, कब्ज़ा ली थी संपत्ति

जब पुलिस वालों ने महिला की बाँह पकड़ने की कोशिश की तो उसने कहा, "मैंने पैंट नहीं पहन रखी है। मैं एक मुस्लिम महिला हूँ और मैंने हिजाब पहन रखा है।"

इंग्लैंड के वेस्ट मिडलैंड्स में 2 पुलिस अधिकारियों को एक अर्धनग्न मुस्लिम महिला को जमीन पर घसीट कर घर से बाहर निकाल देने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। पुलिस विभाग ने इस संबंध में स्वतंत्र जाँच बिठाई थी, जिसके बाद ये कार्रवाई की गई है। ये घटना 18 नवंबर, 2022 को हुई थी। महिला को उक्त प्रॉपर्टी के मालिक ने निकाल दिया था, लेकिन इसके बावजूद वो घर खाली करने से लगातार इनकार कर रही थी।

फिर महिला को निकाल बाहर करने के लिए पुलिस को बुलाया गया। जब पुलिस वहाँ पहुँची, उस समय महिला ने अपने घुटने तक कोट पहन रखा था। वो जमीन पर बैठी हुई थी। ‘i News’ ने वीडियो फुटेज के आधार पर जानकारी दी है कि पुलिस ने पहले समझाया कि महिला को अच्छे से हटाया जाएगा और वो इस जगह को छोड़ दे। इसके बाद पुलिस ने घसीट कर बाहर करने की धमकी दी। एक पुलिसकर्मी ने कहा कि महिला बाद में उसकी शिकायत सकती है।

पुलिस ने चेताया कि अगर महिला यहाँ रुकती है तो इससे शांति का उल्लंघन हो सकता है। जब पुलिस वालों ने महिला की बाँह पकड़ने की कोशिश की तो उसने कहा, “मैंने पैंट नहीं पहन रखी है। मैं एक मुस्लिम महिला हूँ और मैंने हिजाब पहन रखा है।” इसके बाद चीखती हुई अर्धनग्न मुस्लिम महिला को हथकड़ी पहना कर पुलिस ने घर से निकाल कर बाहर कर दिया। महिला ने कहा कि दो लोगों ने उसे जकड़ लिया और उसने नीचे कुछ नहीं पहन रखा था।

महिला ने कहा कि उसकी तरफ उँगली उठाने का भी अधिकार उन पुलिस वालों को नहीं है। उसने कहा कि वो अपमानित महसूस कर रही हैं। उसने कहा कि उसे पुलिस वालों को बताना पड़ा कि वो मुस्लिम है, इसीलिए उसे ले जाने से पहले पूरी तरह शरीर ढँकने दे। महिला ने मकान मालिक की संपत्ति में बैरिकेड डाल दिया था। पुलिस का कहना है कि मुस्लिम समाज के लिए ये एक मसला हो सकता है, इसीलिए वीडियो के आधार पर आगे की जाँच अच्छी तरह की जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -