Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाज16 साल की साक्षी को साहिल ने 20 बार चाकू से गोदा, फिर पत्थर...

16 साल की साक्षी को साहिल ने 20 बार चाकू से गोदा, फिर पत्थर से सिर कुचल डाला: तमाशबीन बनी देखती रही दिल्ली, दिल दहलाने वाला CCTV

साहिल अचानक से आ गया और उसने इस वारदात को अंजाम दे दिया। घटना से एक दिन पहले साहिल और साक्षी के बीच भयंकर लड़ाई भी हुई थी।

दिल्ली में एक लड़की की निर्मम हत्या का वीडियो सामने आया है, जो सिहरन पैदा करने वाला है। शाहबाद क्षेत्र में 16 साल की नाबालिग लड़की को उसके घर के बाहर मार डाला गया। रविवार (28 मई, 2023) को हुई इस घटना का CCTV वीडियो फुटेज भी सामने आया है। मृतका की पहचान साक्षी के रूप में हुई है। रोहिणी स्थित शाहबाद डेयरी के पास साहिल नाम के युवक ने उसे 20 बार चाकू घोंपा। इसके बाद उसे पत्थर से कुचल डाला।

हैरान करने वाली बात ये है कि जब ये हैवानियत हो रही थी, तब वहाँ आसपास गुजरने वाले लोग सब कुछ देख रहे हैं और कोई बीच-बचाव करने नहीं आया। वीडियो में देखा जा सकता है कि साहिल ने पहले साक्षी पर चाकू से ताबड़तोड़ वार किया, फिर पत्थर से उसका सिर कुचल दिया। आरोपित और मृतका रिलेशनशिप में थे, ऐसा बताया जा रहा है। साक्षी घटना के समय अपनी दोस्त नीतू के बेटे के जन्मदिन की पार्टी अटेंड करने जा रही थी।

तभी साहिल अचानक से आ गया और उसने इस वारदात को अंजाम दे दिया। घटना से एक दिन पहले साहिल और साक्षी के बीच भयंकर लड़ाई भी हुई थी। इस मामले में दिल्ली पुलिस ने हत्या की धारा में FIR दर्ज कर ली है। शाहबाद डेयरी थाने में मामला दर्ज किया गया है। मृतका के पिता ने इस मामले में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस इस मामले की जाँच के साथ-साथ आरोपित की धर-पकड़ के लिए प्रयास कर रही है। घटना के बारे में जान कर लोग स्तब्ध हैं।

ये घटना तब सामने आई है, जब एक दिन पहले ही कल्याणपुरी में एक 18 साल के लड़के को लड़कों के एक समूह ने मिल कर मार डाला। दिल्ली की DCP सुमन नलवा ने जानकारी दी है कि पुलिस टीम को जाँच के लिए लगाया गया है। उन्होंने कहा कि आरोपित की पहचान कर ली गई है और उसे तुरंत गिरफ्तार किया जाएगा। आरोपित की उम्र 20 साल बताई जा रही है। घटना जेजे कॉलोनी की है। ‘दिल्ली महिला आयोग (DCW)’ की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि उन्होंने इससे भयानक कुछ नहीं देखा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बंद ही रहेगा शंभू बॉर्डर, JCB लेकर नहीं कर सकते प्रदर्शन’: सुप्रीम कोर्ट ने ‘आंदोलनजीवी’ किसानों को दिया झटका, 15 अगस्त को दिल्ली कूच...

सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब और हरियाणा के बीच शंभू बॉर्डर को अभी बंद ही रखने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा किसान JCB लेकर प्रदर्शन नहीं कर सकते।

2018, 2019, 2023, 2024… साल दर साल ‘ये मोदी सरकार का अंतिम बजट’ कह-कह कर थके संजय झा: जिस कॉन्ग्रेस ने अनुशासनहीन कह कर...

संजय झा ने 2023 के वार्षिक बजट को उबाऊ बताया था और कहा था कि ये 'विनाशकारी' भाजपा को बाय-बाय कहने का समय है, इसे इनका अंतिम बजट रहने दीजिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -