Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजब्रांडेड परफ्यूम, महँगी घड़ियाँ, विदेशी पैसे... हल्द्वानी के दंगाई अब्दुल मलिक के घर से...

ब्रांडेड परफ्यूम, महँगी घड़ियाँ, विदेशी पैसे… हल्द्वानी के दंगाई अब्दुल मलिक के घर से 6 ट्रकों में सामान भर कर ले गई पुलिस, घर में जिम भी बना रखा था

इस मौके पर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त थे। बताया जा रहा है कि 13 घंटे तक चली इस कार्रवाई में अब्दुल मलिक और उसके बेटे मोईद के घर का चप्पा-चप्पा छाना गया।

उत्तरखंड के हल्द्वानी में 8 फरवरी 2024 को हुई हिंसा के मुख्य आरोपित अब्दुल मलिक के घर की पुलिस ने कुर्की की है। इस कार्रवाई की जद में उसके फरार चल रहे बेटे मोईद का भी मकान आया। शनिवार (17 फरवरी, 2024) को हुई कुर्की के बाद दोनों के घरों से लगभग 6 ट्रकों में सामान जब्त हुआ है। जब्त हुए सामानों को अर्धसैनिक बलों की निगरानी में रखा गया है। प्रशासन हिंसा में शामिल अन्य फरार आरोपितों के घर की भी कुर्की की तैयारियों में जुटा हुआ है।

हल्द्वानी प्रशासन के मुताबिक कुर्की की कार्रवाई शुक्रवार (16 फरवरी 2024) से शुरू हुई थी। हालाँकि, ये एक दिन बाद शनिवार को जा कर पूरी हुई। इस मौके पर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त थे। बताया जा रहा है कि 13 घंटे तक चली इस कार्रवाई में अब्दुल मलिक और उसके बेटे मोईद के घर का चप्पा-चप्पा छाना गया। इस दौरान दरवाजे के पास रखे गए डोरमैट, गीजर, सीलिंग फैन आदि तक जब्त किए गए। दंगा आरोपित बाप-बेटे के घर से जब्त सामान लगभग 6 ट्रकों में आए। इनको पैरामिलिट्री की अभिरक्षा में रखा गया है।

बरामद हुए सामान की कीमत करोड़ों में बताई जा रही है। इनमें से विदेशी घड़ियाँ, महंगे परफ्यूम, कीमती फर्नीचर के अलावा क्रॉकरी और गाड़ियाँ शामिल हैं। हिंदुस्तान ने अपने सूत्रों के हवाले से बताया है कि कुर्की में अब्दुल मलिक के घर से विदेशी मुद्राएँ भी मिली हैं। ये मुद्राएँ बांग्लादेश, नेपाल और सऊदी अरब की बताई जा रही हैं। मलिक और उसके बेटे ने घर में कसरत के लिए जिम भी बना रखा था। इस जिम में मौजूद तमाम सामान भी पुलिस ने जब्त कर लिया है।

इसी दिन शनिवार को ही पुलिस ने हिंसा में शामिल फरार चल रहे वसीम, रईस और तस्लीम के घरों की भी कुर्की की है। अब पुलिस नीलामी योग्य सामानों की भी लिस्ट बना रही है। साथ ही इस बरामदगी की सूची अदालत में भी जमा की जाएगी। पुलिस जब्त की गई सम्पत्तियों की अनुमानित वैल्यू पता करने में भी जुटी हुई है। वहीं दूसरी तरफ पुलिस CCTV फुटेज के आधार पर अन्य दंगाइयों को चिन्हित करने में जुटी हुई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राक्षस के नाम पर शहर, जिसे आज भी हर दिन चाहिए एक लाश! इंदौर की महारानी ने बनवाया, जयपुर के कारीगरों ने बनाया: बिहार...

गयासुर ने भगवान विष्णु से प्रतिदिन एक मुंड और एक पिंड का वरदान माँगा है। कोरोना महामारी के दौरान भी ये सुनिश्चित किया गया कि ये प्रथा टूटने न पाए। पितरों के पिंडदान के लिए लोकप्रिय गया के इस मंदिर का पुनर्निर्माण महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था, जयपुर के गौड़ शिल्पकारों की मेहनत का नतीजा है ये।

मार्तंड सूर्य मंदिर = शैतान की गुफा: विद्यार्थियों को पढ़ाने वाला Unacademy का जहरीला वामपंथी पाठ, जानिए क्या है इतिहास

मार्तंड सूर्य मंदिर को 8वीं शताब्दी ईस्वी में बनाया गया था और यह हिंदू धर्म के प्रमुख सूर्य देवता सूर्य को समर्पित है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -