Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजजो हुआ गुस्से में हुआ, अब याद नहीं... श्रद्धा वालकर मर्डर पर कोर्ट में...

जो हुआ गुस्से में हुआ, अब याद नहीं… श्रद्धा वालकर मर्डर पर कोर्ट में पलट गया आफताब, परिवार से मिलने की इजाजत भी मिली

रिपोर्ट के मुताबिक, पालीग्राफी टेस्ट के लिए आफताब ने सहमति भी दे दी है। दिल्ली पुलिस ने आफताब का पॉलीग्राफिक टेस्ट कराने के लिए फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (FSL) से संपर्क किया है।

श्रद्धा वालकर हत्याकांड के आरोपित आफताब को दिल्ली पुलिस ने मंगलवार (22 नवंबर, 2022) को अदालत में पेश किया। ऐसा लग रहा है जैसे वो एक पेशेवर अपराधी की तरह जाँचकर्ताओं को गुमराह कर रहा हो। अदालत में आफ़ताब ने कहा कि ये घटना आवेश में आकर हो गई और उसे याद भी नहीं आ रहा है कि क्या-क्या हुआ था। जबकि पुलिस के सामने उसने कबूला था कि वो एक सप्ताह पहले से ही श्रद्धा की हत्या की साजिश रच रहा था।

आफताब को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मंगलवार (22 नवंबर, 2022) को साकेत कोर्ट में पेश किया गया। इस दौरान आफताब ने कोर्ट के सामने कहा कि उसने जो भी किया, वह आवेश में आकर किया। यह भी दावा किया कि वह जाँच में पुलिस की पूरी मदद कर रहा है। हालाँकि, उसने इस घटना के संबंध में कहा कि वो सब कुछ भूल गया है और याद करने की कोशिश कर रहा है।

अपनी प्रेमिका श्रद्धा की हत्या कर उसके शव के 35 टुकड़े करने वाले आफ़ताब की पुलिस रिमांड भी 4 दिनों के लिए बढ़ा दी गई है। आफताब के वकील के मुताबिक, अदालत ने इस बयान को अपने रिकॉर्ड पर नहीं लिया है, जिसमें उसने गुस्से में ‘घटना हो जाने’ की बात कही है। अदालत ने आफ़ताब को उसके परिवार से मिलने की इजाजत भी दे दी है। इसके लिए उसने कोर्ट से निवेदन किया था।

रिपोर्ट के मुताबिक, पालीग्राफी टेस्ट के लिए आफताब ने सहमति भी दे दी है। दिल्ली पुलिस ने आफताब का पॉलीग्राफिक टेस्ट कराने के लिए फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (FSL) से संपर्क किया है। इसकी तैयारी चल रही है। एएनआई के ट्वीट के मुताबिक, आफ़ताब का मंगलवार (22 नवंबर, 2022) को पॉलीग्राफिक टेस्ट हो सकता है।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस अब एक बार फिर इस मामले में उन जंगलों में सर्च ऑपरेशन चलाएगी, जहाँ आफताब ने शव के टुकड़ों को फेंका था। पुलिस सूत्रों की माने तो आफताब लगातार जाँच को भटकाने की कोशिश कर रहा है। वह लगातार अपने बयानों को बदल रहा है। वह कई बार श्रद्धा के शव के टुकड़ों, हथियार और श्रद्धा के मोबाइल को लेकर अपने बयान बदल चुका है।

वहीं मंगलवार (22 नवंबर, 2022) को ही दिल्ली हाई कोर्ट में उस याचिका पर सुनवाई होनी है जिसमें इस वीभत्स हत्याकांड की जाँच सीबीआई (CBI) से कराने की माँग की गई थी। सीबीआई जाँच की माँग से संबंधित याचिका सोमवार (21 नवंबर 2022) को दायर की गई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अखलाक की मौत हर मीडिया के लिए बड़ी खबर… लेकिन मुहर्रम पर बवाल, फिर मस्जिद के भीतर तेजराम की हत्या पर चुप्पी: जानें कैसे...

बरेली में एक गाँव गौसगंज में तेजराम नाम के एक युवक की मुस्लिम भीड़ ने मॉब लिंचिंग कर दी। इलाज के दौरान तेजराम की मौत हो गई।

‘वन्दे मातरम’ न कहने वालों को सेना के जवान और डॉक्टर ने Whatsapp ग्रुप में कहा – पाकिस्तान जाओ: सिद्दीकी ने करवा दी थी...

शिकायतकर्ता शबाज़ सिद्दीकी का कहना है कि सेना के जवान और डॉक्टर ने मुस्लिमों की भावनाओ को ठेस पहुँचाई है, उनके भीतर दुर्भावना थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -