Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजभोपाल में कोरोना सर्वे टीम से बदसलूकी, हाथों में पत्थर लेकर खदेड़ा: मस्जिद से...

भोपाल में कोरोना सर्वे टीम से बदसलूकी, हाथों में पत्थर लेकर खदेड़ा: मस्जिद से ऐलान के बाद माने लोग

भोपाल के छोला स्थित कल्याण नगर में कोरोना सर्वे करने पहुॅंची टीम के सदस्यों ने निकलने का प्रयास किया तो कुछ लोग हाथों में ईंट-पत्थर लेकर उनका पीछा करने लगे। टीम ने किसी तरह कंट्रोल रूम को घटना से अवगत कराया। पुलिस फोर्स को आते देख टीम का विरोध कर रहे लोग दरवाजे बंद कर अपने घरों में कैद हो गए।

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना सर्वे टीम के साथ बदसलूकी की खबर सामने आई है। लोगों ने दस्तावेज फाड़ने के बाद हाथों में पत्थर लेकर टीम का पीछा किया। पुलिस के कहने पर मस्जिद से की गई अपील के बाद लोग शांत हुए और टीम ने सर्वे का काम पूरा किया।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक भोपाल के छोला स्थित कल्याण नगर में गुरुवार दोपहर को आँगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की एक टीम कोरोना का सर्वे करने के लिए पहुँची। 9 सदस्यों की टीम ने दो घरों में सर्वे किया ही था कि कुछ लोग शोर मचाते हुए घरों से बाहर आ गए। इन लोगों ने दस्तावेजों को फाड़ा फिर टीम के साथ बदसलूकी की।

टीम के सदस्यों ने वहाँ से निकलने का प्रयास किया तो कुछ लोग हाथों में ईंट-पत्थर लेकर उनका पीछा करने लगे। आशा कार्यकर्ता परवीन और उसके साथी छीनाझपटी की गई। टीम ने किसी तरह कंट्रोल रूम को घटना से अवगत कराया।

सूचना मिलते ही सीएसपी और एसडीएम पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुँचे। पुलिस फोर्स को आते देख टीम का विरोध कर रहे लोग दरवाजे बंद कर अपने घरों में कैद हो गए। इसके बाद पुलिस के आग्रह पर नगर सुरक्षा समिति के सदस्य रमेश साहू ने उस्मानिया मस्जिद के हाफिज को बुलाया। हाफिज ने मस्जिद से आवाज लगाते हुए इलाके को लोगों को सर्वे की जरूरत समझाई।

करीब तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद इलाके के लोग सर्वे कराने के लिए तैयार हुए। तब कहीं जाकर 900 घरों का सर्वे हो सका। सर्वे को दौरान टीम के साथ पुलिस भी मौजूद रही। सर्वे कार्य पूरा होने के बाद टीम ने राहत की साँस ली। कंटेमेंट प्रभारी डॉ. कमलेश अहिरवार के मुताबिक, इस घटना के बाद से टीम दहशत में है।

इससे पहले बुधवार को राजस्थान के धौलपुर में लॉकडाउन का पालन कराने पर पुलिसकर्मी पर गोली चलाने की घटना सामने आई थी। पीड़ित कॉन्स्टेबल शिव चरण मीणा के मुताबिक वह धौलपुर में लॉकडाउन के दौरान ड्यूटी पर तैनात थे। इस बीच एक स्थान पर खड़े 4-5 लोगों से जब उन्होंने लॉकडाउन के नियमों का हवाला देते हुए वहाँ से हट जाने के लिए कहा तो उन्होंने गोली चला दी। इसमें शिवचरण मीणा घायल हो गए थे।

वहीं पश्चिम बंगाल के हावड़ा में भी लॉकडाउन लागू करा रहे पुलिसकर्मियों पर लोगों ने हमला कर दिया था। यह घटना बेलिलियस रोड इलाके में मंगलवार (अप्रैल 28, 2020) दोपहर बाद घटी। 27 अप्रैल को महाराष्ट्र के औरंगाबाद में मस्जिद में नमाज पढ़ने को रोकने गई पुलिस पर लोगों ने पथराव कर दिया था। इस घटना में 1 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। पथराव करने वाली भीड़ में महिलाएँ भी शामिल थीं।

आपको बता दें कि सरकार ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में शामिल स्वास्थ्यकर्मियों और पुलिसकर्मियों के साथ हिंसा को गैर जमानती अपराध बनाया है। साथ ही ऐसा करने वाले को सात साल की सजा हो सकती है। लेकिन इसके बाद भी पुलिसकर्मियों पर हमले रूक नहीं रहे हैं। देश के कई हिस्सों से चिकित्साकर्मियों और पुलिस बल पर हमले की खबरें सामने आ रही हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,090FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe