Monday, April 6, 2020
होम बड़ी ख़बर 'मोदी ने विज्ञापन रोका' वाली फ़र्ज़ी खबर 'सूत्रों के हवाले से' फैला रहा है...

‘मोदी ने विज्ञापन रोका’ वाली फ़र्ज़ी खबर ‘सूत्रों के हवाले से’ फैला रहा है पत्रकारिता का समुदाय विशेष

इसके अलावा वायर/रॉयटर्स का यह भी दावा है कि इन तीनों समाचारपत्रों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) ने रॉयटर्स के इस बाबत ईमेल का जवाब नहीं दिया है। भला ऐसा वह क्यों करेंगे, जब तक कि खबर फ़र्ज़ी न हो? अगर उनका काम-धंधा सरकार के इस कदम से पहले से ही चौपट है, तो वह भला ईमेल का जवाब क्यों नहीं देंगे?

ये भी पढ़ें

‘सूत्रों के हवाले से’ हमेशा से पत्रकारिता में विवादास्पद विषय रहा है- एक ओर कुछ लोग इसे ज़रूरी मानते हैं ताकि सरकारों और सार्वजनिक पद पर बैठे, टैक्स के पैसे का लाभ ले रहे अधिकारियों की जवाबदेही बनी रहे, और वह किसी भी जनहित की सूचना को आधिकारिक गोपनीयता के आवरण में न दबा लें, वहीं दूसरी ओर यही वाक्यांश पत्रकारों को किसी भी जवाबदेही, सबूत की अनिवार्यता की जिम्मेदारी से मुक्त कर देता है। इसीलिए पत्रकारों को यह सिखाया जाता है कि ‘सूत्रों के हवाले से’ रिपोर्टिंग कम-से-कम और विशेष परिस्थितियों में ही हो। खासकर कि राजनीतिक बीट पर इसके इस्तेमाल के लिए पत्रकारिता के और व्यक्तियों के खुद के कई सारे नैतिक ‘फ़िल्टर’ होते हैं।

लेकिन नैतिक मानदंडों से कभी कोई लेना-देना न पत्रकार से पत्तलकार बने सिद्धार्थ वरदराजन का रहा है, न उनके ‘द वायर’ का। रॉयटर्स की जिस खबर को वायर ने कॉपी-पेस्ट मारकर ऐसा दिखाने की कोशिश की कि मोदी सरकार विज्ञापन न देकर टाइम्स ऑफ़ इंडिया ग्रुप, द हिन्दू और टेलीग्राफ़ का गला घोंटे दे रही है, वह न केवल तथ्यहीन और केवल ‘सूत्रों के हवाले से’ पर आधारित है, बल्कि अंदर की खबर खुद ही कई जगहों पर हेडलाइन का खंडन करती है। इसके अलावा यह ‘द वायर’ के पिछले प्रोपेगंडे कि टाइम्स ऑफ़ इंडिया मोदी सरकार का पिट्ठू है, के भी विपरीत दिशा में है।

किसने कहा? कब कहा? सबूत कहाँ है?

सबसे पहले तो यह खबर किस आधार पर है? केवल ‘गुप्त सूत्रों’ से बातचीत के आधार पर। ऐसे कैसे ‘गुप्त सूत्र’ हैं जो इतने बड़े तो हैं कि उन पर विश्वास कर लिया जाए, लेकिन वे न केवल खुद सामने नहीं आ सकते बल्कि कोई ऐसा दस्तावेज भी नहीं दे सकते जिससे उनकी बात सही होने का सबूत मिल जाए? विनीत जैन (टाइम्स ऑफ़ इंडिया), राजगोपाल (टेलिग्राफ) या एन राम (हिन्दू) सब अधिकारियों के whatsapp और फेसबुक चेक करते हैं क्या?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसके अलावा वायर/रॉयटर्स का यह भी दावा है कि इन तीनों समाचारपत्रों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) ने रॉयटर्स के इस बाबत ईमेल का जवाब नहीं दिया है। भला ऐसा वह क्यों करेंगे, जब तक कि खबर फ़र्ज़ी न हो? अगर उनका काम-धंधा सरकार के इस कदम से पहले से ही चौपट है, तो वह भला ईमेल का जवाब क्यों नहीं देंगे? कायदे से तो उन्हें ईमेल का जवाब देकर अपना मुद्दा उठा रहे अन्य क्रांतिकारी पत्रकारों की सहायता करनी चाहिए।

15% का क्या चक्कर है?

खबर की हैडलाइन के मुताबिक तो मोदी सरकार ने तीनों अख़बारों में विज्ञापन एकदम रोक दिए हैं। पढ़कर कोई भी विवेकशील इंसान नाराज हो जाए। यही बात खबर के पहले वाक्य में भी कही गई है। लेकिन और अंदर जाकर पता चलता है कि नहीं, नहीं, बंद केवल पूरी तरह टाइम्स ऑफ़ इंडिया का विज्ञापन हुआ है, बाकी टेलीग्राफ़ और द हिन्दू का केवल कम हुआ है।

उसमें भी ‘दिलचस्प’ बात यह है कि जहाँ टाइम्स ग्रुप की कुल विज्ञापन आय का 15% केंद्र के सरकारी विज्ञापन से है (जो कि कथित तौर पर बंद हो गई है), वहीं टेलीग्राफ़ ने इसी आँकड़े (15%) बराबर कमी केंद्र सरकार से मिलने वाले विज्ञापन में दर्ज की है। यह एक संयोग है, या पूरा आँकड़ा फ़र्ज़ी है, और एक ही संख्या को बार-बार दिखाकर ‘इम्पैक्ट’ बनाने की कोशिश हो रही है? द हिन्दू का तो कोई आँकड़ा भी नहीं है कि बंद हुआ है विज्ञापन, या फिर केवल कमी हुई है। बस एक दावा है- मोदी सरकार हमारे राफेल ‘कवरेज’ (जिसे ऑपइंडिया ने महज़ फोटोशॉप साबित किया था) से नाराज़ होकर विज्ञापन रोक दिए हैं।

कोबरापोस्ट भूल गए?

रॉयटर्स ने यह लेख लिखा तो लिखा, लेकिन इसे चेपने से पहले वायर वालों को अपनी आर्काइव तो देख लेनी चाहिए थी। अभी खाली साल भर पहले कोबरापोस्ट के एक तथाकथित ‘स्टिंग’ के भरोसे वायर वालों ने टाइम्स ग्रुप को मोदी का ‘पिट्ठू’ घोषित कर दिया था। और अब उसी टाइम्स ग्रुप, जो आपकी खबर के हिसाब से मोदी की जेब में था, का मोदी ने ‘जेब खर्च’ रोक दिया? ऐसे तो अभी तक खुद मोदी को अम्बानी की जेब में बताने के बाद क्या कल वायर यह भी छाप देगा कि अंबानी ने मोदी को “10 लाख का सूट” पहनने के लिए भी पैसा देना बंद कर दिया है? कम-से-कम प्रोपेगंडे में तो निरंतरता बनाए रखते!

पत्रकारिता के समुदाय विशेष, और उसमें भी खास कर कि वायर वालों, को यह समझने में और कितना समय लगेगा कि जनता उनके ‘हिट जॉब’ को पत्रकारिता और नहीं मानेगी? प्रोपेगेंडा-पर-प्रोपेगेंडा फैलाते रहना, बार-बार पकड़े जाते रहना, शर्मिंदा होना- अगर यही बिज़नेस मॉडल है तो बात दूसरी है, वरना वायर वालों को बाज आ जाना चाहिए।

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

वो 20 खबरें जो ‘नौ बजे नौ मिनट’ के बाद लिब्रान्डू-वामपंथी मीडिया फैला सकती है

सोशल मीडिया समेत ऑपइंडिया के भी कुछ सुझाव हैं कि आने वाले समय में 'नौ बजे नौ मिनट' के नाम पर कैसी दर्द भरी कहानियाँ आ सकती हैं। हमने ये सुझाव वामपंथियों की कम होती क्रिएटिविटी के कारण उन पर तरस खाकर दिए हैं।

4.1 दिन में ही दोगुनी हो गई कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या, तबलीगी जमात नहीं होता तो लगते 7.1 दिन

कल से आज तक 472 नए मामले सामने आए हैं, जिससे देश में कोरोना संक्रमित कुल मामलों की संख्या अब 3374 तक पहुँच चुकी है। अग्रवाल ने यह भी बताया कि अब तक देश के 274 जिलों से कोरोना संक्रमण के केसेस आ चुके हैं। जबकि भारत में अब तक कोरोना के कारण मरने वालों की संख्या 79 हो चुकी है, जिसमें से 11 शनिवार और रविवार को मिलाकर हुई हैं।

तबलीगी कारनामे की लीपापोती में जुटा ध्रुव राठी और गैंग, फैलाया 8 फैक्ट चेक (फर्जी) का प्रोपेगेंडा

जब 50 करोड़ हिन्दुओं को कोरोना से खत्म करने की दुआ करता मौलवी गिरफ्तार होता है, या फिर TikTok पर युवक इसे अल्लाह का कहर बताते नजर आते हैं, तो लोगों की जिज्ञासा एक बार के लिए मुस्लिम समुदाय पर सवाल खड़े जरूर कर देती है। ऑल्ट न्यूज़ जैसे फैक्ट चेकर्स के कंधे पर बंदूक रखकर दक्षिणपंथियों के दावों को खारिज करने का दावा करने वाला ध्रुव राठी यहाँ पर एक बार फिर सस्ती लोकप्रियता जुगाड़ते व्यक्ति से ज्यादा कुछ भी नजर नहीं आते।

राहुल-थरूर को ठेंगा दिखा इस कॉन्ग्रेसी नेता ने कर दिया PM मोदी का समर्थन, MP कॉन्ग्रेस में एक और फूट!

ग्वालियर से कॉन्ग्रेस विधायक प्रवीण पाठक ने प्रधानमंत्री मोदी के रात नौ बजे नौ मिनट पर 'दिया जलाने' की मुहिम का समर्थन करने का एलान कर दिया। ट्विटर पर पूर्व प्रधानंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कविता "आओ फिर से दिया जलाएँ" के जरिए उन्होंने कहा कि यही एकता प्रदर्शित करने का समय है और...

AIMIM के नहीं हैं 5 सांसद, इसके लिए मोदी जिम्मेदार: मीटिंग का बुलावा न मिलने पर ओवैसी ने बताया अपमान

ओवैसी के ये सारे आरोप महज राजनीति से ही प्रेरित नजर आते हैं क्योंकि प्रधामंत्री कार्यालय की तरफ से इस संदर्भ में जो प्रेस रिलीज जारी की गई है, उसमें यह स्पष्ट तौर पर रेखांकित है कि प्रधामंत्री इस विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होने वाली मीटिंग में सिर्फ उन्हीं राजनीतिक दलों के फ्लोर लीडर्स से बात करेंगे, जिनके सदस्यों की संख्या दोनों सदनों में मिलाकर कम से कम 5 है।

सरकार जान से मार देगी, नहीं लेंगे दवा-सूई: जमातियों का हॉस्पिटल में हँगामा, DM ने मुस्लिम डॉक्टर को बुलाकर समझाया

26 तबलीगी जमात के सदस्यों को दरियापुर से लाकर सोला के सिविल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करवाया गया था। जब मेडिकल टीम ने उनकी जाँच करने की कोशिश की, तो उन्होंने जाँच करवाने से मना करते हुए हँगामा खड़ा कर दिया। इनका आरोप था कि सरकार इन्हें जान से मारने की कोशिश कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

फलों पर थूकने वाले शेरू मियाँ पर FIR पर बेटी ने कहा- अब्बू नोट गिनने की आदत के कारण ऐसा करते हैं

फल बेचने वाले शेरू मियाँ का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा था, जिसमें वो फलों पर थूक लगाते हुए देखे जा रहे थे। इसके बाद पुलिस ने उन पर कार्रवाई कर गिरफ्तार कर लिया, जबकि उनकी बेटी फिजा का कुछ और ही कहना है।

वैष्णो देवी गए 145 को हुआ कोरोना: पत्रकार अली ने फैलाया झूठ, कमलेश तिवारी की हत्या का मनाया था जश्न

कई लोग मीडिया पर आरोप लगा रहे थे कि जब किसी हिन्दू धार्मिक स्थल में श्रद्धालु होते हैं तो उन्हें 'फँसा हुआ' बताया जाता है जबकि मस्जिद के मामले में 'छिपा हुआ' कहा जाता है। इसके बाद फेक न्यूज़ का दौर शुरू हुआ, जिसे अली सोहराब जैसों ने हज़ारों तक फैलाया।

नर्सों के सामने नंगे हुए जमाती: वायर की आरफा खानम का दिल है कि मानता नहीं

आरफा की मानें तो नर्सें झूठ बोल रही हैं और प्रोपेगेंडा में शामिल हैं। तबलीगी जमात वाले नीच हरकत कर ही नहीं सकते, क्योंकि वे नि:स्वार्थ भाव से मजहब की सेवा कर रहे हैं। इसके लिए दुनियादारी, यहॉं तक कि अपने परिवार से भी दूर रहते हैं।

मधुबनी, कैमूर, सिवान में सामूहिक नमाज: मस्जिद के बाहर लाठी लेकर औरतें दे रही थी पहरा

अंधाराठाढ़ी प्रखंड के हरना गॉंव में सामूहिक रूप से नमाज अदा की गई। यहॉं से तबलीगी जमात के 11 सदस्य क्वारंटाइन में भेजे गए हैं। बताया जाता है कि वे भी नमाज में शामिल थे। पुरुष जब भीतर नमाज अदा कर रहे थे दर्जनों औरतें लाठी और मिर्च पाउडर लेकर बाहर खड़ी थीं।

जो लाइट्स ऑफ करेगा, उनके दरवाजे पर चॉक से निशान बनेगा: TMC अपनाएगी हिटलर वाला तरीका

पीएम मोदी ने लोगों से 5 अप्रैल की रात नौ बजे नौ मिनट के लिए घर की सभी लाइटें बंद कर दीया, मोमबत्ती या टॉर्च जलाने की अपील कर रखी है। टीएमसी से जुड़े प्रसून भौमिक ने अपने फेसबुक पोस्ट में दावा किया है कि जो ऐसा करेंगे उनके घरों के दरवाजे पर निशान लगा कर चिह्नित किया जाएगा।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

172,802FansLike
53,692FollowersFollow
213,000SubscribersSubscribe
Advertisements