Sunday, January 17, 2021
Home देश-समाज दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों की 10 कहानियाँ: ताकि याद रहे उस 'डरी हुई'...

दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों की 10 कहानियाँ: ताकि याद रहे उस ‘डरी हुई’ मजहबी भीड़ का अताताई चेहरा

मरने वालों की सूची में 15 साल के लड़के से लेकर आईबी और दिल्ली पुलिस के जवान तक हैं। कुछ ने अपनी आँखों के सामने जीवन भर की कमाई को स्वाहा होते देखा। दंगाइयों ने न हिंदुओं की संपत्ति को छोड़ा न उनके धार्मिक स्थलों को।

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंदू विरोधी दंगों के दौरान विशेष समुदाय की भीड़ ने सुनियोजित तरीके से बहुसंख्यक आबादी और उनकी संपत्तियों को निशाना बनाया। कहीं हिंदुओं के घरों को आग के हवाले किया गया, तो कहीं उनके शैक्षणिक संस्थानों को। अल्पसंख्यक कहे जाने वाले समुदाय की भीड़ ने न हिंदुओं की दुकानों को चुन-चुनकर निशाना बनाया। धार्मिक स्थलों को भी नहीं छोड़ा। लेकिन बावजूद इसके हिंदू अपने बच्चों के लिए, अपनी महिलाओं के लिए इस भीड़ के सामने खड़े रहे और इनके उपद्रव को रोकने के लिए, इनका जवाब देने के लिए उनसे लड़ते रहे। इसमें कई हिंदुओं को जान गॅंवानी पड़ी। कुछ ने अपनी आँखों के सामने जीवन भर की कमाई को स्वाहा होते देखा। मरने वालों की सूची में 15 साल के लड़के से लेकर आईबी और दिल्ली पुलिस के जवान तक हैं।

हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल को गोली मारी

24 फरवरी को उत्तर-पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा में किसी दंगाई के तमंचे से निकली गोली ने रतनलाल की जान ले ली। उनकी मौत गोकुलपुरी में हुई। साल 1998 में दिल्ली पुलिस में शामिल होने के बाद रतनलाल आखिरी समय में गोकुलपुरी में एसीपी ऑफिस में तैनात थे। उनके परिवार के अनुसार सोमवार को बुखार होने के बावजूद वो अपनी ड्यूटी करने गए थे। ड्यूटी पहुँचकर उन्होंने ही अपने परिवार को दिल्ली दंगों के बारे में बताया था। मगर उन्हें क्या पता था कि ये दंगे जिनके बारे में वो अपने परिवार को आगाह कर रहे हैं, वहीं उनकी जान ले लेंगे। वो न अपने घर लौटेंगे और न ही होली पर अपनी माँ के पास।

आईबी कॉन्सटेबल अंकित शर्मा को गोदा

25 फरवरी को हुए दंगों में आईबी के अंकित शर्मा की क्रूरता से हत्या की गई। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक AAP के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन के गुंडे उन्हें घसीट कर उसकी बिल्डिंग में ले गए थे। बाद में उनका शव नाले से मिला। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक करीब 6 लोगों ने मिलकर 2 से 4 घंटे तक 400 बार उन्हें चाकुओं से गोदा होगा। अंकित की गलती सिर्फ़ इतनी थी कि उन्हें लगा जो लोग उनके घर के बाहर लड़ रहे हैं, वे उन्हें जानते हैं, और अगर वे मना करेंगे तो सब शांत हो जाएँगे। लेकिन अंकित को नहीं पता था, वो भीड़ तो बर्बता की पराकाष्ठा लिखने चली थी।

आलोक तिवारी फिर घर नहीं लौटे

26 फरवरी को खाना खाने के बाद घर से बाहर निकले आलोक तिवारी अपने घर दोबारा न लौट सके। उन्हें दंगाइयों ने पत्थर मारकर घायल किया और जीटीबी अस्पताल में उन्होंने अपनी आखिरी सांस ली। आलोक की पत्नी के मुताबिक, जिस समय उनके पति घर से निकले, वो निश्चिंत थी, क्योंकि उन्हें बाहर के माहौल के बारे में नहीं पता था। लेकिन जब उनके फोन पर आलोक के फोन से किसी और का फोन आया, तो वो घबरा गईं। फोन करने वाले ने उन्हें आलोक के घायल होने की बात बताई, जिसके बाद वो भागकर अपने पति के पास गईं। मगर, अफसोस जब तक आलोक की पत्नी या आसपास के लोग उनके लिए कुछ कर पाते तब तक उनका बहुत खून बह चुका था। उनकी हालत इतनी बिगड़ गई थी कि अस्पताल पहुँचने के बाद भी उन्हें कोई बचा न सका।

अप्रैल में होने वाली थी रोहित सोलंकी की शादी

इस हिंसा में बाबूनगर मुस्तफाबाद के रहने वाले हरि सिंह सोलंकी ने अपना बेटा रोहित सोलंकी खो दिया। रोहित की शादी अप्रैल में होने वाली थी। वह एक निजी कंपनी में काम करता था। लेकिन दंगाइयों की गोली ने उसे भी नहीं छोड़ा।

हाथ-पैर काट दिलबर नेगी को आग में फेंका

दिलबर नेगी के साथ हुई निर्ममता तो रूह कँपा देने वाली है। 24 फरवरी को जिस समय दिल्ली में हिंसा भड़की थी, उसी शाम इन दंगों की क्रूर वास्तविकता का शिकार 20 साल के दिलबर सिंह नेगी को होना पड़ा था। दिलबर सिंह नेगी को दंगाइयों की भीड़ ने तलवार से काटने के बाद जलते हुए घर में आग के हवाले कर दिया था। बाद में जलकर राख हुए दिलबर नेगी की विडियो भी वायरल हुई थी।

‘अल्लाहु अकबर’ के नारों के बीच हत्या

24 तारीख को हिंसा भड़कने के बाद उत्तर-पूर्वी दिल्ली के इलाकों से दिल दहला देने वाली खबर आती रही। इसी दौरान विनोद नाम के हिंदू व्यक्ति की मौत की भी खबर आई। विनोद अल्लाह हु अकबर और नारा ए तकबीर का एलान करती भीड़ के शिकार हुए। भीड़ ने विनोद को मारने के बाद न केवल उनके बाइक में आग लगाई, बल्कि वहाँ रहने वाले सभी हिंदुओं को धमकी दी कि उन्हें रात भर इसी तरह लाशें मिलती रहेंगी।

न चाउमिन खा सका, न खिला सका

गोकुलपुरी में 26 फरवरी को 15 साल का एक मासूम अपने घर से चाउमिन लेने निकला था। नितिन की गलती सिर्फ़ इतनी थी कि अपने घर के आसपास के माहौल को शांत देख उसने घर से बाहर पैर तो रखा, लेकिन दंगाइयों से अपनी जान बचा पाने में असफल रहा। उसे गोली लगी या पत्थर… किसी को कुछ नहीं पता। लेकिन जब उसे अस्पताल ले जाया गया तब वो जिंदा था, मगर सिर में चोट इतनी गहरी थी कि वो 3-4 घंटे में ही जिंदगी की जंग हार गया।

विवेक के सिर में घुसाई ड्रिल मशीन

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा में दंगाइयों ने 19 साल के विवेक पर हमला किया और उसके सिर में ड्रिल मशीन से छेद कर दी। जिस समय इस दर्दनाक घटना को अंजाम दिया गया उस समय विवेक अपनी दुकान के भीतर था। हालाँकि डॉक्टरों ने उसे सर्जरी के बाद ठीक होने की बात कही, लेकिन उसके सिर में घुसी ड्रिल को देखकर वे भी हैरान थे।

दलित दिनेश की जिहादियों ने ली जान

दिल्ली में हुए हिन्दू-विरोधी दंगों में जान गँवाने वालों में एक दिनेश कुमार खटीक का नाम भी शामिल है। वे हिंसा वाले दिन अपने बच्चों के लिए दूध लेने निकले थे। लेकिन उनकी गलती ये थी कि वो दुकान बंद होने के कारण दूर निकल गए और दूध खोजते-खोजते फैसल फ़ारूक़ के राजधानी स्कूल के बगल से जा गुजरे। बस फिर क्या? यही पर उन्हें गोली लगी और वो खत्म हो गए। बता दें दिनेश के भाई ने हमसे बात करते हुए स्पष्ट तौर पर बताया कि उनके भाई की जान जिहाद ने ली है- इस्लामी कट्टरपंथियों के जिहाद ने। उन्होंने कहा कि पूरे मुस्तफाबाद ने उनके भाई को मार डाला।

अनूप के गर्दन में लगी ताहिर के गुंडो की गोली

24 फरवरी को चांदबाग में मरते-मरते बचने वालों में एक नाम अनूप सिंह का है। अनूप को ताहिर के गुंडों ने गोली मारी थी। वैसे तो जिस तरह गोली अनूप को लगी थी, उसे देखकर कोई उनके जिंदा रहने की कल्पना नहीं कर सकता। लेकिन ये चमत्कार ही था कि वो जिंदा बचे। अनूप बताते हैं कि जिस समय उन्हें अस्पताल ले जाया जा रहा था उस समय भी हिंसक भीड़ उनपर लगातार पत्थर फेंक रही थी और उनकी जान लेने की कोशिश में जुटी थी।

40-50 लोग घुसे और दुकान को आग के हवाले किया

दिल्ली हिंसा में करोड़ों का नुकसान हुआ। कई लोगों ने अपनी दुकानें अपनी आखों के आगे आग में जलते हुए देखीं। दिलीप भी उन्ही लोगों में से एक नाम हैं। दिलीप के अनुसार, करीब 2 बजे से उस दिन पथराव शुरू हुआ था। लेकिन, वह अपनी दुकान को 1 बजे बंद कर चुके थे। वह उस समय दुकान में ताला मारकर अंदर बैठे थे, जब दंगाइयों ने उनपर अचानक हमला किया। उनके मुताबिक 2 से ढाई बजे के बीच 40-50 ऐसे लोग उनकी दुकान का ताला तोड़कर अंदर घुस आए और दुकान को आग के हवाले कर दिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsताहिर लास्ट लोकेशन, ता​हिर एफआईआर, ताहिर लुक आउट नोटिस, ताहिर हुसैन की तलाश में छापेमारी, ताहिर हुसैन सीसीटीवी फुटेज, ताहिर हुसैन अग्रिम जमानत याचिका, ताहिर हुसैन दिल्ली पुलिस, दिल्ली हिंदू विरोधी दंगा, नालों से मिले शव, दिल्ली नाला शव, दिल्ली मदरसा गुलेल, मदरसा गुलेल विडियो, शिव विहार, मुस्तफाबाद, अमर विहार, दिल्ली दंगे चश्मदीद, दिल्ली हिंसा चश्मदीद, दिल्ली हिंसा महिला, दिल्ली दंगों में कितने मरे, दिल्ली में कितने हिंदू मरे, मोहम्मद शाहरुख, जाफराबाद शाहरुख, शाहरुख फरार, ताहिर हुसैन आप, ताहिर हुसैन एफआईआर, ताहिर हुसैन अमानतुल्लाह, चांदबाग शिव मंदिर पर हमला, दिल्ली दंगा मंदिरों पर हमला, दिल्ली मंदिरों पर हमले, मंदिरों पर हमले, चांदबाग पुलिया, अरोड़ा फर्नीचर, ताहिर हुसैन के घर का तहखाना, अंकित शर्मा केजरीवाल, अंकित शर्मा ताहिर हुसैन, अंकित शर्मा का परिवार, दिल्ली शाहदरा, शाहदरा दिलबर सिंह, उत्तराखंड दिलवर सिंह, दिल्ली हिंसा में दिलवर सिंह की हत्या, रवीश कुमार मोहम्मद शाहरुख, रवीश कुमार अनुराग मिश्रा, रतनलाल, साइलेंट मार्च, यूथ अगेंस्ट जिहादी हिंसा, दिल्ली हिंसा एनडीटीवी, एनडीटीवी श्रीनिवासन जैन, एनडीटीवी रवीश कुमार, रवीश कुमार दिल्ली हिंसा, दिल्ली हिंसा में कितने मरे, दिल्ली दंगों में मरे, दिल्ली कितने हिंदू मरे, दिल्ली दंगों में आप की भूमिका, आप पार्षद ताहिर हुसैन, आप नेता ताहिर हुसैन, ताहिर हुसैन वीडियो, कपिल मिश्रा ताहिर हुसैन, आईबी कॉन्स्टेबल की हत्या, अंकित शर्मा की हत्या, चांदबाग अंकित शर्मा की हत्या, दिल्ली हिंसा विवेक, विवेक ड्रिल मशीन से छेद, विवेक जीटीबी अस्पताल, विवेक एक्सरे, दिल्ली हिंदू युवक की हत्या, दिल्ली विनोद की हत्या, दिल्ली ब्रहम्पुरी विनोद की हत्या, दिल्ली हिंसा अमित शाह, दिल्ली हिंसा केजरीवाल, दिल्ली पुलिस, दिल्ली पुलिस रतनलाल, हेड कांस्टेबल रतनलाल, रतनलाल का परिवार, छत्तीसिंह पुरा नरसंहार, दिल्ली हिंसा, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा, करावल नगर, जाफराबाद, मौजपुर, गोकलपुरी, शाहरुख, कांस्टेबल रतनलाल की मौत, दिल्ली में पथराव, दिल्ली में आगजनी, दिल्ली में फायरिंग, भजनपुरा, दिल्ली सीएए हिंसा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नॉर्वे में वैक्सीन लेने वाले 25000 में से 29 की मौत, भारत में पहले ही दिन टीका लगवाने वाले 2 लाख लोग एकदम स्वस्थ

नॉर्वे में कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। ये सभी 75 वर्ष के थे, जिनके शरीर में पहले से कई बीमारियाँ थीं।

#BanTandavNow: अमेज़ॉन प्राइम के हिंदूफोबिक प्रोपेगेंडा से भरे वेब-सीरीज़ तांडव के बहिष्कार की लोगों ने की अपील

अमेज़न प्राइम पर हालिया रिलीज सैफ अली खान स्टारर राजनीतिक ड्रामा सीरीज़ ‘तांडव’, जिसे निर्देशित किया है अली अब्बास ज़फ़र ने। अली की इस सीरीज में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया गया है।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

राम मंदिर निर्माण की तारीख से क्यों अटकने लगी विपक्षियों की साँसें, बदलते चुनावी माहौल का किस पर कितना होगा असर?

अब जबकि राम मंदिर निर्माण के पूरा होने की तिथि सामने आ गई है तो उन्हीं भाजपा विरोधियों की साँस अटकने लगी है। विपक्षी दल यह मानकर बैठे हैं कि भाजपा मंदिर निर्माण 2024 के ठीक पहले पूरा करवाकर इसे आगामी लोकसभा चुनाव में मुद्दा बनाएगी।

वीडियो: ग्लास-कैरी बैग पर ‘अली’ लिखा होने से मुस्लिम भीड़ का हंगामा, कहा- ‘इस्लाम को लेकर ऐसी हरकतें, बर्दाश्त नहीं करेंगे’

“हम अपने बुजुर्गों की शान में की गई गुस्ताखी को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। ये यहाँ पर रखा क्यों गया है? 10 लाख- 15 लाख, जितने भी रुपए का है ये, हम तत्काल देंगें, यहीं पर।"

पालघर नागा साधु मॉब लिंचिंग केस में कोर्ट ने गिरफ्तार 89 आरोपितों को दी जमानत: बताई ये वजह

पालघर भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 89 लोगों पर जमानत के लिए 15 हजार रुपए की राशि जमा कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने इन्हें इस आधार पर जमानत दी कि ये लोग केवल घटनास्थल पर मौजूद थे।

प्रचलित ख़बरें

निधि राजदान की ‘प्रोफेसरी’ से संस्थानों ने भी झाड़ा पल्ला, हार्वर्ड ने कहा- हमारे यहाँ जर्नलिज्म डिपार्टमेंट नहीं

निधि राजदान द्वारा खुद को 'फिशिंग अटैक' का शिकार बताने के बाद हार्वर्ड ने कहा है कि उसके कैम्पस में न तो पत्रकारिता का कोई विभाग और न ही कोई कॉलेज है।

अब्बू करते हैं गंदा काम… मना करने पर चुभाते हैं सेफ्टी पिन: बच्चियों ने रो-रोकर माँ को सुनाई आपबीती, शिकायत दर्ज

माँ कहती हैं कि उन्होंने इस संबंध में अपने शौहर से बात की थी लेकिन जवाब में उसने कहा कि अगर ये सब किसी को पता चली तो वह जान से मार देगा।

मंच पर माँ सरस्वती की तस्वीर से भड़का मराठी कवि, हटाई नहीं तो ठुकराया अवॉर्ड

मराठी कवि यशवंत मनोहर का कहना था कि उन्होंने सम्मान समारोह के मंच पर रखी गई सरस्वती की तस्वीर पर आपत्ति जताई थी। फिर भी तस्वीर नहीं हटाई गई थी इसलिए उन्होंने पुरस्कार लेने से मना कर दिया।

मारपीट से रोका तो शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी के नेता रंजीत पासवान को चाकुओं से गोदा, मौत

शाहबाज अंसारी ने भीम आर्मी नेता रंजीत पासवान की चाकू घोंप कर हत्या कर दी, जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने आरोपित के घर को जला दिया।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

केंद्रीय मंत्री को झूठा साबित करने के लिए रवीश ने फैलाई फेक न्यूज: NDTV की घटिया पत्रकारिता के लिए सरकार ने लगाई लताड़

पत्र में लिखा गया कि ऐसे संवेदनशील समय में जब किसान दिल्ली के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, उस समय रवीश कुमार ने महत्वपूर्ण तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है, जो किसानों को भ्रमित करता है और समाज में नकारात्मक भावनाओं को उकसाता है।

नॉर्वे में वैक्सीन लेने वाले 25000 में से 29 की मौत, भारत में पहले ही दिन टीका लगवाने वाले 2 लाख लोग एकदम स्वस्थ

नॉर्वे में कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। ये सभी 75 वर्ष के थे, जिनके शरीर में पहले से कई बीमारियाँ थीं।

#BanTandavNow: अमेज़ॉन प्राइम के हिंदूफोबिक प्रोपेगेंडा से भरे वेब-सीरीज़ तांडव के बहिष्कार की लोगों ने की अपील

अमेज़न प्राइम पर हालिया रिलीज सैफ अली खान स्टारर राजनीतिक ड्रामा सीरीज़ ‘तांडव’, जिसे निर्देशित किया है अली अब्बास ज़फ़र ने। अली की इस सीरीज में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया गया है।

‘अगर तलोजा वापस गए तो मुझे मार डालेंगे, अर्नब का नाम लेने तक वे कर रहे हैं किसी को टॉर्चर के लिए भुगतान’: पूर्व...

पत्नी समरजनी कहती हैं कि पार्थो ने पुकारा, "मुझे छोड़कर मत जाओ... अगर वे मुझे तलोजा जेल वापस ले जाते हैं, तो वे मुझे मार डालेंगे। वे कहेंगे कि सब कुछ ठीक है और मुझे वापस ले जाएँगे और मार डालेंगे।”

राम मंदिर निर्माण की तारीख से क्यों अटकने लगी विपक्षियों की साँसें, बदलते चुनावी माहौल का किस पर कितना होगा असर?

अब जबकि राम मंदिर निर्माण के पूरा होने की तिथि सामने आ गई है तो उन्हीं भाजपा विरोधियों की साँस अटकने लगी है। विपक्षी दल यह मानकर बैठे हैं कि भाजपा मंदिर निर्माण 2024 के ठीक पहले पूरा करवाकर इसे आगामी लोकसभा चुनाव में मुद्दा बनाएगी।

वीडियो: ग्लास-कैरी बैग पर ‘अली’ लिखा होने से मुस्लिम भीड़ का हंगामा, कहा- ‘इस्लाम को लेकर ऐसी हरकतें, बर्दाश्त नहीं करेंगे’

“हम अपने बुजुर्गों की शान में की गई गुस्ताखी को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। ये यहाँ पर रखा क्यों गया है? 10 लाख- 15 लाख, जितने भी रुपए का है ये, हम तत्काल देंगें, यहीं पर।"

रक्षा विशेषज्ञ के तिब्बत पर दिए सुझाव से बौखलाया चीन: सिक्किम और कश्मीर के मुद्दे पर दी भारत को ‘गीदड़भभकी’

अगर भारत ने तिब्बत को लेकर अपनी यथास्थिति में बदलाव किया, तो चीन सिक्किम को भारत का हिस्सा मानने से इंकार कर देगा। इसके अलावा चीन कश्मीर के मुद्दे पर भी अपना कथित तटस्थ रवैया बरकरार नहीं रखेगा।

जानिए कौन है जो बायडेन की टीम में इस्लामी संगठन से जुड़ी महिला और CIA का वो डायरेक्टर जिसे हिन्दुओं से है परेशानी

जो बायडेन द्वारा चुनी गई समीरा, कश्मीरी अलगाववाद को बढ़ावा देने वाले इस्लामी संगठन स्टैंड विथ कश्मीर (SWK) की कथित तौर पर सदस्य हैं।

पालघर नागा साधु मॉब लिंचिंग केस में कोर्ट ने गिरफ्तार 89 आरोपितों को दी जमानत: बताई ये वजह

पालघर भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) मामले में गिरफ्तार किए गए सभी 89 लोगों पर जमानत के लिए 15 हजार रुपए की राशि जमा कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने इन्हें इस आधार पर जमानत दी कि ये लोग केवल घटनास्थल पर मौजूद थे।

तब अलर्ट हो जाती निधि राजदान तो आज हार्वर्ड पर नहीं पड़ता रोना

खुद को ‘फिशिंग अटैक’ की पीड़ित बता रहीं निधि राजदान ने 2018 में भी ऑनलाइन फर्जीवाड़े को लेकर ट्वीट किया था।

‘ICU में भर्ती मेरे पिता को बचा लीजिए, मुंबई पुलिस ने दी घोर प्रताड़ना’: पूर्व BARC सीईओ की बेटी ने PM से लगाई गुहार

"हम सब जब अस्पताल पहुँचे तो वो आधी बेहोशी की ही अवस्था में थे। मेरे पिता कुछ कहना चाहते थे और बातें करना चाहते थे, लेकिन वो कुछ बोल नहीं पा रहे थे।"

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
381,000SubscribersSubscribe