महिला से दोस्ती कर अमजद ने माँगी न्यूड तस्वीरें, नूर शेख के साथ मिलकर किया गैंगरेप

नजदीकियों का फायदा उठाते हुए अमजद ने महिला से उसकी नग्न तस्वीरें माँगी। तस्वीरें मिलते ही उसने महिला को ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। कहने लगा या तो महिला उससे मिले या फिर वो तस्वीरें ऑनलाइन पोस्ट कर देगा।

मुंबई में कुछ दिन पहले एक महिला के साथ गैंगरेप की घटना सामने आई थी। जिसके मद्देनजर पुलिस ने मंगलवार (17 सितंबर) को जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि इस मामले में दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इनकी पहचान 30 वर्षीय अमजद अली खान और 42 वर्षीय नूर शेख के रूप में हुई है।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक महिला सतारा की निवासी है, जिसकी एक बेटी भी है। महिला का पिछले वर्ष ही अपने पति से तलाक हुआ था, तब से ही वो अपनी बहन से मिलने के लिए मुंबई आती रहती थी। इसी दौरान उसकी जान पहचान अमजद अली खान से हुई, जो उसकी बहन का पड़ोसी था। कुछ ही मुलाकातों में दोनों के बीच नज़दीकियाँ बढ़ गईं और उनके बीच घंटों बात करने का सिलसिला शुरू हो गया।

पुलिस ने बताया कि जब भी महिला मुंबई आती तो दोनों मिलते और घूमने भी जाते। इसी दोस्ती का फायदा उठाते हुए खान ने महिला से उसकी नग्न तस्वीरें माँगी, जिसके लिए महिला मान भी गई। लेकिन जैसे ही उसे ये तस्वीरें मिलीं, उसने महिला को ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। अमजद कहने लगा या तो महिला उससे मिले या फिर वो सारी तस्वीरें ऑनलाइन पोस्ट कर देगा।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

अमजद की धमकियों से डरकर महिला मुंबई के ट्रॉम्बे पहुँची और एक टैक्सी में खान से मिली। खान इस दौरान अपने दोस्त नूर शेख के साथ था। दोनों दोस्त महिला को एक खाली कमरे में लेकर गए और वहाँ उसके साथ रेप किया। बाद में दोनों आरोपित महिला को सड़क किनारे छोड़कर फरार हो गए।

महिला ने पूरी घटना के बारे में अपनी बहन को बताया और दोनों ने पुलिस थाने पहुँचकर आरोपितों के ख़िलाफ़ FIR दर्ज करवाई। अगले ही दिन पुलिस ने दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।

ट्रॉम्बे के सीनियर इंस्पेक्टर सिद्धेश्वर ने बताया कि दोनों आरोपितों पर भारतीय दंड संहिता के तहत मामला दर्ज किया गया है। फ़िलहाल, दोनों आरोपित न्यायिक हिरासत में हैं और पीड़िता की मेडिकल जाँच रिपोर्ट का इंतजार है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: