Monday, July 22, 2024
Homeराजनीति'औरंगजेब मज़हबी थे, मंदिर ढहाकर मस्जिद नहीं बनाएँगे': ज्ञानवापी पर बोले इमाम, ओवैसी को...

‘औरंगजेब मज़हबी थे, मंदिर ढहाकर मस्जिद नहीं बनाएँगे’: ज्ञानवापी पर बोले इमाम, ओवैसी को सता रहा दूसरे ‘बाबरी’ का डर

किसी गैर के इबादतगाह को और इबादतगाह तो बहुत बड़ी चीज हो गई किसी गैर के मकान पर भी नाजायज जबरन कब्जा करके मस्जिद बना दी जाए तो उसे हम मस्जिद नहीं मानते और उसमें नमाज पढ़ना सही नहीं माना जाता है।

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने रविवार (6 अगस्त, 2023) को तीसरे दिन भी ज्ञानवापी विवादित परिसर में पुरातात्विक सर्वेक्षण का काम कर रही है। आज भी सर्वे शाम 5 बजे तक चलेगा। इस बीच, मुस्लिम पक्ष ने सर्वेक्षण को लेकर झूठी खबरें प्रसारित किए जाने का आरोप लगाते हुए प्रक्रिया से अलग होने की धमकी दी है। इस मामले पर जहाँ ज्ञानवापी के जनरल सेक्रेटरी और मुख्य इमाम मुफ्ती अब्दुल बातिन नोमानी ने औरंगजेब का बचाव करते हुए कहा है कि सर्वे में त्रिशूल या हिन्दू चिन्हों का मिलाना औरंगजेब के सेक्युलरिज्म की निशानी है। वहीं ओवैसी को दूसरी ‘बाबरी’ नजर आ रही है। 

ज्ञानवापी सर्वेक्षण के इस पूरे मामले में जैसे-जैसे ASI को हिन्दू मंदिर होने के प्रमाण मिल रहे हैं वैसे-वैसे मुस्लिम पक्ष की तरफ से धमकी और तरह-तरह के बयान सामने आ रहे हैं। इस पूरे मुद्दे पर आजतक ने ज्ञानवापी के जनरल सेक्रेटरी और मुख्य इमाम मुफ्ती अब्दुल बातिन नोमानी ने बातचीत की है। जिसमें उन्होंने कहा, “वहाँ कई सालों से नमाज होती है। वह मस्जिद थी, मस्जिद है और मस्जिद ही रहेगी।”

नोमानी का दावा है, “हमारे यहाँ इस्लाम धर्म में यह कानून बना हुआ है। किसी गैर के इबादतगाह को और इबादतगाह तो बहुत बड़ी चीज हो गई किसी गैर के मकान पर भी नाजायज जबरन कब्जा करके मस्जिद बना दी जाए तो उसे हम मस्जिद नहीं मानते और उसमें नमाज पढ़ना सही नहीं माना जाता है। वहाँ मंदिर होने का, ढाँचे को गिराकर मस्जिद बनाने का कोई सवाल ही नहीं है। अगर उनकी आशंका है तो सर्वे रिपोर्ट आने दीजिए।”

हिन्दुओं के वहाँ मंदिर होने और उसे तोड़कर ज्ञानवापी विवादित ढाँचा बनाने की बात पर नोमानी ने कहा, “उनका दावा है तो उन्होंने अपनी संतुष्टि के लिए एएसआई के सर्वे की बात की है। कोर्ट ने उनकी बात मानी है। ठीक है। हमारे हिसाब से तो वह मस्जिद है। कोई ऐसी चीज है तो देखते हैं कि एएसआई के रिपोर्ट में क्या आता है।”

वहीं जब उनसे यह साफ़ सवाल किया गया कि क्या मंदिर तोड़कर मस्जिद नहीं बनाई गई? आप क्या मानते हैं? तो अब्दुल बातिन नोमानी ने कहा, “ऐसा हो ही नहीं सकता। इस्लाम में इस तरीके का कोई नियम ही नहीं है। यह औरंगजेब की बनाई गई मस्जिद है। औरंगजेब से तो खासतौर पर इस तरीके का उम्मीद नहीं रखी जा सकती है। औरंगजेब का मामला बहुत अलग था। वह बहुत ही ज्यादा मज़हबी थे। तो उनसे कतई उम्मीद नहीं रखी जा सकती है कि वह मंदिर को ढहाकर मस्जिद बनवा दें। अलबत्ता, उन्होंने मस्जिदों के साथ-साथ मठों को जमीनें दी हैं। मंदिरों को जमीन दी हैं। आज भी बनारस में बड़े-बड़े मठों में आप औरंगजेब का फरमान देख सकते हैं।”

वहीं जब पिछले दो दिन के सर्वेक्षण में मिले त्रिशूल, स्वास्तिक, घंटा और फूल के निशान पर बात की गई तो नोमानी ने कहा, “जिस किसी पत्थर में कुछ ऐसा निशान दिख रहा है। फोटोग्राफ में ऐसा लगता हो कि त्रिशूल का निशान बना हो या स्वास्तिक का निशान हो तो यह सबूत है कि उनके अंदर सेक्युलरिज्म था। वो अपने साथ हिंदू भाइयों के तमाम मजाहिब को साथ लेकर चलते थे। यही वजह है कि वो मुसलमान होकर भी इस मुल्क में आए और उन्होंने 800 साल तक इतने बड़े मुल्क में हुकूमत की।”

ओवैसी को सता रहा दूसरे ‘बाबरी’ का डर 

ऑल इंडिया मजलिए-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) नेता असदुद्दीन ओवैसी ने भी ज्ञानवापी सर्वे को लेकर शनिवार (5 अगस्त, 2023) को कहा है कि उन्हें आशंका है कि कहीं दूसरा ‘बाबरी’ न हो जाए। ओवैसी ने कहा, एएसआई की सर्वे रिपोर्ट आने के बाद बीजेपी-आरएसएस नैरेटिव सेट करेंगे। फिर क्या होगा आप जानते हैं।

ओवैसी ने कहा कि 23 दिसम्बर, 1949 को जब बाबरी मस्जिद में मूर्तियाँ रखी गईं, तो नमाज बंद हो गई। हम मस्जिद से महरूम हो गए। 6 दिसम्बर, 1992 को शिलान्यास की अनुमति दी गई और मस्जिद चली गई। हमें डर है कि एएसआई की रिपोर्ट के आने के बाद दूसरा (बाबरी मस्जिद) न हो जाए।  

ओवैसी की बातों से उनका डर साफ़ झलक रहा है। उनको अभी से यह चिंता सता रही है कि- सर्वे के बाद क्या होगा? उन्होंने सवाल किया कि सर्वे के बाद मस्जिद का रिलीजियस कैरेक्टर रहेगा या चेंज होगा? क्या नमाज़ बंद होगी? वहीं उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के बयान पर भड़के ओवैसी ने कहा कि तकलीफ है कि मुख्यमंत्री आदेश आने के पहले ही तरफदारी कर रहे हैं। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -