Friday, July 12, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयतालिबान ने IS के 2 टॉप कमांडरों को मौत के घाट उतारा: एक को...

तालिबान ने IS के 2 टॉप कमांडरों को मौत के घाट उतारा: एक को भारत ने कर रखा था आतंकी घोषित, गुरुद्वारे में हुए बम धमाके का भी जिम्मेदार था

तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने आईएस के दो कमांडरों के मारे जाने की सूचना दी। उन्होंने कहा है कि मारे गए आतंकवादियों की पहचान कारी फतेह और एजाज अहमद अहंगर के रूप में हुई है। कारी फतेह आईएस के खुफिया तंत्र का प्रमुख था। दूसरा आतंकी एजाज अहमद अहंगर इस्लामिक स्टेट-खुरासान प्रांत (ISKP) का बड़ा कमांडर था।

अफगानिस्तान की सत्ता में काबिज तालिबान ने दावा किया है कि उसके सुरक्षाबलों ने आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के दो प्रमुख कमांडरों को मार गिराया है। तालिबान ने यह भी कहा है कि आतंकवाद विरोधी कार्रवाई के दौरान राजधानी काबुल में दोनों कमांडर मारे गए। तालिबान ने यह बयान सोमवार (27 फरवरी 2023) को जारी किया।

तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा है कि मारे गए आतंकवादियों की पहचान कारी फतेह और एजाज अहमद अहंगर के रूप में हुई है। कारी फतेह इस्लामिक स्टेट के खुफिया तंत्र का प्रमुख था। वहीं दूसरा आतंकी एजाज अहमद अहंगर इस्लामिक स्टेट-खुरासान प्रांत (ISKP) का बड़ा कमांडर और सेना प्रमुख था। ISKP को इस्लामिक स्टेट का सहयोगी और तालिबान का विरोधी रहा है।

जबीहुल्ला मुजाहिद ने यह भी कहा है कि कारी फतेह कथित तौर पर इस्लामिक स्टेट-खुरासान प्रांत (ISKP) के लिए रणनीति बनाने का काम करता था। राजधानी काबुल में रूसी, पाकिस्तानी और चीनी राजनयिक मिशनों के खिलाफ हुए हमलों के लिए भी कारी फतेह ही जिम्मेदार था।

मुजाहिद ने यह भी कहा है कि 14 फरवरी को इस्लामिक स्टेट हिंद प्रांत (ISHP) का एक सीनियर कमांडर एजाज अहमद अहंगर अपने दो सहयोगियों के साथ मारा गया था। अहंगर को अबू उस्मान अल कश्मीरी के नाम से भी जाना जाता है। इसके अलावा मुजाहिद ने खुरासान के कुछ अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी की भी पुष्टि की है। इससे पहले बीते सप्ताह खुरासान ने भी अहंगर की मौत की बात कही थी।

बता दें कि अबू उस्मान अल-कश्मीरी के नाम से मशहूर अहंगर को इसी साल जनवरी में भारत सरकार ने आतंकवादी घोषित किया था। श्रीनगर में जन्मा अहंगर आतंकवादी गतिविधियों में लंबे समय से शामिल रहा है। इस कारण ही बीते 2 दशकों से जम्मू कश्मीर में भी वांछित था।

अफगानिस्तान के खुफिया विभाग ने मार्च 2020 में हुए आत्मघाती हमले के लिए अहंगर को जिम्मेदार ठहराया था। खुफिया विभाग का कहना था कि इस बम धमाके का मास्टरमाइंड अहंगर ही है। बता दें कि काबुल के गुरुद्वारा कार्त-ए परवान में हुए बम धमाके में एक सुरक्षा गार्ड समेत 25 लोगों की मौत हो गई थी। अहंगर का अलकायदा समेत कई अन्य आतंकी संगठनों से संबंध रहे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

उधर कॉन्ग्रेसी बक रहे गाली पर गाली, इधर राहुल गाँधी कह रहे – स्मृति ईरानी अभद्र पोस्ट मत करो: नेटीजन्स बोले – 98 चूहे...

सवाल हो रहा है कि अगर वाकई राहुल गाँधी को नैतिकता का इतना ज्ञान है तो फिर उन्होंने अपने समर्थकों के खिलाफ कभी कार्रवाई क्यों नहीं की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -