Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजकश्मीर में पाकिस्तान का ड्रग्स रैकेट चला रहे थे 5 पुलिसकर्मी: 17 गिरफ्तारों में...

कश्मीर में पाकिस्तान का ड्रग्स रैकेट चला रहे थे 5 पुलिसकर्मी: 17 गिरफ्तारों में कारोबारी, ठेकेदार और नेता भी शामिल

गिरफ्तार लोगों में 5 पुलिसकर्मी हैं। इसके अलावा एक स्थानीय नेता, एक ठेकेदार और एक कारोबारी भी गिरफ्तार लोगों में शामिल है। पुलिस ने 2 किलो हेरोइन भी बरामद की है।

केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर की पुलिस ने बड़ी कामयाबी हासिल की है। नशीले पदार्थों की तस्करी के मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है। ड्रग्स की यह तस्करी पाकिस्तान के जरिए हो रही थी। पुलिस ने कुपवाड़ा और बारामूला के विभिन्न इलाकों से से इस रैकेट से जुड़े 17 लोगों को गिरफ्तार किया है।

गिरफ्तार लोगों में 5 पुलिसकर्मी हैं। इसके अलावा एक स्थानीय नेता, एक ठेकेदार और एक कारोबारी भी गिरफ्तार लोगों में शामिल है। पुलिस ने 2 किलो हेरोइन भी बरामद की है।

जम्मू-कश्मीर के DGP दिलबाग सिंह ने बताया है, “इस तरह की गतिविधियों में शामिल पाए जाने वाले सभी लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, भले ही वे किसी भी विभाग के हों। हम ड्रग्स की इस चुनौती से उसी तरह निपटेंगे जैसे हमने आतंकवाद की चुनौती का सामना किया है।”

न्यूज 24 की रिपोर्ट के मुताबिक, कुपवाड़ा के SSP युगल मन्हास ने मॉड्यूल के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि एक पोल्ट्री दुकान के मालिक के बारे में सूचना मिली थी कि उसके घर में कुछ नशीला पदार्थ है। इसके बाद उसे ड्रग्स के साथ गिरफ्तार किया गया था। जाँच में खुलासा हुआ कि गिरफ्तार पोल्ट्री दुकान का मालिक ड्रग्स तस्करी के एक बड़े समूह का हिस्सा था। गिरफ्तार व्यक्ति ने कुछ ड्रग पेडलर्स और बारामूला जिले के कुछ सहयोगियों के नाम का खुलासा किया था।

SSP ने बताया कि इस ड्रग्स तस्करी रैकेट के भंडाफोड़ होने से कश्मीर में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संचालकों की सीधी संलिप्तता फिर से उजागर हुई है। दरअसल पाकिस्तान स्थित आतंकवादी हैंडलर शाकिर अली खान भारत में अपने बेटे तहमीद खान को नशीले पदार्थों का आपूर्ति करता था।

इससे पहले गुरुवार (22 दिसंबर 2022) को पुलिस ने सुरक्षा बलों के साथ मिलकर कुपवाड़ा जिले के वन क्षेत्र में आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन (HM) के पाँच आतंकवादी सहयोगियों को गिरफ्तार किया था। सुरक्षाबलों ने उनके पास से बड़ी संख्या में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -