Tuesday, July 23, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीमहज 12 दिनों में 5.4 सेंटीमीटर धँसा जोशीमठ : ISRO ने जारी की सैटेलाइट...

महज 12 दिनों में 5.4 सेंटीमीटर धँसा जोशीमठ : ISRO ने जारी की सैटेलाइट तस्वीर, सेना के हैलीपैड और नरसिंह मंदिर भी असुरक्षित

इसरो ने तस्वीर के माध्यम से अपनी रिपोर्ट में बताया है कि 27 दिसम्बर 2022 और 8 जनवरी 2023 के बीच जोशीमठ की जमीन 5.4 सेंटीमीटर धँस गई है। जोशीमठ में जमीन धँसने की रफ्तार में अब तेजी आई है। इसके पहले की आँकड़ों की अगर बात करें तो अप्रैल 2022 से नवंबर 2022 तक यहाँ केवल 9 सेंटीमीटर ही जमीन धँसी थी।

उत्तराखंड के जोशीमठ में लोगों की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। घरों में बढ़ती दरारों के साथ वहाँ रहने की उम्मीद भी धूमिल होती जा रही है। इसबीच इसरो की रिपोर्ट भी वहाँ आने वाले समय एक बड़ी आपदा का संकेत दे रही है। जोशीमठ में जमीन धँसने की घटना को लेकर जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि महज 12 दिन के अंदर यहाँ की 5.4 सेंटीमीटर जमीन धँस गई है। इसरो के नेशनल रिमोट सेंसिंग सेंटर (NRSC) ने इस संबंध में तस्वीर जारी की है। यह तस्वीरें कार्टोसेट-2एस (Cartosat-2S) सैटेलाइट से ली गई हैं। 

वहीं इसरो ने तस्वीर के माध्यम से अपनी रिपोर्ट में बताया है कि 27 दिसम्बर 2022 और 8 जनवरी 2023 के बीच जोशीमठ की जमीन 5.4 सेंटीमीटर धँस गई है। जोशीमठ में जमीन धँसने की रफ्तार में अब तेजी आई है। इसके पहले की आँकड़ों की अगर बात करें तो अप्रैल 2022 से नवंबर 2022 तक यहाँ केवल 9 सेंटीमीटर ही जमीन धँसी थी। जमीन धँसने की तेजी से यह अनुमान लगाया जा सकता है कि शहर को आने वाले समय में बड़ी आपदा का सामना करना पड़ सकता है।

रिपोर्ट के मुताबिक अबतक जमीन धँसने की घटनाओं की वजह से करीब 700 घरों में दरार आ चुकी है और इनमे से अधिकांश घरों को रहने के लिए असुरक्षित घोषित किया जा चुका है। वहीं इसरो की रिपोर्ट के मुताबिक सबसिडेंस जोन यानि जमीन धँसने की संभावना वाला क्षेत्र जोशीमठ-औली रोड के पास 2180 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। इसरो की तस्वीर में इसी क्षेत्र में आर्मी हैलीपेड और नरसिंह मंदिर को चिन्हित किया गया है। जमीन धँसने से सबसे ज्यादा प्रभावित सेंट्रल जोशीमठ का क्षेत्र है।

आर्मी हैलीपेड और नरसिंह मंदिर को इसरो ने चिन्हित किया है

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार (12 जनवरी 2023) को कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस आपदा से दुखी हैं और इसपर निगरानी रख रहें हैं। वहीं उन्होंने कहा था कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी लगातार स्थिति पर नज़र बनाए हुए हैं। इसके आलावा केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी जोशीमठ के लिए हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले ऑपइंडिया ने अपनी एक रिपोर्ट में आपको बताया था कि आखिर जोशीमठ के पहाड़ क्यों दरक रहे हैं। कई वैज्ञानिकों का मानना है कि जोशीमठ के पहाड़ों की भौगोलिक संरचना भी ऐसी है कि वे अब बहुत दिनों तक एक जगह मजबूती से नहीं रह सकते दूसरी और लगातार हो रहे विकास कार्यों ने भी स्थिति चिंताजनक बनाई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -