Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजअब झारखंड के गुमला में ट्रक से पुलिसकर्मियों को रौंदने की कोशिश, 41 गोवंश...

अब झारखंड के गुमला में ट्रक से पुलिसकर्मियों को रौंदने की कोशिश, 41 गोवंश लदे थे: राँची में पशु तस्करों ने ही महिला SI को कुचला था

शंख मोड़ माझाटोली में पुलिस टीम तैनात हो गई। एक मालवाहक ट्रक और बोलेरो को रोकने की कोशिश की गई। लेकिन इन गाड़ियों ने रुकने के बजाय पुलिसकर्मियों को रौंदने का प्रयास किया और फिर आगे निकल गए।

राँची में महिला दरोगा संध्या टोपनो को वाहन से कुचलकर मार डालने के बाद अब झारखंड के गुमला में भी पशु तस्करों ने पुलिसकर्मियों को कुचलने की कोशिश की। हालाँकि, पुलिसकर्मी तत्परता दिखाते हुए मौके से पीछे हट गए, जिसकी वजह से वह बाल-बाल बच गए। लेकिन एएसआई प्रसिद्ध तिवारी के पैर में चोट आ गई।

जानकारी के मुताबिक गुमला की रायडीह थाना पुलिस को सूचना मिली थी कि तस्कर ट्रक से गोवंशीय पशु को ले जा रहे हैं। शंख मोड़ माझाटोली में पुलिस टीम तैनात हो गई। एक मालवाहक ट्रक और बोलेरो को रोकने की कोशिश की गई। लेकिन इन गाड़ियों ने रुकने के बजाय पुलिसकर्मियों को रौंदने का प्रयास किया और फिर आगे निकल गए। पुलिस टीम ने किसी तरह पीछे हटकर अपनी जान बचाई।

इसके बाद तत्काल वायरलेस पर अलर्ट जारी किया गया और पुलिस टीम तस्करों का पीछा करने लगी। भागने के प्रयास में बोलेरो दुर्घटनाग्रस्त हो गई, लेकिन चालक भाग निकला। वहीं ट्रक को रायडीह में थाना गेट के पास बैरियर लगाकर रोकने का प्रयास किया गया। यहाँ भी ट्रक ने पुलिसकर्मियों को रौंदने की कोशिश की और बैरियर तोड़ आगे बढ़ गया। पुलिस टीम ने यहाँ भी किसी तरह अपनी जान बचाई। जान बचाने में एएसआई प्रसिद्ध तिवारी के पैर के एक अँगूठे में चोट आई है। सिलम बाईपास सड़क के पास चालक ट्रक खड़ा कर फरार हो गया।

पुलिस ने दोनों वाहनों को जब्त कर लिया है। इन पर लदे 41 गोवंशीय पशुओं को पुलिस ने ग्रामीणों को बाँट दिया। इस संबंध में रायडीह थाना में मवेशी तस्कर मोहम्मद दानिश कुरैशी, चालक मोहम्मद मोजाहिद अंसारी और वाहन मालिकों के विरुद्ध झारखंड पशु क्रूरता अधिनियम समेत अन्य धाराओं के तहत FIR दर्ज की गई है। जल्द ही आरोपित तस्करों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

गौरतलब है कि इससे पहले राँची में महिला दरोगा संध्या टोपनो को वाहन से कुचलकर मार डालने का मामला सामने आया था। उन्होंने देर रात जानवरों की अवैध तस्करी की सूचना मिलने पर एक वाहन को चेकिंग के लिए रोका। लेकिन तस्करों ने उनकी सुनने की बजाय उन पर पूरी वैन चढ़ा दी। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर थाना प्रभारी समेत कई पुलिसकर्मी पहुँचे। उन्होंने संध्या को रिम्स अस्पताल में भर्ती कराया। मगर बुरी तरह कुचले जाने के कारण उन्होंने दम तोड़ दिया। संध्या टोपनो 2018 बैच की दरोगा थीं और वर्तमान में तुपुदाना ओपी के प्रभारी पद पर तैनात थीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -