Thursday, July 25, 2024
Homeव्हाट दी फ*आमिर की बीवी ने अपने फैन को कहा 'लेस्बियन' तो लोगों ने 'होमोफोबिक' कह...

आमिर की बीवी ने अपने फैन को कहा ‘लेस्बियन’ तो लोगों ने ‘होमोफोबिक’ कह कर लताड़ा

29 वर्षीय मॉडल ने अपनी एक तस्वीर साझा की थी, जिसमें उन्होंने lilac satin नाम की ड्रेस पहनी थी, इसके अलावा उन्होंने एक हिजाब भी पहन रखा था।

पाकिस्तानी मूल के ब्रिटिश बॉक्सर आमिर खान की पत्नी फरयाल मखदूम पर होमोफोबिक (एक तरह का डर है, जो विशेषकर समलैंगिकों को देखकर पैदा होता है) होने का आरोप लगा है। इतना ही नहीं, उन्हें इसके लिए काफी आलोचना का सामना भी करना पड़ा। इसकी वजह ये थी कि उन्होंने अपनी एक फैन के लिए ‘लेस्बियन’ शब्द का इस्तेमाल किया

29 वर्षीय मॉडल ने अपनी एक तस्वीर साझा की थी, जिसमें उन्होंने lilac satin नाम की ड्रेस पहनी थी, इसके अलावा उन्होंने एक हिजाब भी पहन रखा था। बॉक्सर आमिर की पत्नी फरयाल ने तस्वीर के कैप्शन में लिखा था, “मैं जितने की हक़दार हूँ मुझे उससे ज़्यादा देने के लिए भगवान का शुक्रिया।” 

इस पर एक महिला ने लिखा, “आगे क्या, बिकनी?” इस टिप्पणी के साथ बिकनी का एक इमोजी भी मौजूद था। इसके जवाब में फरयाल ने टिप्पणी की और लिखा, ‘लेसबियन’। 

फरयाल की पोस्ट पर की गई ‘बिकनी’ वाली टिप्पणी

इसके बाद एक और यूज़र ने टिप्पणी करते हुए लिखा, “व्हाट द फ़#? क्या तुम होमोफ़ोबिक हो?” 

इस टिप्पणी के बाद बहुत से लोग फरयाल के बचाव में भी उतरे। कथित तौर पर होमोफ़ोबिक टिप्पणी का बचाव करते हुए एक अन्य यूज़र ने लिखा, “उसने सिर्फ लेसबियन कहा है। सिर्फ एक शब्द, मामले को तूल दिया जा रहा है।” 

फरयाल की पोस्ट पर की गई अन्य टिप्पणी

लेकिन इंटरनेट की जागरूक जनता शब्दों के मायने और उद्देश्य समझना अच्छे से जानती है। तस्वीर पोस्ट किए जाने के ठीक 10 मिनट के अंदर प्रतिक्रियाओं की बाढ़ आ गई। लोगों ने फरयाल मखदूम की टिप्पणी की जमकर आलोचना की है। फरयाल की हो रही आलोचना में से कुछ टिप्पणयाँ नीचे दी गई हैं-  

“अगर तुम्हें उसकी बातों से इतना ही फ़र्क पड़ता है तो क्यों नहीं उसको अनफॉलो कर देती हो। क्या वो तुम्हारे हिस्से का किराया देती है या पोस्ट पर बुरा बनने के लिए तुम्हारी आत्मा को बढ़ावा देती है।” 

“वह जो चाहे वो लिख सकती है। उसे परेशान करना बंद करो और उसके पेज से बाहर आओ।” 

वहीं कुछ ऐसे भी थे जो फरयाल की तारीफ़ में जुटे हुए थे। लेकिन इन तमाम टिप्पणियों में ज़्यादातर ऐसी ही थीं जिनमें फरयाल को उनकी टिप्पणी के लिए तिरस्कार का सामना करना पड़ा था।

इसके पहले फरयाल ने ब्रिटिश सरकार को ‘तानाशाही’ बताया था, जब वहाँ की सरकार ने दुबई से आने और वहाँ के लिए यात्रा करने पर पाबंदी लगाई गई थी। जनवरी में ख़बर आई थी कि यूके ने यूएई को अपनी ‘ट्रेवल कॉरिडोर लिस्ट’ से बाहर कर दिया था।

इसके अलावा, यूके वापस आने वालों पर नियत अवधि के लिए क्वारनटाइन होना पड़ेगा क्योंकि पिछले कुछ समय में वहाँ कोरोना वायरस के मामलों में 52 फ़ीसदी की बढ़ोतरी आई थी। इस पर फरयाल ने लिखा था, “हर जगह नए नियम लागू कर दिए गए हैं, वो भी बिना चेतावनी के। ऐसा लग रहा है जैसे तानाशाही में जी रही हूँ।”       

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वकील चलाता था वेश्यालय, पुलिस ने की कार्रवाई तो पहुँचा हाई कोर्ट: जज ने कहा- इसके कागज चेक करो, लगाया ₹10000 का जुर्माना

मद्रास हाई कोर्ट में एक वकील ने अपने वेश्यालय पर कार्रवाई के खिलाफ याचिका दायर की। कोर्ट ने याचिका खारिज करके ₹10,000 का जुर्माना लगा दिया।

माजिद फ्रीमैन पर आतंक का आरोप: ‘कश्मीर टाइप हिंदू कुत्तों का सफाया’ वाले पोस्ट और लेस्टर में भड़की हिंसा, इस्लामी आतंकी संगठन हमास का...

ब्रिटेन के लेस्टर में हिन्दुओं के विरुद्ध हिंसा भड़काने वाले माजिद फ्रीमैन पर सुरक्षा एजेंसियों ने आतंक को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -