Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाज3 वर्षीय 'सोनम' की जाहिद और असलम ने की निर्मम हत्या, 3 दिन तक...

3 वर्षीय ‘सोनम’ की जाहिद और असलम ने की निर्मम हत्या, 3 दिन तक सड़ता रहा शव

पूछताछ में जाहिद ने स्वीकारा कि उसने बेइज्जती का बदला लेने के लिए असलम संग मिलकर साजिश रची। 30 मई को जब बच्ची खेलते हुए जाहिद के दरवाजे पर पहुँची तो वो उसे बिस्कुट के बहाने अपने घर में ले गया। अपने घर ले जाकर उसने पूरी घटना को अंजाम दिया।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में जाहिद नाम के व्यक्ति ने अपने साथी के साथ मिलकर ‘सोनम’ (बदला हुआ नाम) नामक 3 साल की बच्ची की निर्मम हत्या कर डाली। हत्या के पीछे का कारण बच्ची के परिवार से हुई एक बहस थी, जो 10,000 के लोन के कारण हुई थी।

2 जून को बच्ची का शव बरामद करने के बाद अलीगढ़ पुलिस ने जाहिद और उसके दोस्त असलम को गिरफ्तार कर लिया है। जाँच में पता चला है कि जाहिद ने मासूम का गला दुपट्टे से दबाया और फिर उसे अपने घर मेंं
भूसे की ढेर में छिपा दिया। 3 दिन बाद जब शव से गंध आने लगी तो शव को बाहर लाकर फेंक दिया। पुलिस को बरामद हुआ ‘सोनम’ का शव पूरी तरह सड़ चुका है।

अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक सर्कल ऑफिसर पंकज श्रीवास्तव ने बताया है कि 2 जून की सुबह 3 दिन से लापता बच्ची के शव बरामद होने के बाद एसएसपी के निर्देश पर एसओजी, सर्विलांस, फील्ड यूनिट, थाना पुलिस मामले की जाँच में जुटी हुई थी।

परिजनों से पूछताछ में मोहल्ले से सटे कस्बे के एक मोहल्ले ऊपरकोट में रहने वाले जाहिद और उसके दोस्त असलम का नाम सामने आया। ‘सोनम’ के पिता ने बताया कि जाहिद ने उनसे दस हजार रुपए लिए थे। जिसको लेकर काफी बहस भी हुई थी।

पूछताछ में जाहिद ने स्वीकारा कि उसने बेइज्जती का बदला लेने के लिए असलम संग मिलकर साजिश रची। 30 मई को जब बच्ची खेलते हुए जाहिद के दरवाजे पर पहुँची तो वो उसे बिस्कुट के बहाने अपने घर में ले गया। अपने घर ले जाकर उसने पूरी घटना को अंजाम दिया। पुलिस के अनुसार दोनों आरोपितों को अपहरण, हत्या व साक्ष्य छिपाने के आरोप में जेल भेज दिया गया है। इससे घटना से पहले जाहिद पर एक दुष्कर्म का मामला भी दर्ज है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काटेंगे-मारेंगे और दिखाएँगे भी… फिर करेंगे जिम्मेदारी की घोषणा: आखिर क्यों पाकिस्तानी कानून को दिल में बसा लिया निहंग सिखों ने?

क्या यह महज संयोग है कि पाकिस्तान की तरह 'किसान' आंदोलन की जगह पर भी हुई हत्या का कारण तथाकथित तौर पर ईशनिंदा है?

डीजल डाल कर जला दिया दलित लखबीर का शव, चेहरा तक नहीं देखने दिया परिजनों को: ग्रामीणों ने किया बहिष्कार

डीजल डाल कर मोबाइल की रोशनी में दलित लखबीर सिंह के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। शव से पॉलीथिन नहीं हटाया गया। परिजन चेहरा तक न देख पाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,199FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe