Thursday, July 25, 2024
Homeविविध विषयअन्य2000 रुपए के नोट वाले ध्यान दें: 23 मई 2023 से 30 सितंबर 2023...

2000 रुपए के नोट वाले ध्यान दें: 23 मई 2023 से 30 सितंबर 2023 तक बैंक में जाकर इन्हें बदल लें, सर्कुलेशन पर RBI की रोक

23 मई 2023 से 30 सितंबर 2023 - इन दोनों दिनों को याद कर लीजिए। अगर आपके पास 2000 रुपए के नोट हैं तो 23 मई 2023 से 30 सितंबर 2023 तक के बीच किसी भी बैंक में जाकर इन्हें जमा कीजिए, इसके बदले में आपको दूसरे नोट (2000 रुपए के अलावा) मिल जाएँगे।

अब 2000 रुपए के नोट (₹2000 denomination banknote) मार्केट में सर्कुलेट नहीं किए जाएँगे। इसका मोटा-मोटी मतलब यह हुआ कि 2000 रुपए के नोट जो बैंक में जमा किए जाएँगे, उन्हें वापस मार्केट में नहीं उतारा जाएगा। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI: Reserve Bank of India) ने 19 मई 2023 को यह निर्णय लिया।

किसी से पास अगर 2000 रुपए के नोट हैं, तो उन्हें घबराने की जरूरत हालाँकि नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि 2000 रुपए के नोट को लेकर आरबीआई ने जो निर्णय लिया है, उसके अनुसार यह वैध मुद्रा बनी रहेगी। तो आम नागरिक को करना क्या होगा अगर उनके पास 2000 रुपए के नोट हैं तो?

23 मई 2023 से 30 सितंबर 2023 – इन दोनों दिनों को याद कर लीजिए। अगर आपके पास 2000 रुपए के नोट हैं तो 23 मई 2023 से 30 सितंबर 2023 तक के बीच किसी भी बैंक में जाकर इन्हें जमा कीजिए, इसके बदले में आपको दूसरे नोट (2000 रुपए के अलावा) मिल जाएँगे।

2000 रुपए के नोट लेकर जब बैंक में बदलने जाएँ तो एक बात और ध्यान देने लायक है – 20000 रुपए से ज्यादा एक बार में नहीं बदल पाएँगे। RBI ने इस निर्णय को लेकर जो डॉक्यूमेंट जारी किया है, उसे आप यहाँ क्लिक कर विस्तार से पढ़ सकते हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -