Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय46 साल की अम्मी का 21 साल के हुसैन से अवैध संबंध, बनाया पोर्न...

46 साल की अम्मी का 21 साल के हुसैन से अवैध संबंध, बनाया पोर्न वीडियो… लीक होने के डर से टिकटॉक स्टार बेटी के साथ किया डबल मर्डर

अंसरीन बुखारी 46 साल की है। 24 साल की इसकी बेटी भी है, जो टिकटॉक की फेमस स्टार है... लेकिन अम्मी अंसरीन ने 21 साल के साकिब हुसैन के साथ बना लिया अवैध संबंध। जब पोर्न वीडियो का एंगल आया तो अम्मी-बेटी ने किया डबल मर्डर।

टिकटॉक की बहुत फेमस स्टार है महक बुखारी। ब्रिटेन में रहती है। पाकिस्तानी मूल की है। इनकी अम्मी है अंसरीन। अब ये दोनों माँ-बेटी आजीवन जेल में रहेंगी। क्यों? क्योंकि इन दोनों ने साजिश रच कर साकिब और मोहम्मद हाशिम इजाजुद्दीन को मार डाला। इस दिलचस्प केस से जुड़ा है पोर्न वीडियो मामला।

लेस्टरशायर कोर्ट ने दोनों को पिछले महीने अगस्त में अंसरीन के प्रेमी साकिब हुसैन और मोहम्मद हाशिम इजाजुद्दीन के दोहरे हत्याकांड का दोषी ठहराया। लेस्टर क्राउन कोर्ट में तीन महीने की सुनवाई में 28 घंटे के विचार-विमर्श के बाद जूरी ने ये फैसला लिया था। शुक्रवार (1 सितंबर, 2023) को इस मामले में सज़ा सुनाने का ऐलान किया गया।

टिकटॉकर और ब्रिटिश पाकिस्तानी सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर महक बुखारी को अम्मी अंसरीन के पोर्न वीडियो लीक होने की आशंका थी। उसे डर था कि इनके लीक होने से सोशल मीडिया पर उसकी फैन फॉलोविंग पर असर पड़ सकता है। यही सोचकर दोनों माँ-बेटी ने पोर्न वीडियो लीक करने की धमकी देने वाले साकिब हुसैन की हत्या की साजिश रची थी।

इस दोहरे हत्याकांड के लिए महक बुखारी को कम से कम 31 साल 8 महीने और अम्मी अंसरीन को न्यूनतम 26 साल 9 महीने की आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई। दोनों ने हत्या की इस साजिश को कार हादसा दिखाने की पुरजोर कोशिश की थी। मौत से पहले साकिब के इमरजेंसी नंबर पर की गई कॉल रिकॉर्डिंग और घटना के दिन के सीसीटीवी फुटेज शो कोर्ट में पेश किए गए। इस आधार पर ही आरोपितों को सजा सुनाई गई।

क्या है मामला?

फरवरी 2022 में लेस्टर के पास हुए कार हादसे में 21 साल के साकिब हुसैन और उनके हमउम्र दोस्त हाशिम इजाजुद्दीन की मौत हो गई। उनकी कार तेज रफ्तार से एक पेड़ से जा टकराई थी। इससे उसके दो टुकड़े हो गए थे। मौत से कुछ पल पहले ही साकिब ने इमरजेंसी नंबर 999 को भी कॉल की थी।

इमरजेंसी कॉल में साकिब ने कहा था कि उनका पीछा कर रही दो कारों में सवार बालाक्लावा (नकाब) पहने हमलावरों ने उनकी कार को सड़क पर टक्कर मार दी। कॉल के दौरान बैचेन हुसैन कह रहा था, “कुछ लोग मेरा पीछा कर रहे हैं, वे मुझे मारने की कोशिश कर रहे हैं, मैं मरने जा रहा हूँ सर, मुझे बस मदद की ज़रूरत है। वे कार को पीछे से बहुत तेजी से मार रहे हैं, कृपया मैं आपसे विनती कर रहा हूँ। मैं मरने जा रहा हूँ।”

इसके बाद कॉल अचानक खत्म होने से पहले एक चीख सुनाई दी। दरअसल दोनों इस हादसे का शिकार एक साजिश के तहत हुए थे, जो 24 साल की ब्रिटिश पाकिस्तानी सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर महक बुखारी ने रची थी। मृतक साकिब हुसैन ने उसकी 46 साल की अम्मी अंसरीन बुखारी का साथ चल रहे संबंध का खुलासा करने की धमकी दी थी।

मुकदमे के दौरान, लेस्टर क्राउन कोर्ट की जूरी के सामने ये बात आई थी कि हुसैन ने लंबे वक्त से अंसरीन से चल रहे अपने अफेयर का खुलासा करने लिए सेक्स टेप को इस्तेमाल करने की धमकी दी थी। इस वजह से ही महक ने साकिब हुसैन को मारने की साजिश रची थी।

लेस्टर क्राउन कोर्ट में तीन महीने की सुनवाई के दौरान पता चला कि माँ-बेटी का ये जोड़ा उस समूह का हिस्सा था, जिसने पिछले साल फरवरी में मृतकों को टेस्को कार पार्क में ले जाने का लालच दिया था और फिर 100 मील प्रति घंटे की रफ्तार से उनका पीछा किया था। इस दोहरे हत्याकांड में आठ आरोपित थे।

इनमें से जूरी सदस्यों ने साथी आरोपितों रेखन कारवान और रईस जमाल को भी इस हत्याकांड में दोषी पाया था। इनके अलावा बर्मिंघम की 23 साल की नताशा अख्तर, 28 साल का अमीर जमाल और लेस्टर के 23 साल के सनाफ गुलाम मुस्तफा को हत्या के आरोप से बरी कर दिया गया, लेकिन उन्हें मानव संहार का दोषी ठहराया गया। इस मामले में लेस्टर के रहने वाले 21 साल के सह-अभियुक्त मोहम्मद पटेल को हत्या या मानव संहार का दोषी नहीं पाया गया।

जज ने सुनाई माँ- बेटी को खरी-खरी

शुक्रवार (1 सितंबर 2023) दोपहर को सजा सुनाते हुए जज टिमोथी स्पेंसर केसी ने कहा कि एक मशहूर शख्स के तौर पर अपने करियर के दौरान महक बुखारी की दिखावटी शोहरत ने उन्हें पूरी तरह से आत्म-मुग्ध बना दिया था।

उन्होंने कहा, ”टिकटॉक और इंस्टाग्राम इस मामले के केंद्र में हैं। यही वजह है कि महक आपने यूनिवर्सिटी छोड़ दी। यदि आपने ऐसा नहीं किया होता, तो अब आप एक युवा ग्रेजुएट होते और आपकी पूरी जिंदगी बाँहें फैलाए आपका स्वागत करती। अब, आप अपने आप को अपने सभी बेहतरीन सालों के लिए जेल में बंद पाएँगे।”

मुकदमे के दौरान ये भी पता चला कि जब महक बुखारी की अम्मी अंसरीन ने अपने रिश्ते को खत्म करने की कोशिश की तो हुसैन ने इसका विरोध किया था। उसने धमकी दी थी कि अगर उसने 3,000 पौंड (लगभग 3.12 लाख रुपए) का भुगतान नहीं किया तो वह उसके पति को उनकी अश्लील तस्वीरें भेज देगा। उसने दावा किया था कि ये पैसा उसने अंसरीन पर खर्च किया था।

ऐसे बिछाया था हत्या का जाल

महक बुखारी के टिकटॉक पर लगभग 129,000 फॉलोअर्स हैं। वहाँ वह फैशन और सुंदरता के बारे में पोस्ट करती थी। तीन महीने की कोर्ट की सुनवाई में खुलासा हुआ कि महक ने ही साकिब हुसैन की हत्या का जाल बिछाया था।

अभियोजकों ने कहा कि ऑक्सफ़ोर्डशायर के बैनबरी के हुसैन को महक बुखारी ने परिवार से मिलने के लिए उन्हें 3,000 पौंड वापस करने की बात कहकर बुलाया था। इस दौरान उन पर घात लगाकर हमला किया गया और फिर दो कारों से उनका पीछा किया गया। इसी दौरान एक पेड़ से टकराने के बाद इजाजुद्दीन की कार दो हिस्सों में बंट गई और उसमें आग लग गई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -